Tuesday, 16 January 2018

ALLAH NE TUMHARA NAAM MUSLIM (MUSLMAN) RAKHA HAI.

अल्लाह ने तुम्हारा नाम मुस्लिम (मुसलमान) रखा है.


Maine badi koshish ki ke quran padh kar khud ko kisi jamat ya firke se sabit karun magar nakam raha.
maine tamam qurani surate padhi magar mujhe na koi shiya mila na sunni na sufi na barelavi na devbandi na hi ahle hadees.
balki jo mila wo to...

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
ALLAH ne pahle bhi tumhara naam MUSLIM rakha tha aur is (Quran) men bhi (Tumhara yahi naam hai) taki RASOOL SAW. tum par gawah ho.
Quran (Surah haj 22/78)

Maine koshish ki ke Muhmmad SAW. ki jindagi padh kar apne aap ko kisi firke ya jamat se jodu mgar yahan bhi mujhe nakami hui.

Har jagah siwaye ek MUSLMAN ke (Muslim) ke apni dusri pahchan na mili.
Agar firke ka kahi jikr aaya bhi to radd karne ke andaz men ek gunah, ek tambih ki haisiyat se.

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
Sab milkar ALLAH ki rassi ko majbuti se thaam lo aur firko men mat bato.
Quran (Surah Ale Imran 3/105)

Jin logo ne apne din ko tukde-tukde kar liya aur giroh-giroh ban gaye apka (yani nabi karim SAW.ka) inse koi talluk nahi, inka mamla ALLAH ke hawale hai wahi inhe batayega ki inhone kya kuch kiya hai.
Quran (Surah Anaam 6/159)

In sab wajeh ahkaamat ke bavjud aaj ham muslman ke alawa sab kuch hai.
Ham firko men itne buri tarah se fans gaye hai ke hamari shinakhat hi gum ho gaye hai.

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
Phir inhone khud hi apne din ke tukde-tukde kar liye har giroh jo kuch iske pas hai isi men magan hai.
Quran (Surah Mominun 23/53)

Ham hamare aapsi ikhtilaf ko ALLAH ke hawale kyun nahi karte khud faisala karne baith jate hai.

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
Tumhare darmiyan jis mamle men bhi ikhtilaf ho uska faisla karna ALLAH ka kaam hai.
Quran (Surah Shoora 42/10)

Balki hamen to ye hukm diya gaya hai.

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
Beshak sare muslman bhai-bhai hai, apne bhaiyo men sulah wa milap kara diya karo aur ALLAH se darte raho taki tum par raham kiya jaye.
Quran (Surah Hujurat 49/10)

--------------------------------------------------

मैने बड़ी कोशिश की के क़ुरान पढ़ कर खुद को किसी जमात या फिरके से साबित करूँ मगर नाकाम रहा.
मैने तमाम क़ुरानी सूरते पढ़ी मगर मुझे ना कोई शिया मिला ना सुन्नी ना सूफ़ी ना बरेलवी ना देवबंदी ना ही अहले हदीस.
बल्कि जो मिला वो तो...

इरशादे बारी त'आला है.
अल्लाह ने पहले भी तुम्हारा नाम मुस्लिम रखा था और इस (क़ुरान) में भी (तुम्हारा यही नाम है) ताकि रसूल सल्ल. तुम पर गवाह हो
क़ुरान (सुराह हज 22/78)

मैने कोशिश की के मुहम्मद सल्ल. की जिंदगी पढ़ कर अपने आप को किसी फिरके या जमात से जोड़ू मगर यहाँ भी मुझे नाकामी हुई.

हर जगह सिवाए एक मुसलमान के (मुस्लिम) के अपनी दूसरी पहचान ना मिली.
अगर फिरके का कही ज़िक्र आया भी तो रद्द करने के अंदाज़ में एक गुनाह, एक तम्बीह की हैसियत से.

इरशादे बारी त'आला है.
सब मिलकर अल्लाह की रस्सी को मजबूती से थाम लो और फिर्को में मत बतो.
क़ुरान (सुराह अले इमरान 3/105)

जिन लोगो ने अपने दिन को टुकड़े-टुकड़े कर लिया और गिरोह-गिरोह बन गये आपका (यानि नबी करीम सल्ल.का) इनसे कोई ताल्लुक नही, इनका मामला अल्लाह के हवाले है वही इन्हे बताएगा की इन्होने क्या कुछ किया है.
क़ुरान (सुराह अनाम 6/159)

इन सब वजेह अहकामत के बावजूद आज हम मुसलमान के अलावा सब कुछ है.
हम फिर्को में इतने बुरी तरह से फँस गये है के हमारी शिनाखत ही गुम हो गये है.

इरशादे बारी त'आला है.
फिर इन्होने खुद ही अपने दिन के टुकड़े-टुकड़े कर लिए हर गिरोह जो कुछ इसके पास है इसी में मगन है.
क़ुरान (सुराह मोमिनून  23/53)

हम हमारे आपसी इख्तिलाफ को अल्लाह के हवाले क्यूँ नही करते खुद फ़ैसला करने बैठ जाते है.

इरशादे बारी त'आला है.
तुम्हारे दरमियान जिस मामले में भी इख्तिलाफ हो उसका फ़ैसला करना अल्लाह का काम है.
क़ुरान (सुराह शूरा 42/10)

बल्कि हमें तो ये हुक्म दिया गया है.

इरशादे बारी त'आला है.
बेशक सारे मुसलमान भाई-भाई है, अपने भाइयो में सुलह वा मिलाप करा दिया करो और अल्लाह से डरते रहो ताकि तुम पर रहम किया जाए.
क़ुरान (सुराह हुजूरत 49/10)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

Saturday, 13 January 2018

10 LAAKH NEKIYAN, 10 LAAKH CHOTE GUNAH MAAF AUR 10 LAAKH DARJE BULAND.

१० लाख नेकिया, १० लाख छोटे गुनाह माफ़ और १० लाख दर्जे बुलंद।


FARMANE NABVI HAI.
"Jo Baazaar mein daakhil huaa aur usne (Yah Dua) kahi to ALLAH uske liye 10 Laakh Nekiyan likh dega, uske 10 Laakh (Chote) Gunah maaf kar dega, aur uske 10 Laakh Darje Buland kar dega.

لَا إِلَهَ إِلاَّ اللَّهُ وَحْدَهُ لَا شَرِيكَ لهُ، لَهُ الْمُلْكُ وَلهُ الْحَمْدُ، يُحْيِي وَيُمِيتُ وَهُوَ حَيٌّ لَا يَمُوتُ، بِيَدِهِ الْخَيْرُ وَهُوَ عَلَى كُلِّ شَيْءٍ قَدِيرٌ
Laa 'ilaaha 'illallaahu wahdahu laa shareeka lahu, lahul-mulku wa lahul-hamdu, yuhyee wa .yumeetu, wa Huwa hayyun laa yamootu, biyadihil-khayru, wa Huwa 'alaa kulli shay'in Qadeer

Trjuma : ALLAH ke siwa koi sachcha maabood nahi hai, wah akela hai us ka koi sharik nahi, usi ki badshahat aur usi ki sab tarif hai, wahi zinda karta aur wahi maarta hai, aur wah zinda hai, marta nahi, har bhalayi usi ke haath Mein hai, aur wah har chij par puri qudrat rakhta hai.

Hadees  ( Tirmizi : 3428 )
Sirf 20 Second Mein, Jab Bhi Aap Baazaar (Market) Mein Daakhil Ho.


फरमाने नबवी है 
जो बाजार में दाखिल हुआ और उसने (ये दुआ)  कही तो अल्लाह उसके लिए १० लाख नेकिया लिखा देगा उसके १० लाख (छोटे) गुनाह माफ़ कर देगा और उसके १० लाख दर्जे बुलंद कर देगा. 

لَا إِلَهَ إِلاَّ اللَّهُ وَحْدَهُ لَا شَرِيكَ لهُ، لَهُ الْمُلْكُ وَلهُ الْحَمْدُ، يُحْيِي وَيُمِيتُ وَهُوَ حَيٌّ لَا يَمُوتُ، بِيَدِهِ الْخَيْرُ وَهُوَ عَلَى كُلِّ شَيْءٍ قَدِيرٌ
ला इला-ह इल्लल्लाहु  वह्-दहू  ला शरी-क लहू,  लहुल् मुल्कु  व लहुल् हम्दु  युह्यी व युमीतु  व हु-व हय्युन् ला यमूतु बियदिहिल्-खै़रु  व हु-व अ़ला कुल्लि शैइन् क़दीर०

तर्जुमा : अल्लाह के सिवा कोई सच्चा माबूद नही है, वह अकेला है उस का कोई शरीक नहीं,  उसी की बादशाहत और उसी की सा तारीफ है, वही जिन्दा करता और मारता है, और वह जिन्दा है, मरता नहीं, हर भलाई उसी के हाथ में है, और वह हर चीज पर क़ुदरत रखता है.

हदीस  ( तिर्मिज़ी : 3428 )
सिर्फ 20 सेकंड  में , जब  भी  आप  बाज़ार (Market) में  दाखिल  हो.
Note: Kabira (Bade) Gunah Sachchi Touba तौबा Se Maaf Hote Hain.
Dua yaad kijiye. Yaad karne ka aasaan tarika yeh hai ki is dua ko 15 baar pado IN SHAA ALLAH yaad ho jayegi.

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

Wednesday, 8 February 2017

KAH DIJIYE APNI DALIL LAO AGAR TUM SACHCHE HO.

कह दीजिए अपनी दलील लाओ अगर तुम सच्चे हो.

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
اَمَّنْ خَلَقَ السَّمٰوٰتِ وَالْاَرْضَ وَاَنْزَلَ لَكُمْ مِّنَ السَّمَاۗءِ مَاۗءً  ۚ فَاَنْۢبَتْنَا بِهٖ حَدَاۗىِٕقَ ذَاتَ بَهْجَةٍ  ۚ مَا كَانَ لَكُمْ اَنْ تُنْۢبِتُوْا شَجَـرَهَا  ۭ ءَاِلٰهٌ مَّعَ اللّٰهِ  ۭ بَلْ هُمْ قَوْمٌ يَّعْدِلُوْنَ   60۝ۭ
اَمَّنْ جَعَلَ الْاَرْضَ قَرَارًا وَّجَعَلَ خِلٰلَهَآ اَنْهٰرًا وَّجَعَلَ لَهَا رَوَاسِيَ وَجَعَلَ بَيْنَ الْبَحْرَيْنِ حَاجِزًا  ۭءَ اِلٰهٌ مَّعَ اللّٰهِ  ۭ بَلْ اَكْثَرُهُمْ لَا يَعْلَمُوْنَ    61۝ۭ
اَمَّنْ يُّجِيْبُ الْمُضْطَرَّ اِذَا دَعَاهُ وَيَكْشِفُ السُّوْۗءَ وَيَجْعَلُكُمْ خُلَـفَاۗءَ الْاَرْضِ ۭءَاِلٰهٌ مَّعَ اللّٰهِ ۭ قَلِيْلًا مَّا تَذَكَّرُوْنَ   62۝ۭ
اَمَّنْ يَّهْدِيْكُمْ فِيْ ظُلُمٰتِ الْبَرِّ وَالْبَحْرِ وَمَنْ يُّرْسِلُ الرِّيٰحَ بُشْرًۢا بَيْنَ يَدَيْ رَحْمَتِهٖ  ۭ ءَاِلٰهٌ مَّعَ اللّٰهِ  ۭ تَعٰلَى اللّٰهُ عَمَّا يُشْرِكُوْنَ  ۝ 63.
اَمَّنْ يَّبْدَؤُا الْخَلْقَ ثُمَّ يُعِيْدُهٗ وَمَنْ يَّرْزُقُكُمْ مِّنَ السَّمَاۗءِ وَالْاَرْضِ  ۭ ءَاِلٰهٌ مَّعَ اللّٰهِ  ۭ قُلْ هَاتُوْا بُرْهَانَكُمْ اِنْ كُنْتُمْ صٰدِقِيْنَ   .64؀
قُلْ لَّا يَعْلَمُ مَنْ فِي السَّمٰوٰتِ وَالْاَرْضِ الْغَيْبَ اِلَّا اللّٰهُ  ۭ وَمَا يَشْعُرُوْنَ اَيَّانَ يُبْعَثُوْنَ   65؀
"Bhala batao? Kisne jamin aur aasman banaye aur tumhare liye aasman se pani utara phir  ham ne us se rounak wale baag lagaye tumhara kaam na tha ki un ke ped ugaate kya ALLAH ke sath koi aur bhi mabud hai balki ye log bhatke huye hai.
Bhala jamin ko thahrane ki jagah kis ne banaya aur us men nadiya jari ki aur jamin ke langar (pahaad) banaye aur do dariyao men parda rakha (Yani mitha aur khara pani alag kiya) Kya ALLAH ke sath koi aur bhi mabud hai balki aksar un men samajh nahi rakhte.
Bhala koun hai jo dua karne wale ki dua kabool karta hai aur burai ko door karta hai aur tumhe jamin men nayab banata hai Kya ALLAH ke sath koi aur mabud bhi hai? tum bahut hi kam samajhte ho.
Bhala koun hai jo tumhe jangal aur dariya ke andhero men rasta batata hai aur apni rahmat se pahle koun khush khabri ki hawaye chalata hai, kya ALLAH ke sath aur koi mabud hai? ALLAH Ta'ala un ke shirk karne se bahut buland hai.
Bhala koun hai jo dobara khilkat ko paida karta hai phir use dobara banayega aur koun hai jo tumhe aasmaan aur jamin se rozi deta hai kya ALLAH ke sath koi aur mabud hai? KAH DIJIYE APNI DALIL LAO AGAR TUM SACHCHE HO.
Kah do ALLAH ke siwa aasmano aur jamin men koi bhi gaib ki baat nahi janta aur unhe to us ki bhi khabar nahi ki wo kab uthaye jayege"
QURAN (Surah Namal 27/60-65)

 
इरशादे बारी त'आला है.
"भला बताओ किसने ज़मीन और आसमान बनाए और तुम्हारे लिए आसमान से पानी उतारा फिर  हम ने उस से रौनक वाले बाग लगाए तुम्हारा काम ना था की उन के पेड़ उगाते क्या अल्लाह के साथ कोई और भी माबूद है बल्कि ये लोग भटके हुए है.
भला ज़मीन को ठहरने की जगह किस ने बनाया और उस में नदिया जारी की और ज़मीन के लंगर (पहाड़) बनाए और दो दरियाओ में परदा रखा (यानी मीठा और खारा पानी अलग किया) क्या अल्लाह के साथ कोई और भी माबूद है? बल्कि अक्सर उन में समझ नही रखते.
भला कौन है जो दुआ करने वाले की दुआ कबूल करता है और बुराई को दूर करता है और तुम्हे ज़मीन में नायाब बनाता है क्या अल्लाह के साथ कोई और माबूद भी है? तुम बहुत ही कम समझते हो.
भला कौन है जो तुम्हे जंगल और दरिया के अंधेरो में रास्ता बताता है और अपनी रहमत से पहले कौन खुश खबरी की हवाए चलाता है, क्या अल्लाह के साथ और कोई माबूद है? अल्लाह त'आला उन के शिर्क करने से बहुत बुलंद है.
भला कौन है जो दोबारा खिल्कत को पैदा करता है फिर उसे दोबारा बनाएगा और कौन है जो तुम्हे आसमान और ज़मीन से रोज़ी देता है क्या अल्लाह के साथ कोई और माबूद है? कह दीजिए अपनी दलील लाओ अगर तुम सच्चे हो
कह दो अल्लाह के सिवा आसमानो और ज़मीन में कोई भी गैब की बात नही जानता और उन्हे तो उस की भी खबर नही की वो कब उठाए जाएगे"
क़ुरान (सुराह नमाल 27/60-65)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

KYA TUM SOCHTE NAHI.

क्या तुम सोचते नही.

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
اَفَمَنْ يَّخْلُقُ كَمَنْ لَّا يَخْلُقُ ۭ اَفَلَا تَذَكَّرُوْنَ 
وَاِنْ تَعُدُّوْا نِعْمَةَ اللّٰهِ لَا تُحْصُوْهَا  ۭ اِنَّ اللّٰهَ لَغَفُوْرٌ رَّحِيْمٌ 
وَاللّٰهُ يَعْلَمُ مَا تُسِرُّوْنَ وَمَا تُعْلِنُوْنَ      
وَالَّذِيْنَ يَدْعُوْنَ مِنْ دُوْنِ اللّٰهِ لَا يَخْلُقُوْنَ شَيْـــًٔـا وَّهُمْ يُخْلَقُوْنَ     
0اَمْوَاتٌ غَيْرُ اَحْيَاۗءٍ  ۚ وَمَا يَشْعُرُوْنَ  ۙ اَيَّانَ يُبْعَثُوْنَ     
Phir kya jo paida kare us ke barabar hai jo kuch bhi paida na kare KYA TUM SOCHTE NAHI.
Aur agar tum ALLAH ki neamato ko ginna chaho to gin nahi sakte Beshak ALLAH bakhshane wala mehrban hai.
Aur ALLAH janta hai jo tum chupate ho aur jo tum jahir karte ho.
Aur jinhe ALLAH ke siwa pukarte ho we kuch bhi paida nahi kar sakte aur we khud paida kiye huye hai.
Wo to murde hai jin men jaan nahi hai aur wo to ye bhi nahi jante ki we kab uthaye jayege.

QURAN (Surah Nahal 16/17-21)


इरशादे बारी त'आला है.
फिर क्या जो पैदा करे उस के बराबर है जो कुछ भी पैदा ना करे क्या तुम सोचते नही.
और अगर तुम अल्लाह की नेअमतो को गिनना चाहो तो गिन नही सकते बेशक अल्लाह बख्शने वाला मेहरबान है.
और अल्लाह जनता है जो तुम छुपाते हो और जो तुम जाहिर करते हो.
और जिन्हे अल्लाह के सिवा पुकारते हो वे कुछ भी पैदा नही कर सकते और वे खुद पैदा किए हुए है.
वो तो मुर्दे है जिन में जान नही है और वो तो ये भी नही जानते की वे कब उठाए जाएगे.

क़ुरान (सुराह नहल 16/17-21)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

KYA ALLAH NE KAHA MERE ALAWA AUR MABOOD KARAR DELO .

क्या अल्लाह ने कहा मेरे अलावा और माबूद करार देलो .


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
 وَاِذْ قَالَ اللّٰهُ يٰعِيْسَى ابْنَ مَرْيَمَ ءَاَنْتَ قُلْتَ لِلنَّاسِ اتَّخِذُوْنِيْ وَاُمِّيَ اِلٰــهَيْنِ مِنْ دُوْنِ اللّٰهِ ۭ قَالَ سُبْحٰنَكَ مَا يَكُوْنُ لِيْٓ اَنْ اَقُوْلَ مَا لَيْسَ لِيْ ۤ بِحَقٍّ  ڲ اِنْ كُنْتُ قُلْتُهٗ فَقَدْ عَلِمْتَهٗ  ۭ تَعْلَمُ مَا فِيْ نَفْسِيْ وَلَآ اَعْلَمُ مَا فِيْ نَفْسِكَ ۭاِنَّكَ اَنْتَ عَلَّامُ الْغُيُوْبِ
Aur jab ALLAH kahega ai isa ibne maryam! Kya tune logo se kaha tha ki ALLAH ke siwa mujhe aur meri maa ko mabood bana lo? to we jawab dege ki "SUBHAN ALLAH"! mera yah kaam na tha ki wah baat kahta jis ke kahne ka mujhe hak na tha. agar meine aisi baat kahi hoti to aap ko jarur ilm hota. aap jante hai jo kuch mere dil men hai
مَا قُلْتُ لَهُمْ اِلَّا مَآ اَمَرْتَنِيْ بِهٖٓ اَنِ اعْبُدُوا اللّٰهَ رَبِّيْ وَرَبَّكُمْ ۚ وَكُنْتُ عَلَيْهِمْ شَهِيْدًا مَّا دُمْتُ فِيْهِمْ ۚ فَلَمَّا تَوَفَّيْتَنِيْ كُنْتَ اَنْتَ الرَّقِيْبَ عَلَيْهِمْ  ۭواَنْتَ عَلٰي كُلِّ شَيْءٍ شَهِيْدٌ
aur men nahi janta jo kuch aap ke dil men hai. aap sari chupi hakikato ke janane wale hai. maine un se is ke siwa kuch nahi kaha jis ka aap ne mujhe hukm diya tha, yah ki ALLAH ki ibadat karo jo mera bhi rab hai aur tumhara bhi.QURAN (Surah Maida 5/116-117)



इरशादे बारी त'आला है.
और जब अल्लाह कहेगा ऐ ईसा इब्ने मरयम! क्या तूने लोगो से कहा था की अल्लाह के सिवा मुझे और मेरी माँ को माबूद बना लो? तो वे जवाब देगे की "सूबहान अल्लाह"! मेरा यह काम ना था की वह बात कहता जिस के कहने का मुझे हक ना था. अगर मेने ऐसी बात कही होती तो आप को ज़रूर इल्म होता. आप जानते है जो कुछ मेरे दिल में है
और में नही जनता जो कुछ आप के दिल में है. आप सारी छुपी हक़ीकतो के जानने वाले है. मैने उन से इस के सिवा कुछ नही कहा जिस का आप ने मुझे हुक्म दिया था, यह की अल्लाह की इबादत करो जो मेरा भी रब है और तुम्हारा भी.क़ुरान (सुराह मईदा 5/116-117)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

ALLAH KA AZAB DARNE KI CHIJ HAI.


अल्लाह का अज़ाब डरने की चीज़ है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
اُولٰۗىِٕكَ الَّذِيْنَ يَدْعُوْنَ يَبْتَغُوْنَ اِلٰى رَبِّهِمُ الْوَسِـيْلَةَ اَيُّهُمْ اَقْرَبُ وَيَرْجُوْنَ رَحْمَتَهٗ وَيَخَافُوْنَ عَذَابَهٗ  ۭ اِنَّ عَذَابَ رَبِّكَ كَانَ مَحْذُوْرًا قُلِ ادْعُوا الَّذِيْنَ زَعَمْتُمْ مِّنْ دُوْنِهٖ فَلَا يَمْلِكُوْنَ كَشْفَ الضُّرِّ عَنْكُمْ وَلَا تَحْوِيْلًا 
Kah dijiye ke ALLAH ke siwa jinhe tum mabood samajh rahe ho unhe pukaro lekin na to wo tum se kisi taklif ko door kar sakte hai aur na badal sakte hai.
Jinhe ye log pukarate hai wo khud apne rab ki nazdiki ki koshish men lage rahte hai ke un men se koun jyada nazdik ho jaye wo khud us ki rahmat ki ummid rakhte aue us ke azab se khoufjda rahte hai
(Baat bhi yahi hai) ke tere rab ka azab darne ki chij hai.

QURAN (Surah Isra 17/56-57)


इरशादे बारी त'आला है.
कह दीजिए के अल्लाह के सिवा जिन्हे तुम माबूद समझ रहे हो उन्हे पुकारो लेकिन ना तो वो तुम से किसी तकलीफ़ को दूर कर सकते है और ना बदल सकते है.
जिन्हे ये लोग पुकारते है वो खुद अपने रब की नज़दीकी की कोशिश में लगे रहते है के उन में से कौन ज़्यादा नज़दीक हो जाए वो खुद उस की रहमत की उम्मीद रखते हुए उस के अज़ाब से ख़ौफजदा रहते है
(बात भी यही है) के तेरे रब का अज़ाब डरने की चीज़ है.
क़ुरान (सुराह इसरा 17/56-57)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

DOBARA UTHAYE JANE PAR IMAAN.


दोबारा उठाए जाने पर ईमान.


Yani marne ke baad dobara uthaye ka din wo hoga jis din sur funka jayega aur hisab aur kitab ke liye sari kayanaat ko ek maidan men jama kar liya jayega aur kitab aur sunnat ke bare men imaan aur islam ke bare men pucha jayega.
IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
وَ يَوْمَ يُنْفَخُ فِي الصُّوْرِ فَفَزِعَ مَنْ فِي السَّمٰوٰتِ وَمَنْ فِي الْاَرْضِ اِلَّا مَنْ شَاۗءَ اللّٰهُ  ۭ وَكُلٌّ اَتَوْهُ دٰخِرِيْنَ    
Jis din sur funka jayega sab ke sab aasmano wale aur jamin wale ghabra uthege.
QURAN (Surah Namal 27/87)

وَنُفِخَ فِي الصُّوْرِ فَصَعِقَ مَنْ فِي السَّمٰوٰتِ وَمَنْ فِي الْاَرْضِ اِلَّا مَنْ شَاۗءَ اللّٰهُ ۭ ثُمَّ نُفِخَ فِيْهِ اُخْرٰى فَاِذَا هُمْ قِيَامٌ يَّنْظُرُوْنَ   
Aur sur funk diya jayega pas aasmano aur jamin wale sab behosh ho kar gir padege magar jise ALLAH chahe phir dobara sur funka jayega pas wo ek dam khade ho kar dekhane lag jayege.QURAN (Surah Zumar 39/68)

FARMANE NABVI HAI.
us roj suraj logo ke bahut karib ho jayega aur log apne-apne aamal ke hisab se apne pasine men dub jayege yahan tak ke kuch log gardano tka dube huye honge,HADEES (Sahi'h Targhib wa-al-Tarhib : 3587)


यानि मरने के बाद दोबारा उठाए जाने का दिन वो होगा जिस दिन सुर फूँका जाएगा और हिसाब और किताब के लिए सारी कायनात को एक मैदान में जमा कर लिया जाएगा और किताब और सुन्नत के बारे में ईमान और इस्लाम के बारे में पूछा जाएगा.
इरशादे बारी त'आला है.
जिस दिन सुर फूँका जाएगा सब के सब आसमानो वाले और ज़मीन वाले घबरा उठेगे.
क़ुरान (सुराह नम्ल 27/87)

और सुर फूँक दिया जाएगा पस आसमानो और ज़मीन वाले सब बेहोश हो कर गिर पड़ेंगे मगर जिसे अल्लाह चाहे फिर दोबारा सुर फूँका जाएगा पस वो एक दम खड़े हो कर देखने लग जाएगे.क़ुरान (सुराह जुमर 39/68)

फरमाने नब्वी है.
उस रोज सूरज लोगो के बहुत करीब हो जाएगा और लोग अपने-अपने आमाल के हिसाब से अपने पसीने में डूब जाएगे यहाँ तक के कुछ लोग गर्दनो तक डूबे हुए होंगे,हदीस (सही'ह तार्घिब वा-अल-तरहिब : 3587)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}