Saturday, 29 November 2014

MOZIZAT (CHAMTKAR) NABI KARIM SALLALLAHU ALAYHI WASALLAM KA LAKDI KO TALWAR MEN BADLNA

Hazrat Ukasha Razi Allahu Anhu Se Rivayat hai.
Jang E Badar men meri talwar tut gai men NABI KARIM SAW. ke pas hajir hua aap ne mujhe ek ud ki lakdi di aur farmaya isse lado,
wo lakdi chamkati huye talwar men badal gai men fatah hone tak ladta raha,
yeh talwar ukasha ke pas unki wafat tak mojud rahi.

Hadees (Hakim : Bab qatl abi zahal 3/S 308)

Hazrat Bara'a Bin Aazib Razi Allahu Anhu Se Rivayat hai.
Jab NABI KARIM SAW. Madina tashrif la rahe the to suraka ne aap ka picha kiya aap ne baddua ki to uska ghoda jamin men dhns gaya,
suraka ne arj kiya Allah se meri nijat ki dua farmaye men apko taklif nahi pahuchaunga aap ne dua ki to ghoda jamin se bahar nikal aaya.

Hadees (Bukhari : Bab Hijartunnabi)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN......

मोज़ीज़ात (चमत्कार) नबी करीम सललाल्लाहू आलेही वासल्लम का लकड़ी को तलवार में बदलना

हज़रत उकाशा रज़ी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है.
जंग ए बदर में मेरी तलवार टूट गई में नबी करीम सल्ल. के पास हाजिर हुआ आप ने मुझे एक उद की लकड़ी दी और फरमाया इससे लडो,
वो लकड़ी चमकती हुए तलवार में बदल गई में फ़तह होने तक लड़ता रहा,
यह तलवार उकाशा रज़ी. के पास उनकी वफात तक मोजूद रही.

हदीस (हकीम : बाब क़त्ल अबी ज़हल 3/स 308)

हज़रत बराअ बिन आज़िब रज़ी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है.
जब नबी करीम सल्ल. मदीना तशरीफ़ ला रहे थे तो सुराका ने आप का पीछा किया आप ने बद्दुआ की तो उसका घोड़ा ज़मीन में धन्स गया,
सुराका ने अर्ज़ किया अल्लाह से मेरी निजात की दुआ फरमाये में आपको तकलीफ़ नही पहुचाउँगा आप ने दुआ की तो घोड़ा ज़मीन से बाहर निकल आया.

हदीस (बुखारी : बाब हिजरतून्नबी)

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये अमीन

MOZIZAT (CHAMTKAR) NABI KARIM SALLALLAHU ALAYHI WASALLAM KA BAKRI KA DUDH DUHANA.

Hazrat Abdullaha Bin Masud Razi Allahu Anhu Se Rivayat hai.
Men Ukaba ki bakriya chraya karta tha ek din NABI KARIM SALLALLAHU ALAYHI WASALLAM aur hazrat abubakr tashrif laye,
dono ne mujhse pucha kya pine ke liye kuch dudh hai mene kaha ye bakriya amanat hai men apko dudh nahi pila sakta aap ne farmaya kya koi aisi bakri ka bachchi hai jo abhi nar se juft na hui ho,
men ek bakri unke pas le aya apne uske thano par hath fera aur Allah se dua mangi thano men dudh bhar aya apne ek pyale men dudh duha aur khub piya mene bhi piya phir apne thano ko farmaya khali ho ja wo khali ho gaye mene kaha mujhe bhi ye dua sikha di jiye,
apne farmaya tum aqlmand ho tumhe sikhni chahiye,
Iman lane ke bad mene aap se 70 surte sikhi jinme mujhse koi bahas nahi kar sakta

Hadees (Musnad Ahmad Sifwtussafwa : 1S 181)

Hazrat Hubesh bin Khalid Razi Allahu Anhu Se Rivayat hai.
NABI KARIM SALLALLAHU ALAYHI WASALLAM ne jab hijrat ki to ek kheme ke pas gujre unse kuch khane ke kiye manga par na mila apne ek bakri dekhi jo bahut kamjor aur dudh nahi deti thi apne thano par hath fera aur bismillah padh kar Allah se dua farmaye bartan men dudh duha to bartan pura bhar gaya sabne khub sair ho kar piya aap phir hizrat par rawana ho gaye.

Hadees (Mishkatul Msabih : 3/5943)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN...

मोज़ीज़ात (चमत्कार) नबी करीम सललाल्लाहू आलेही वासल्लम का बकरी का दूध दुहना.

हज़रत अब्दुल्लाहा बिन मसूद रज़ी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है.
में उकबा की बकरिया चराया करता था एक दिन नबी करीम सललाल्लाहू आलेही वासल्लम और हज़रत अबूबक्र तशरीफ़ लाए,
दोनो ने मुझसे पूछा क्या पीने के लिए कुछ दूध है मेने कहा ये बकरिया अमानत है में आपको दूध नही पीला सकता आप ने फरमाया क्या कोई ऐसी बकरी का बच्ची है जो अभी नर से जूफ़्त ना हुई हो,
में एक बकरी उनके पास ले आया अपने उसके थनो पर हाथ फेरा और अल्लाह से दुआ माँगी थनो में दूध भर आया अपने एक प्याले में दूध दूहा और खूब पिया मेने भी पिया फिर अपने थनो को फरमाया खाली हो जा वो खाली हो गये मेने कहा मुझे भी ये दुआ सीखा दी जिये,
अपने फरमाया तुम अक़्ल्मन्द हो तुम्हे सीखनी चाहिए,
ईमान लाने के बाद मेने आप से 70 सूरते सीखी जिनमे मुझसे कोई बहस नही कर सकता.

हदीस (मुसनद अहमद सिफवतुस्सफवा : 1स 181)

हज़रत हूबेश बिन खालिद रज़ी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है.
नबी करीम सललाल्लाहु आलेही वासल्लम ने जब हिजरत की तो एक खेमे के पास गुज़रे उनसे कुछ खाने के किए माँगा पर ना मिला अपने एक बकरी देखी जो बहुत कमजोर और दूध नही देती थी अपने थनो पर हाथ फेरा और बिस्मिल्लाह पढ़ कर अल्लाह से दुआ फारमाइ बर्तन में दूध दूहा तो बर्तन पूरा भर गया सबने खूब सैर हो कर पिया आप फिर हिज़रत पर रवाना हो गये.
हदीस (मिशकतुल मसाबीह : 3/5943)

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये
अमीन..

NABI KARIM SALLALLAHU ALAYHI WASALLAM KE MOZIZAT (CHAMTKAR)

Hazrat Jabir bin samura Razi Allahu Anhu Se Rivayat hai.
NABI KARIM SALLALLAHU ALAYHI WASALLAM ne farmaya.

Men makka ke us patthar ko janta hun jo mujhe nabuwat se pahle salam kiya karta tha men ab bhi use pahchanta hu.
Hazrat Abu Musa Razi Allahu Anhu Se Rivayat hai.
Jab aap bachpan hi men sham ke safar par apne chacha ke sath gaye the aap ka kafila bashra nami jagah par ruka to ek rahib ne bataya ke sare ped (Tree) aur patthar apke ahtram men jhuk gaye.
rahib jab khana le kar aaya aap ko bulaya to ek badal aap ke upar saya kiye tha jab aap khana khane ek ped ke niche baithe to ped ka saya aap ke liye jhuk gaya rahib ne logo se kaha dekho saya is bachche ke liye jhuk gaya.
rahib ne aap ka hath pakad liya aur kaha ye sayydul lil alamin hai, ye Rabbul alamin ke rasool hai,
Allah Ta'ala inhe Rahmtul lil alamin banakar bhejega.

(Tirmizi : 3/2862)

Halanki apko us waqt nabuwat ka ilm nahi tha lekin Allah ke yaha apki nabuwat us samay te ho chuki thi jab aadam alehisalam pani aur mitti ke marhale men the ruh phunki ja chuki thi lekin badan men harkat nahi thi
aap ka khatimun nabiyyin hona bhi tab hi te ho chuka tha.

(Mishkatul Msabih : 5759)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN....

नबी करीम सललाल्लाहू आलेही वासल्लम के मोज़ीज़ात (चमत्कार)

हज़रत जाबिर बिन समुरा रज़ी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है.
नबी करीम सललाल्लाहू आलेही वासल्लम ने फरमाया.

में मक्का के उस पत्थर को जानता हूँ जो मुझे नबुवत से पहले सलाम किया करता था में अब भी उसे पहचानता हू.

हज़रत अबू मूसा रज़ी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है.
जब आप बचपन ही में शाम के सफ़र पर अपने चचा के साथ गये थे आप का काफिला बशरा नामी जगह पर रुका तो एक राहिब ने बताया के सारे पेड़ और पत्थर आपके एहतराम में झुक गये.
राहिब जब खाना ले कर आया आप को बुलाया तो एक बदल आप के उपर साया किए था जब आप खाना खाने एक पेड़ के नीचे बैठे तो पेड़ का साया आप के लिए झुक गया राहिब ने लोगो से कहा देखो साया इस बच्चे के लिए झुक गया.
राहिब ने आप का हाथ पकड़ लिया और कहा ये सय्य्दुल लिल आलमीन है, ये रब्बुल आलमीन के रसूल है,
अल्लाह ता'आला इन्हे रहमतुल लिल आलमीन बनाकर भेजेगा.

(तिर्मीज़ी : 3/2862)

हालाँकि आपको उस वक़्त नबुवत का इल्म नही था लेकिन अल्लाह के यहा आपकी नबुवत उस समय ते हो चुकी थी जब आदम अलैहिसलाम पानी और मिट्टी के मरहाले में थे रूह फूँकी जा चुकी थी लेकिन बदन में हरकत नही थी
आप का खतिमुन्ननबीय्यन होना भी तब ही ते हो चुका था

(मिशकतुल मसबीह : 5759)

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये
अमीन......

ALLAH TA'ALA HI KE LIYE TAWAAF AUR ITIKAF.

ALLAH TA'ALA QURAN MEN FARMATA HAI.
Logo chahiye ke Allah ke kadim ghar (Yani Betullah) ka tawaaf kare.
Quran (Sura Haj 22/29)

Hamen ibrahim ismail se wada liya ke tum mere ghar ko tawaf karne walo aur itiksf karne walo aur ruku sazda karne walo ke liye pak saf rakho.
Quran (Sura Baqra 2/120)

Hajrat Abu Hurreera Razi Allahu Anhu Se Rivayat hai.
ALLAH KE RASOOL SALLALLAHU ALAYHI WASALLAM NE IRSHAD FARMAYA.
Kayamat us waqt tak kayam nahi hogi jab tak kabila dos ki aurato ki pithe jialkhlsa ke gird tawaaf na karne lage (Yani kayamat ke karib ye shirk dubara runuma ho jayega) jialkhlsa dos kabile ka but tha jis ki arab log jahiliyat men pooja kiya karte the.
Hadees (Sahih Bukhari : 7116)

TAWAF YE KE SAWAB KI NIYAT SE KISI MAKHSUS JAGAH PAR KHAS DIN JAKAR USKE GIRD CHKKAR LAGAYE JAYE.
ITIKAF YE KE SAWAB KI NIYAT SE KISI KHAS JAGAH PAR KHAS MUDAT KE LIYE JAYA JAYE YA BAITHA JAYE.
YE DONO KAAM IBADAT HAI ISLIYE SIRF ALLAH KE LIYE HI KIYE JA SAKTE HAI CHUKI TAWAF HAJ AUR UMRAH ME SHAMIL HAI ISLIYE YE SIRF BETULLAH KE GIRD HI KIYA JA SAKTA HAI IS KE ALAWA KISI BHI JAGAH KA TAWAF GAIRULLAH KI IBADAT MEN SHAMIL HOGA.
ITIKAF SIRF HARAM AUR MASJID MEN KIYA JAYEGA ISKE ALAWA KISI KHAS JAGAH KHAS DIN YA DINO KI TADAT ME JAKAR BAITHNA GAIRULLAH (Yani Allah ke Alawa Dusre kisi) KI IBADAT ME SHAMIL HOGA.
ISLIYE DONO HI IBADAT KHAS SIRF KHALIS ALLAH HI KE LIYE KI JAYE


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN...

अल्लाह ता'आला ही के लिए तवाफ़ और इतिकाफ.

अल्लाह ता'आला क़ुरान में फरमाता है.
लोगो चाहिए के अल्लाह के कदिम घर (यानी बेतुल्लाह) का तवाफ करे.
क़ुरान (सुरा हज 22/29)

हमें इब्राहिम इस्माईल से वादा लिया के तुम मेरे घर को तवाफ करने वालो और इतिखाफ करने वालो और रुकु सज़्दा करने वालो के लिए पाक साफ रखो.
क़ुरान (सुरा बक़रा 2/120)

हज़रत अबू हरेरा रज़ी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है.
अल्लाह के रसूल सललाल्लाहू आलेही वासल्लम ने इरशाद फरमाया.
कयामत उस वक़्त तक कायम नही होगी जब तक कबीला दोस की औरतो की पीठे जीअल खालसा के गिर्द तवाफ ना करने लगे (यानी कयामत के करीब ये शिर्क दुबारा रुनुमा हो जाएगा) जीअलख़ालसा दोस कबीले का बुत था जिस की अरब लोग जाहिलियत में पूजा किया करते थे.
हदीस (सहीह बुखारी : 7116)

तवाफ ये के सवाब की नियत से किसी मख़सूस जगह पर खास दिन जाकर उसके गिर्द चक्क़र लगाए जाए.
इतिकाफ ये के सवाब की नियत से किसी खास जगह पर खास मुदत के लिए जाया जाए या बैठा जाए.
ये दोनो काम इबादत है इसलिए सिर्फ़ अल्लाह के लिए ही किए जा सकते है चुकी तवाफ हज और उमराह मे शामिल है इसलिए ये सिर्फ़ बेतुल्लाह के गिर्द ही किया जा सकता है इस के अलावा किसी भी जगह का तवाफ गैरूल्लाह की इबादत में शामिल होगा.
इतिकाफ सिर्फ़ हरम और मस्जिद में किया जाएगा इसके अलावा किसी खास जगह खास दिन या दीनो की तादात मे जाकर बैठना गैरूल्लाह (यानी अल्लाह के अलावा दूसरे किसी) की इबादत मे शामिल होगा.
इसलिए दोनो ही इबादत खास सिर्फ़ खालिस अल्लाह ही के लिए की जाए.



अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये
अमीन....

ALLAH TA'ALA HI KE LIYE RUKU AUR SAZDA.

ALLAH TA'ALA QURAN MEN FARMATA HAI.
A Imaan walo! Ruku aur sazda karte raho aur apne rab ki ibadat men lage raho aur nek kaam karte raho taki tum kamyab ho jao.
Quran (Sura Haj 22/77)

Hajrat Kais Bin Said RaZi Allahu Anhu Se Rivayat hai.
ALLAH KE RASOOL SALLALLAHU ALAYHI WASALLAM NE IRSHAD FARMAYA.
Men ek shahar aya to dekha ke log apne badshah ke age sazda karte hai mene socha ALLAH KE RASOOL SAW. un badshaho ke mukabale men sazde ke jyada hakdar hai,
men jab aap ki khidmat men hajir hua apni baat bayan ki aap ne mujhse sawal kiya mujhe ye batao tum meri qabr ke pas se gujro to kya use sazda karoge ?
mene jawab diya ke nahi us par aap ne farmaya phir mujhe bhi sazda na karo.

Hadees (Abu Dawood : 2130)

ALLAH KE RASOOL SALLALLAHU ALAYHI WASALLAM NE IRSHAD FARMAYA.
Khabardar! Tumse pahle ke logo ne apne nabiyo aur nek logo ki kabro ko sazda gah bana liya tha.
Sun lo ! Tum kabro ko sazda gah na banana men tumhe isse mana karta hun.

Hadees (sahih Muslim : 523)

MALUM HUA KE ALLAH KE ALAWA KISI KE LIYE BHI SAZDA KARNA JAYIZ NAHI.
TAZIMI SAZDA BHI NAHI SHARYATE MUHMMDIYA MEN ISE BHI HARAM KARAR DIYA GAYA HAI.
TAZIM KI WAJH SE SAZDA KARE TO KABIRA (BADA) GUNAH HAI, AUR AGAR KISI KO IBADAT KI WAJAH SE KARE TO SHIRKE AKBAR (ALLAH KE SATH MILANA) HAI.

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN...

अल्लाह ता'आला ही के लिए रुकु और सज़्दा.

अल्लाह ता'आला क़ुरान में फरमाता है.
ऐ ईमान वालो! रुकु और सज़्दा करते रहो और अपने रब की इबादत में लगे रहो और नेक काम करते रहो ताकि तुम कामयाब हो जाओ.
क़ुरान (सुरा हज 22/77)

हज़रत कैस बिन शैद रज़ी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है.
अल्लाह के रसूल सललाल्लाहू आलेही वासल्लम ने इरशाद फरमाया.
में एक शहर आया तो देखा के लोग अपने बादशाह के आगे सज़्दा करते है मेने सोचा अल्लाह के रसूल सल्ल. उन बादशाहो के मुकाबले में सज़्दे के ज़्यादा हकदार है,
में जब आप की खिदमत में हाजिर हुआ अपनी बात बयान की आप ने मुझसे सवाल किया मुझे ये बताओ तुम मेरी क़ब्र के पास से गुज़रो तो क्या उसे सज़्दा करोगे ?
मेने जवाब दिया के नही उस पर आप ने फरमाया फिर मुझे भी सज़्दा ना करो.

हदीस (अबू दाऊद : 2130)

अल्लाह के रसूल सललाल्लाहू आलेही वासल्लम ने इरशाद फरमाया.
खबरदार! तुमसे पहले के लोगो ने अपने नबियो और नेक लोगो की क़बरो को सज़्दा गाह बना लिया था.
सुन लो ! तुम क़बरो को सज़्दा गाह ना बनाना में तुम्हे इससे माना करता हूँ.

हदीस (सहीह : मुस्लिम : 523)

मालूम हुआ के अल्लाह के अलावा किसी के लिए भी सज़्दा करना जाइज़ नही.
ताज़िमी सज़्दा भी नही शारयते मुहम्मदिया में इसे भी हराम करार दिया गया है.
ताज़ीम की वजह से सज़्दा करे तो कबीरा (बड़ा) गुनाह है, और अगर किसी को इबादत की वजह से करे तो शिर्के अकबर (अल्लाह के साथ मिलना) है.




अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये
अमीन...

ALLAH TA'ALA PAR HI KAMIL TAWAKKAL WA BHAROSA KARNA CHAHIYE

ALLAH TA'ALA QURAN MEN FARMATA HAI
Agar ALLAH TA'ALA tumhari madad kare to tum par koi galib nahi aa sakta aur agar ALLAH TA'ALA tumhe chod de to us ke baad koun hai jo tumhari madad kare, Lihaza imaan walo ko ALLAH TA'ALA par hi bharosa karna chahiye.
Quran (Sura 3/140)

Aur tum ALLAH TA'ALA hi par bharosa karo agar tum imaan wale ho.
Quran (Sura Maida 5/23)

Allah Ke Rasool sallallahu alayhi wasallam NE Irshad Farmaya
Agar tum ALLAH TA'ALA par is tarah tawakKal wa bharosa karo jaisa bharosa karne ka haq hai to wo tumhe aisa rizk (Rozi) dega jaise parindo (Bird) ko rizk deta hai parinde subha khali pet niklate hai aur sham ko pet bharkar wapas aate hai.
Hadees (Tirmizi : 2344)

LEKIN AAJ MUSLMAN ALLAH KO CHOD KAR DUSRO PAR AISA BHAROSA KARTE HAI JAISA ALLAH PAR KARNA CHAHIYE HALAKI WO JANTE HAI UN LOGO KO BHI ALLAH HI NE PAIDA KIYA AUR WAFAT DI,
JABKI IMAAN WALO KO SIRF ALLAH HI PAR BHAROSA KARNA HAI ISLIYE ALLAH NE QURAN MEN KAHA (SURA JHUMAR 39/36) KYA ALLAH HI APNE BANDE KE LIYE KAFI NAHI ?


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN..

अल्लाह ता'आला पर ही कामिल तवक्कल व भरोसा करना चाहिए.

अल्लाह ता'आला क़ुरान में फरमाता है
अगर अल्लाह ता'आला तुम्हारी मदद करे तो तुम पर कोई ग़ालिब नही आ सकता और अगर अल्लाह ता'आला तुम्हे छोड़ दे तो उस के बाद कौन है जो तुम्हारी मदद करे, लिहाज़ा ईमान वालो को अल्लाह ता'आला पर ही भरोसा करना चाहिए.
क़ुरान (सुरा 3/140)

और तुम अल्लाह ता'आला ही पर भरोसा करो अगर तुम ईमान वाले हो.
क़ुरान (सुरा माइदा 5/23)

अल्लाह के रसूल सललाल्लाहू आलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया
अगर तुम अल्लाह ता'आला पर इस तरह तवक्क्ल व भरोसा करो जैसा भरोसा करने का हक़ है तो वो तुम्हे ऐसा रिज़्क (रोज़ी) देगा जैसे परिंदो (बर्ड) को रिज़्क देता है परिंदे सुबहा खाली पेट निकलते है और शाम को पेट भरकर वापस आते है.
हदीस (तिमीज़ी : 2344)

लेकिन आज मुसलमान अल्लाह को छोड़ कर दूसरो पर ऐसा भरोसा करते है जैसा अल्लाह पर करना चाहिए हालाकी वो जानते है उन लोगो को भी अल्लाह ही ने पैदा किया और वफात दी,
जबकि ईमान वालो को सिर्फ़ अल्लाह ही पर भरोसा करना है इसलिए अल्लाह ने क़ुरान में कहा (सुरा झूमर 39/36) क्या अल्लाह अपने बंदे के लिए काफ़ी नही ?

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये अमीन......

Thursday, 27 November 2014

ALLAH TA'ALA KA KHOUF (DAR) HAR KHOUF PAR GALIB HONA CHAHIYE.

ALLAH TA'ALA QURAN MEN FARMATA HAI
Tum logo se na daro sirf mujh se hi daro.
Quran (Sura Maida 5/44)

Kya tum un se darte ho halanki Allah Ta'ala jyada haq rakhta hai ki tum usse daro agar tum imaan wale ho.
Quran (Sura Touba 9/13)

Yakinan jo log apne rab se darte hai aur jo apne rab ki ayato par imaan rakhte hai aur wo apne rab ke sath kisi ko sharik nahi karte hai.
Quran (Sura Mominun 23/57-58-59)

Allah Ke Rasool sallallahu alayhi wasallam Ne Irshad Farmaya
Haram sharif men jane walo ko dekhkar Allah farishto se farmata hai ye meri rahmat ke ummidvar hai aur mere azaab se khouf men hai halanki inhone mujhe dekha tak nahi.
Hadees (Sahih Targib :1112)

MALUM HUA KE SAB SE JYADA AGAR KOI IS BAAT KA MUSHTHAQ HAI KE US SE KHOUF (DAR) KIYA JAYE TO WO ALLAH HI HAI. AGAR KOI ALLAH SE BEKHOUF HAI. ALLAH FARMATA HAI.
Allah ki pakad se sirf nuksan pane wali koum hi bekhouf hoti hai.
Quran (Sura Aaraf 7/99)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN......

अल्लाह ता'आला का ख़ौफ़ (डर) हर ख़ौफ़ पर ग़ालिब होना चाहिए.

अल्लाह ता'आला क़ुरान में फरमाता है
तुम लोगो से ना डरो सिर्फ़ मुझ से ही डरो.
क़ुरान (सुरा मायदा 5/44)

क्या तुम उन से डरते हो हालाँकि अल्लाह ता'आला ज़्यादा हक़ रखता है की तुम उससे डरो अगर तुम ईमान वाले हो.
क़ुरान (सुरा तौबा 9/13)

यक़ीनन जो लोग अपने रब से डरते है और जो अपने रब की आयतो पर ईमान रखते है और वो अपने रब के साथ किसी को शरीक नही करते है.
क़ुरान (सुरा मोमिनून 23/57-58-59)

अल्लाह के रसूल सललाल्लाहू आलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया
हरम शरीफ में जाने वालो को देखकर अल्लाह फरिश्तो से फरमाता है ये मेरी रहमत के उम्मीदवार है और मेरे अज़ाब से ख़ौफ़ में है हालाँकि इन्होने मुझे देखा तक नही.
हदीस (सहीह तरगिब :1112)

मालूम हुआ के सब से ज़्यादा अगर कोई इस बात का मुश्ताहक है के उस से ख़ौफ़ (डर) किया जाए तो वो अल्लाह ही है. अगर कोई अल्लाह से बेखौफ़ है. अल्लाह फरमाता है.

अल्लाह की पकड़ से सिर्फ़ नुकसान पाने वाली क़ौम ही बेखौफ़ होती है.
क़ुरान (सुरा आराफ 7/99)

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये अमीन......

ALLAH TA'ALA KI MUHBBAT TAMAM MUHBBATON PAR GALIB HONI CHAHIYE

ALLAH TA'ALA QURAN MEN FARMATA HAI
Baz log aise bhi hai jo ke dusron ko Allah ka sharik banakar unse aisi muhbbat rakhte hai jaisi Allah se se honi chahiye, Aur imaan wale Allah ki muhbbat men bahut sakht hote hai.
Quran (Sura Baqra 2/165)

Aur jab sirf Allah ka jikr kiya jata hai to jo log akhirat par yakin nahi rakhte un ke dil sukad jate hai (jikr karne walo se nafrat karne lagte hai) aur jab dusron ka jikr kiya jata hai to khush ho jate hai
Quran (Sura Jhumar 39/45)

Allah Ke Rasool sallallahu alayhi wasallam NE Irshad Farmaya
Jis shakhs men 3 khaslate hogi wo imaan ki mithas mahsus karega
1. Allah aur Rasool use baki logo se jyada mahboob ho.
2. Wo kisi bhi insan se sirf Allah hi ke liye muhbbat karta ho.
3. Use kufr (Jisse Allah ne use bacha liya) ki taraf lotna aisa lage jaise aag men feka jana.

Hadees (Sahih Bukhari : 16 / Muslim : 43)

YE BIMARI SIRF MUSHRIKIN MEN NAHI THI AAJ BHI MOJUD HAI JO KHUD SAKHTA LOGO KO APNA KIBLA BANA LETE HAI,
UNHE SAB KUCH SAMJHTE HAI AUR UNSE ALLAH SE BHI JYADA MUHBBAT RAKHTE HAI AUR JAB INHE ALLAH KI AUR QURAN KI BAAT SUNAi JATI HAI TO NARAZ HO JATE HAI.


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN......

अल्लाह ता'आला की मुहब्बत तमाम मुहब्बतों पर ग़ालिब होनी चाहिए.

अल्लाह ता'आला क़ुरान में फरमाता है
बाज़ लोग ऐसे भी है जो के दूसरों को अल्लाह का शरीक बनाकर उनसे ऐसी मुहब्बत रखते है जैसी अल्लाह से से होनी चाहिए, और ईमान वाले अल्लाह की मुहब्बत में बहुत सख़्त होते है.
क़ुरान (सुरा बक़रा 2/165)

और जब सिर्फ़ अल्लाह का ज़िक्र किया जाता है तो जो लोग आख़िरत पर यकीन नही रखते उन के दिल सुकड जाते है (ज़िक्र करने वालो से नफ़रत करने लगते है) और जब दूसरों का ज़िक्र किया जाता है तो खुश हो जाते है
क़ुरान (सुरा झूमर 39/45)

अल्लाह के रसूल सललाल्लाहू आलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया
जिस शख्स में 3 खस्लते होगी वो ईमान की मिठास महसूस करेगा
1. अल्लाह और रसूल उसे बाकी लोगो से ज़्यादा महबूब हो.
2. वो किसी भी इंसान से सिर्फ़ अल्लाह ही के लिए मुहब्बत करता हो.
3. उसे कुफ्र (जिससे अल्लाह ने उसे बचा लिया) की तरफ लोटना ऐसा लगे जैसे आग में फेका जाना.

हदीस (सहीह बुखारी : 16 / मुस्लिम : 43)

ये बीमारी सिर्फ़ मुश्.रीकीन में नही थी आज भी मोजूद है जो खुद साखता लोगो को अपना किब्ला बना लेते है उन्हे सब कुछ समझते है और उनसे अल्लाह से भी ज़्यादा मुहब्बत रखते है और जब इन्हे अल्लाह की और क़ुरान की बात सुनाई जाती है तो नाराज़ हो जाते है.

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये अमीन......

MAYYAT KO ISALE SAWAB PAHUCHAANA

Hazrat Abu Huraira Razi. Se Rivayat Hai.
Allah Ke Rasool sallallahu alayhi wasallam NE Irshad Farmaya
Marne ke bad insan ke amalo ka mamla khatm ho jata hai,
lekin 3 chijo ka sawab mayyat ko pahuchta rahta hai,
1. Sadaka jariya
2. Logo ko fayeda dene wala ilm
3. nek aulad jo mayyat ke liye dua kare

 Hadees (Sahih Muslim : 1730 )

MOMIN KE MARNE KE BAD JIN AMALO KI NEKIYO KA SAWAB USE MILTA RAHTA HAI,
ILM JO USNE JINDAGI MEN LOGO KO SIKHAYA AUR FAILAYA,
NEK AULAD JO USNE PICHE CHODI USKE LIYE DUA KARE,
ISLAM, QURAN, DIN KA ILM JO LOGO KO USNE SIKHAYA,
MASJID AUR MUSAFIR KHANO ME APNI JINDAGI ME SADKA (MAL) LAGAYA,
IN SAB AMALO KA SAWAB INSAN KO MARNE KE BAD BHI MILTA RAHTA HAI

Hadees (Sahih Ibne Maza : 198)

ISKE ALAWA MAYYAT KE NAAM SE SADKA KARNA, ROZE BAKI HO TO RAKHNA,HAJ KA IRADA THA TO KARNA.
AUR NEK AULAD KE ACHCHE AMAL SAWAB KI NIYAT KIYE BINA BHI USKE MAA BAAP KO PAHUCHTE RAHTE HAI.
MAYYAT KE LIYE SABSE BEHTRIN TOHFA USKE LIYE ISTAGFAR KIYA JAYE.

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN......

मय्यत को इसाले सवाब पहुचाना

हज़रत अबू हुरैरा रज़ी. से रिवायत है.
अल्लाह के रसूल सललाल्लाहू आलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया
मरने के बाद इंसान के आमालो का मामला ख़त्म हो जाता है,
लेकिन 3 चीज़ो का सवाब मय्यत को पहुचता रहता है,
1. सदका ज़रिया
2. लोगो को फायदा देने वाला इल्म
3. नेक औलाद जो मय्यत के लिए दुआ करे
 

हदीस (सहीह मुस्लिम : 1730 )

मोमिन के मरने के बाद जिन आमालो की नेकियो का सवाब उसे मिलता रहता है,
इल्म जो उसने जिंदगी में लोगो को सिखाया और फैलाया,
नेक औलाद जो उसने पीछे छोड़ी उसके लिए दुआ करे,
इस्लाम, क़ुरान, दिन का इल्म जो लोगो को उसने सिखाया,
मस्जिद और मुसाफिर खानो मे अपनी जिंदगी मे सदका (माल) लगाया,
इन सब अमालो का सवाब इंसान को मरने के बाद भी मिलता रहता है

हदीस (सहीह इब्ने माज़ा : 198)

इसके अलावा मय्यत के नाम से सदका करना, रोज़े बाकी हो तो रखना,हज का इरादा था तो करना.
और नेक औलाद के अच्छे अमल सवाब की नियत किए बिना भी उसके मा बाप को पहुचते रहते है.
मय्यत के लिए सबसे बेहतरीन तोहफा उसके लिए इस्तग्फार किया जाए.
अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये आमिन

Tuesday, 25 November 2014

Mayyat Par 3 Din Se Jyada Shouk Manna Jayez Nahi

Hazrat Umme Habiba Razi. Se Rivayat Hai Allah Ke Rasool sallallahu alayhi wasallam ne Irshad Farmaya.
Allah Aur Akhirat Par Jo Imaan Rakhne Wala Hai Uske liye Kisi Ki bhi Mayyat Par 3 Din Se Jyada Shouk Karna jayez nahi.
Aur Auraton ko uske shouhar ki mayyat par 4 mahine 10 se jyada shouk manna jayez nahi.
Hadees (Mukhtsar Sahi Bukhari lil jubedi : 650)

Hazrat Abu Malik Ashari Razi. Se Rivayat Hai. Nabi Karim sallallahu alayhi wasallam ne Irshad Farmaya. Farmaya.
Meri ummat Ke log jamana jahiliyat ke 4 kaam nahi chodhege.
1. Apne nasab par takbbur karna.
2. Dusro ke nasab par tana jani karna.
3. Taron se barish talab karna.
4. Marne walo par matam mana kar rona.
Aur Farmaya Agar marne se pahle touba na ki to kayamat ke din unhe khada karke gandhak ka paizama aur khujli (kharish) ka kurta pahnaya jayega.
Hadees (Mukhtsar Sahih Muslim lil Albani : 463)

LEKIN AAJ AFSOS KI BAAT HAI MUSLMAN MAYYATON PAR 10, 20, 30, 40, WA MANATE HAI AUR BARSI BHI SALA SAL MANTE HAI JO KI AAP sallallahu alayhi wasallam KA TARIKA NAHI HAI. JO NABI KA TARIKA NAHI US PAR SAWAB BHI NAHI HAI.


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE  AMIN......

मय्यत पर 3 दिन से ज़्यादा शौक़ मनना जाईज नही.

हज़रत उम्मे हबीबा रज़ी. से रिवायत है अल्लाह के रसूल सल्लललाहू आलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया.
अल्लाह और आख़िरत पर जो ईमान रखने वाला है उसके लिए किसी की भी मय्यत पर 3 दिन से ज़्यादा शौक़ करना जाईज नही. और औरतों को उसके शौहर की मय्यत पर 4 महीने 10 से ज्यादा शौक़ मनना जाईज नही.
हदीस (मुख़्तसर सहीह बुखारी लिल जुबेदि : 650)

हज़रत अबू मलिक अश्अरी रज़ी. से रिवायत है. नबी करीम सल्लललाहू आलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया. फरमाया.
मेरी उम्मत के लोग जमाना जाहिलियत के 4 काम नही छोढ़ेगे.
1. अपने नसब पर तकबबूर करना.
2. दूसरो के नसब पर ताना जनि करना.
3. तारों से बारिश तलब करना.
4. मरने वालो पर मातम मना कर रोना.
और फरमाया अगर मरने से पहले तौबा ना की तो कयामत के दिन उन्हे खड़ा करके गंधक का पाइज़मा और खुजली (खारिश) का कुर्ता पहनाया जाएगा.
हदीस (मुख़्तसर सहीह मुस्लिम लिल अल्बानी : 463)
लेकिन आज अफ़सोस की बात है मुस्लमान मय्यतों पर 10, 20, 30, 40, वाँ मानते है और बरसी भी सालासाल मानते है जो की आप सललाल्लाहू आलेही वसल्लम का तरीका नही है. जो नबी का तरीका नही उस पर सवाब भी नही है.

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये अमीन......

FARYAD ( SIRF ALLAH HI SE MANGI JAYE )

YE HAR MUSLMAN KA IMAN HAI ALLAH TA'ALA HI HAMARE DIL KI BAATO KO JANTA HAI.
WAHI CHITI SE LEKAR HATHI AUR PARINDO SE LEKAR MACHLIYO KI SUNTA HAI AUR UNHE BHI RIZK (PET BHAR KHANA) DETA HAI.


ALLAH QURAN MEN FARMATA HAI.
Jab tum apne rab se faryad kar rahe the to us ne tumhari faryad sun li.
Quran (Anfal 8/9)

Bekas ki pukar ko jab wo pukare kon kabul kar ke sakhti ko dur kar deta hai ?
Kya Allah Ta'ala ke sath aur mabUd hai ?
Tum bahut kam nasihat wa ibrat hasil karte ho.

Quran (Namal 27/62)

ALLAH KE RASOOL sallallahu alayhi wasallam NE IRSHAD FARMAYA. 
A Jinda wa Jawed ! A Kayam rahne wale teri rehmat ke jariye men faryad karta hun ke mere kaam durust farma de aur palak chapkane ke barabar bhi meri nafs ke suprud na karna.
Hadees (Sahih Aljame : 5820)

ALLAH KA SIFATI NAAM " AS SAMI'A " (FARYAD SUNNE WALA) ALLAH HI HAI JO HAR JANDAR KI FARYAD KO SUNKAR PURA KARTA HAI.
HAM NAMAZ ME BHI RUKU SE UTHTE WAQT KAHTE HAI " Sami' Allah liman hamida " (ALLAH NE USKI SUNLI JISNE USKI TARIF KI) " Rab bana lakal hamd " (A HAMARE RAB TERE HI WASTE SARI TARIF HAI) JAB BHI FARYAD MANGI JAYE SIRF ALLAH HI SE MANGI JAYE WAHI SUNNE AUR JANNE WALA HAI.


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN......

फरयाद (सिर्फ़ अल्लाह ही से माँगी जाये)

ये  हर मुसलमान का ईमान है  अल्लाह ता'आला ही हमारे दिल की बातो को जनता  है.
वही चिटी  से लेकर हाथी और परिंदों  से लेकर मछलियों  की सुनता है और उन्हें भी रिज्क़ (पेट भर खाना )  देता है.
अल्लाह क़ुरान में फरमाता है.
जब तुम अपने रब से फरयाद कर रहे थे तो उस ने तुम्हारी फरयाद सुन ली.
क़ुरान (अनफाल 8/9)

बेकस की पुकार को जब वो पुकारे कोन काबुल कर के सख्ती को दूर कर देता है ?
क्या अल्लाह ता'आला के साथ और माबूद है ?
तुम बहुत कम नसीहत व ईब्ररत हासिल करते हो.

क़ुरान (नमल 27/62)

अल्लाह के रसूल सल्ललाहू आलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया.

ए जिंदा व जावेद ! ए कायम रहने वाले तेरी रहमत के ज़रिये में फरयाद करता हूँ के मेरे काम दुरुस्त फरमा दे और पलक छपकने के बराबर भी मेरी नफ्स के सुप्रुद ना करना.
हदीस (सहीह अल जामे : 5820)

अल्लाह का सिफाति  नाम " अस समीअ " (फरयाद सुनने वाला) अल्लाह ही है जो हर जानदार की फरयाद को सुनकर पूरा  करता है.
हम नमाज़ मे भी रुकु से उठते वक़्त कहते है " समी' अल्लाह लीमन हमीदा " (अल्लाह ने उसकी सुन ली जिसने उसकी तारीफ की) " रबबना लकल हम्द " (ए हमारे रब तेरे ही वास्ते सारी तारीफ है) जब भी फरयाद मांगी  जाए सिर्फ  अल्लाह ही से मांगी  जाए वही सुनने और जानने वाला है.


अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये अमीन......

MADAD ( SIRF ALLAH HI SE TALAB KI JAYE )

HAR MUSLMAN YE MANTA HAI ALLAH KI MADAD KE BINA INSAN KOI BHI CHIJ NAHI PA SAKTA,
HAR MUSLMAN YE MANTA HAI ALLAH MARZI KE BINA KOI EK SANS BHI NAHI LE SAKTA,
TO JO BHI MUSHKIL AYE MADAD SIRF AUR SIRF ALLAH HI SE MANGI JAYE.

QURAN MEN ALLAH FARMATA HAI
Ham khas teri hi ibadat karte hai aur khas tujh se hi madad mangte hai.
Quran (Sura Fatiha 1/4)

Allah ke siwa na tumhara koi madadgar hai na koi sunne wala phir bhi kya tum hosh men na aaoge.
Quran (Sura Sazda 32/4)

ALLAH KE RASOOL sallallahu alayhi wasallam NE IRSHAD FARMAYA.

Hazrat ibne abbas razi. ko vasiyat farmaye ke jab tu sawal karna chahe to Allah Ta'ala se hi sawal kar aur jab tu madad mangna chahe to Allah Ta'ala se hi madad mang.
Hadees (Sahih Tirmizi : 2016)

ALLAH KE ALAWA HAMARI KOI MADAD NAHI KAR SAKTA
YE ALLAH KA SIFATI NAAM HAI (AL WALI) MADADGAR USKI SIFAT MEN KISI KO SHARIK KARNA SHIRK HAI AUR YE JAMIN AUR ASMAN SARI KAAYNAAT MEN SABSE BADA GUNAH HAI.
YE ALLAH KA SIFATI NAAM HAI (AZ ZAR) NUKSAN PAHUCHAANE WALA AUR WO KISI KO NUKSAN PAHUCHAANA CHAHE TO WO HAR CHIJ PAR KUDRAT RAKHTA HAI.


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN......

मदद (सिर्फ़ अल्लाह ही से तलब की जाए)

हर मुस्लमान ये मानता है अल्लाह की मदद के बिना इंसान कोई भी चीज़ नही पा सकता,
हर मुस्लमान ये मानता है अल्लाह मर्ज़ी के बिना कोई एक सांस भी नही ले सकता,
तो जो भी मुश्किल आए मदद सिर्फ़ और सिर्फ़ अल्लाह ही से माँगी जाए.


क़ुरान में अल्लाह फरमाता है 
हम खास तेरी ही इबादत करते है और खास तुझ से ही मदद माँगते है.
क़ुरान (सुरा फातिहा  1/4)

अल्लाह के सिवा ना तुम्हारा कोई मददगार है ना कोई सुनने वाला फिर भी क्या तुम होश में ना आओगे.
क़ुरान (सुरा सज़्दा 32/4)

अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु आलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया.
हज़रत इब्ने अब्बास रज़ी. को वसीयत फारमाइ के जब तू सवाल करना चाहे तो अल्लाह ता'आला से ही सवाल कर और जब तू मदद माँगना चाहे तो अल्लाह ता'आला से ही मदद माँग.
हदीस (सहीह तिर्मीज़ी : 2016)

अल्लाह के अलावा हमारी कोई मदद नही कर सकता 
ये अल्लाह का सिफ़ाती नाम है (अल वली) मददगार उसकी सिफ़त में किसी को शरीक करना शिर्क है और ये ज़मीन और आसमान सारी कायनात में सबसे बड़ा गुनाह है.
ये अल्लाह का सिफ़ाती नाम है (अज ज़ार) नुकसान पहुचाने वाला और वो किसी को नुकसान पहुचाना चाहे तो वो हर चीज़ पर कुदरत रखता है.

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये अमीन......

DUA ( SIRF ALLAH HI SE ) KI JAYE

HAR MUSLMAN YE MANTA HAI ALLAH KI MARZI KE Bina EK PATTA BHI NAHI HIL SAKTA HAI.
HAR MUSLMAN YE MANTA HAI BILASUBAH ALLAH HAMARI DILO KI BATE BHI JANTA HAI.
TO PHIR DUA BHI SIRF ALLAH HI SE KARNI CHAHIYE.

ALLAH FARMATA HAI QURAN MEN

Tum Allah hi ko pukaro uske liye din ko khalish karke.
Quran (Sura Momin 40/14)

Bilasubah masjid sirf Allah Ta'ala ki hai is liye tum Allah ke sath kisi aur ko mat pukaro.
Quran (Sura Jinn 72/18)

Aur us se badhkar gumrah kon hoga jo Allah ke siva aiso ko pukarta hai jo kayamat tak us ki dua kabul na kar sake,
balki roze kayamat inke pukarane ka saaf inkar kar dege.

Quran (Sura Ahkaf 46/5-6)

Aur jo bhi Allah ke sath dusaro ko pukarata hai us ke pas uski koi dalil bhi nahi beshak us ka hisab uske rab ke pas hai.
Quran (Sura Momenun 23/117)

Tum log apne parvar digar se dua kiya karo gid gidakar aur chupke chupke.
Quran (Sura Aaraf 7/55)

TAMAM AMBIYA ALE., SAHABA RAZI. NEK SALEH LOG, HAMARE BUZURG, WALI, YE SAB ALLAH HI KO PUKARATE THE.
UNHONE HAMKO BHI YAHI SIKHAYA HAI (ALLAH KE AALAWA KISI AUR KO PUKARNA SHIRK HAI) AUR YE JAMIN AUR ASMAN SARI KAAYNAAT MEN SABSE BADA GUNAH HAI.


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN......

दुआ (सिर्फ़ अल्लाह ही से) की जाये

हर मुस्लमान ये मानता है अल्लाह की मर्ज़ी के बिना एक पत्ता भी नही हिल सकता है.
हर मुसलमान ये मानता है बिलासुबा अल्लाह हमारी दिलों की बाते भी जनता है.
तो फिर दुआ भी सिर्फ़ अल्लाह ही से करनी चाहिए.


 क़ुरान में अल्लाह फरमाता है

तुम अल्लाह ही को पुकारो उसके लिए दिन को खालिश करके.
क़ुरान (सुरा मोमिन 40/14)

बिलासुबा मस्जिद सिर्फ़ अल्लाह ता'आला की है इस लिए तुम अल्लाह के साथ किसी और को मत पुकारो.
क़ुरान (सुरा जिन्न 72/18)

और उस से बढ़कर गुमराह कोन होगा जो अल्लाह के सिवा ऐसो को पुकारता है जो कयामत तक उस की दुआ काबुल ना कर सके, बल्कि रोज़े कयामत इनके पुकाराने का साफ इन्कार कर देगे.
क़ुरान (सुरा अहकाफ़ 46/5-6)

और जो भी अल्लाह के साथ दूसरो को पुकारता है उस के पास उसकी कोई दलील भी नही बेशक उस का हिसाब उसके रब के पास है.
क़ुरान (सुरा मोमेनून 23/117)

तुम लोग अपने परवरदिगार से दुआ किया करो गिड गिडाकार और चुपके चुपके.
क़ुरान (सुरा आराफ़ 7/55)

तमाम अंबिया अले., सॉहाबा राज़ी. नेक सालेह लोग, हमारे बुज़ुर्ग, वली ये सब अल्लाह ही को पुकारते थे.
उन्होने हमको भी यही सिखाया है (अल्लाह के अलावा किसी और को पुकारना शिर्क है) और ये ज़मीन और आसमान सारी कायनात में सबसे बड़ा गुनाह है.


अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये

IBADAT KA MAFHUM (MATLAB) KYA HAI.

QURAN MEN ALLAH FARMATA HAI

Maine Jinnat Aur Insano Ko Sirf Is Liye Paida Kiya Hai Ke Wo Sirf Meri Ibadat Kare.
Quran (Sura Jariyat 51/56)

Ibadat aisa jaame lafz hai jo un tamam jahiri(Dikhne wale) aur batini (Dili) akwal wa aamal par bola jata hai
jinhe Allah ta'ala pasand karta hai aur jin se razi hota hai
jaise NAMAZ, ZAKAT, ROZA, HAJJ, SACH BAAT KAHNA, AMAaNAT DARI KARNA, WALDEN SE HUSNE SALUK (ACHCHAI), RISTE JODNA, LOGO KO NEKI KI TARAF BULANA AUR BURAI SE ROKNA
DUA WA JIKR, TILAWATE QURAN AUR IS JAISI DIGAR IBADAT KARNA,

Jindagi ka har kaam jo din ke mutabik ho ibadat ka mafhum men shamil hai
yani ibadat sirf namaz, roza, hajj wagerah ka hi naam nahi hai balke CHALNA FIRNA, UTHNA BAITHNA, SONA JAGNA, KHANA PINA, MILNA JULNA, BOLNA CHALNA, KHARIDNA BAICHNA
algarj jindgi ka koi bhi kaam agar Allah ke huqm ke mutabik kiya jaye to wo ibadat hi hai.
kyunki isi ko Allah pasand karta hai aur razi hota hai aur insan ki jindgi ka maksad bhi yahi hai.
Aur har buri baat jhuth, jhuthi shan shokat, haram mal dolat, dikhawa, nafsi burai se bachna bhi ibadat aur sawab ka kaam hai.


WARNA MAHAJ MUSLIM MULK MEN PAIDAISH, ISLAMI NAAM AUR JABAN SE KALMA PADH LENA KAMYABI AUR JANNAT KI JAMANAT NAHI HAI.

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN......

इबादत का मफहूम ( मतलब ) क्या है

क़ुरान में अल्लाह फरमाता है.
मैने जिन्नात और इंसानो को सिर्फ़ इस लिए पैदा किया है के वो सिर्फ़ मेरी इबादत करे.
क़ुरान (सुरा ज़रियत 51/56)

इबादत ऐसा जामे लफ्ज़ है जो उन तमाम ज़ाहिरी(दिखने वाले) और बातिनी (दिली) अक्वाल व आमाल पर बोला जाता है
जिन्हे अल्लाह ताआला पसंद करता है और जिन से राज़ी होता है
जैसे नमाज़, ज़कात, रोज़ा, हज, सच बात कहना, अमानतदारी करना, वालदेन से हस्न सलूक (अच्छाई), रिस्ते जोड़ना, लोगो को नेकी की तरफ बुलाना और बुराई से रोकना
दुआ व ज़िक्र, तिलावते क़ुरान और इस जैसी दीगर इबादत करना,

जिंदगी का हर काम जो दिन के मुताबिक़ हो इबादत का मफहूम में शामिल है
यानी इबादत सिर्फ़ नमाज़, रोज़ा, हज वगेरह का ही नाम नही है बल्के चलना फिरना, उठना बैठना, सोना जागना, खाना पीना, मिलना जुलना, बोलना चलना, खरीदना बैचना
अल्गर्ज जिंदगी का कोई भी काम अगर अल्लाह के हुक़्म के मुताबिक किया जाए तो वो इबादत ही है.
क्यूंकी इसी को अल्लाह पसंद करता है और राज़ी होता है और इंसान की जिंदगी का मक़सद भी यही है.
और हर बुरी बात झूठ, झूठी शान शोकत, हराम माल दोलत, दिखावा, नफसी बुराई से बचना भी इबादत और सवाब का काम है.


वरना महज मुस्लिम मुल्क में पैदाइश, इस्लामी नाम और ज़बान से कलमा पढ़ लेना कामयाबी और जन्नत की जमानत नही है.

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये

Thursday, 20 November 2014

ALLAH KE HUKM KE BAGAIR KOI NAHI MAR SAKTA

Allah Farmata Hai Apni Aakhari Kitab Quran Men.

Bagair Allah Ta'ala ke hukm ke koi jandar nahi mar sakta uska waqte mukrar likha hua hai,
duniya ki chahat walon ko ham kuch duniya de dete hai aur akhirat ka sawab chahane walo ko ham wo bhi denge,
aur ahsaan manne walo ko ham bahut jald nek badla denge.
Quran (Sura Imran3/145)

Yani ye kamzori aur bujhdili ka mazahir karne walo ke hosle men izafa karne ke liye kaha ja raha hai ke mout to apne waqt par akar rahegi phir bhagne ya bujdili dikhane ka kya fayda,
is tarah duniya talab karne se kuch duniya to mil jati hai lekin akhirat men kuch nahi milega,
iske baraks akhirat ke talibo ko akhirat men neamate to milegi hi duniya bhi Allah Ta'ala ata farmayega.


Aaj Kafir ham par kitna hi julm kare musibat aur taklif ho sakti hai lekin ham bujdili na dekhaye,
kyuki mout bagair Allah ki marzi ke nahi de sakte Takdir par pakka yakin rakho har muslman apni-apni takat ke hisab se unke julm ka mukabla kare,
har muslman tanha apne pas mojud jaraye se jawab de agar ek ho jaye to sone pe suhaga,
Inshaa Allah ek din har muslman ek hoga

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN

अल्लाह के हुक्म के बगैर कोई नही मर सकता

अल्लाह फरमाता है अपनी आखरी किताब क़ुरान में.

बगैर अल्लाह ता'आला के हुक़्म के कोई जानदार नही मर सकता उसका वक़्ते मुकर्र लिखा हुआ है,
दुनिया की चाहत वालों को हम कुछ दुनिया दे देते है और आख़िरत का सवाब चाहने वालो को हम वो भी देंगे,
और अहसान मानने वालो को हम बहुत जल्द नेक बदला देंगे.

क़ुरान (सुरा इमरान3/145)

यानी ये कमज़ोरी और बुझदिली का मज़ाहिर करने वालो के होसले में इज़ाफ़ा करने के लिए कहा जा रहा है के मौत तो अपने वक़्त पर आकर रहेगी फिर भागने या बुजदिली दिखाने का क्या फायदा,
इस तरह दुनिया तलब करने से कुछ दुनिया तो मिल जाती है लेकिन आख़िरत में कुछ नही मिलेगा,
इसके बरक्स आख़िरत के तालिबो को आख़िरत में नेअमते तो मिलेगी ही दुनिया भी अल्लाह ता'आला आता फरमाएगा.


आज काफ़िर हम पर कितना ही ज़ुल्म करे मुसीबत और तकलीफ़ हो सकती है लेकिन हम बुजदिली ना देखाए,
क्यूकी मौत बगैर अल्लाह की मर्ज़ी के नही दे सकते तकदीर पर पक्का यकीन रखो हर मुस्लमान अपनी-अपनी ताक़त के हिसाब से उनके ज़ुल्म का मुकाबला करे,
हर मुसलमान तन्हा अपने पास मोजूद जराये से जवाब दे अगर एक हो जाऐ तो सोने पे सुहागा,
इंशा अल्लाह एक दिन हर मुसलमान एक होगा

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये अमीन

IBADAT KE 3 BUNYADI ARKAAN HAI

1. Allah Ta'ala ki kamil muhbbat jaisa ki Allah ne irshad Farmaya.

Aur imaan wale Allah se muhbbat men intihaye sakht hai.
Quran : (Sura Baqra 2/160)

2. Allah Ta'ala se kamil ummid jaisa ki Allah ne irshad Farmaya.
Aur ahle imaan us ki rahmat ki ummid rakhte hai.
Quran : (Sura Isra 17/08)

3. Allah Ta'ala ka kamil khouf (Dar) jaisa ki Allah ne irshad Farmaya.
Aur imaan wale us ke azab se khouf jada rahte hai.
Quran : (Sura Isra 17/08)

ALLAH TA'ALA NE IN TINO ARKAN KO PAHLI SURAH (SUREH FATIHA) MEN YU JAMA FARMAYA.

1. Sab tareef Allah Taalaa kay liye hai jo
tamam jahanon ka parvardigaar hai.

Pahli ayat men muhbbat ka jikr hai kyuki wo jahano ko palne wala aur jo bando par inaam wa ikram bhi karta hai aur bilashubah jo inaam (Rahmatt) kare us se muhbbat ki jati hai.

2. Bada meharban nihayat reham kerney wala hai.
Dusri ayat men ummid ka jikr hai kyuki jo bhi rahmat wa shafkat ke sath mutshf ho us se ummid ki jati hai.

3. Badlay kay din (yani kayamat) ka maalik hai.
Tisri ayat men khouf ka jikr hai kyuki jo roje kayamat jaja wa hisaab ka malik hai uske azab se dara jata hai.

Is liye Allah Ta'ala ne in tin baton ke bad irshad farmaya ke kaho.
4. Ham khas teri hi ibadat karte hai

MANA YE KE.

Men khas teri hi ibadat karta hun
MUHBBAT KI WAJAH SE.

Men khas teri hi ibadat karta hun
SIRF TUJSE UMMID KI WAJAH SE.

Men khas teri hi ibadat karta hun
TERE KHOUF (DAR) KI WAJAH SE.

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN

इबादत के 3 बुनयादि अरकान है

1. अल्लाह ता'आला की कामिल मुहब्बत जैसा की अल्लाह ने इरशाद फरमाया.

और ईमान वाले अल्लाह से मुहब्बत में इंतिहाई सख़्त है.
क़ुरान : (सुरा बक़रा 2/160)

2. अल्लाह ता'आला से कामिल उम्मीद जैसा की अल्लाह ने इरशाद फरमाया.
और अहले ईमान उस की रहमत की उम्मीद रखते है.
क़ुरान : (सुरा इसरा 17/08)

3. अल्लाह ता'आला का कामिल ख़ौफ़ (डर) जैसा की अल्लाह ने इरशाद फरमाया.
और ईमान वाले उस के अज़ाब से ख़ौफ़ जदा रहते है.
क़ुरान : (सुरा इसरा 17/08)

अल्लाह ता'आला ने इन तीनो अरकान को पहली सुराह (सुरेः फातिहा) में यू जमा फरमाया.

1. सब तारीफ अल्लाह ता'आला ही के लिए है जो तमाम जाहानों का परवर्दीगार है.

पहली आयात में मुहब्बत का ज़िक्र है क्यूकी वो जाहानो को पालने वाला और जो बन्दो पर इनाम वा इकराम भी करता है और बिलाशुबह जो इनाम (रहमत्त) करे उस से मुहब्बत की जाती है.

2. बड़ा मेहरबान निहायत रहम केरने वाला है.
दूसरी आयात में उम्मीद का ज़िक्र है क्यूकी जो भी रहमत वा शफकत के साथ मुतशफ् हो उस से उम्मीद की जाती है.

3. बदले के दिन (यानी क़यामत) का मालिक है.
तीसरी आयात में ख़ौफ़ का ज़िक्र है क्यूकी जो रोज कयामत जजा वा हिसाब का मालिक है उसके अज़ाब से डरा जाता है.

इस लिए अल्लाह ता'आला ने इन तीन बातों के बाद इरशाद फरमाया के कहो.
4. हम खास तेरी ही इबादत करते है

माना ये के.

में खास तेरी ही इबादत करता हूँ
मुहब्बत की वजह से.

में खास तेरी ही इबादत करता हूँ
सिर्फ़ तुज़से उम्मीद की वजह से.

में खास तेरी ही इबादत करता हूँ
तेरे ख़ौफ़ (डर) की वजह से.


अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये अमीन

Wednesday, 19 November 2014

Jamaat Se Namaz Na Padhne Walo Ke Gharo Ko Aag

Hazrat Abu Hurrera Razi. Se Riwayat Hai

ALLAH KE RASOOL SALLALLAHU ALAYHI WASALLAM NE IRSHAD FARMAYA.
Kaptiyo par fajr aur ishaa ki namaz se jyada bhari koi namaz nahi hoti agar unhe pata chal jaye ki dono namazo ka sawab kitna jyada hai to un dono namaz men jarur aate chahe ghutno ke bal hi aana padhta.
mene irada kiya ki muajjin ko hukm du ki wo ikamat kahe phir ek aadmi ko huqm du ki wo imamat karaye aur men khud aag ka ek shola lekar un logo ke ghar ko jala du jo us azaan aur ikamat ke bad namaz ke liye ghar se nahi niklate.

Hadees (Sahih Bukhari : 383)

ALLAH KE RASOOL SALLALLAHU ALAYHI WASALLAM NE IRSHAD FARMAYA.
Kayamat ke din Allah ke haqo me se sabse pahle namaz ka hisab hoga.
Hadees (Sahih Sunan Tirmizi : 337)

KHULASA KALAM YE HAI KE ALLAH KE RASOOL SAW. NE UN LOGO KE GHARO KO AAG LAGANE KO KAHA JO JAMAT SE NAMAZ NAHI PADHTE HAI.

ALLAHO ALAM UNKA MAMLA KAYA JO LOG NAMAZ HI NAHI PADHTE.


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN

जमात से नमाज़ ना पढ़ने वालो के घरो को आग

अल्लाह के रसूल सललाल्लाहू आलेही वासल्लम ने इरशाद फरमाया.

हज़रत अबू हुर्रेरा रज़ी. से रिवायत है
अल्लाह के रसूल सललाल्लाहू आलेही वासल्लम ने इरशाद फरमाया
कपटीयो पर फज्र और ईशा की नमाज़ से ज़्यादा भारी कोई नमाज़ नही होती अगर उन्हे पता चल जाए की दोनो नामज़ो का सवाब कितना ज़्यादा है तो उन दोनो नमाज़ में ज़रूर आते चाहे घुटनो के बाल ही आना पढ़ता.

मेने इरादा किया की मुअजजीन को हुक्म दू की वो ईकामत कहे फिर एक आदमी को हुक्म दू की वो ईमामत कराए और में खुद आग का एक शोला लेकर उन लोगो के घर को जला दू जो उस अज़ान और ईकामत के बाद नमाज़ के लिए घर से नही निकलते.

हदीस (सहीह बुखारी : 383)

अल्लाह के रसूल सललाल्लाहू आलेही वासल्लम ने इरशाद फरमाया.
कयामत के दिन अल्लाह के हक़ो मे से सबसे पहले नमाज़ का हिसाब होगा.
हदीस (सहीह सुनन तिर्मीज़ी : 337)

खुलासा कलाम ये है के अल्लाह के रसूल सललाल्लाहू आलेही वासल्लम ने उन लोगो के घरो को आग लगाने को कहा जो जमात से नमाज़ नही पढ़ते है.

अल्लाहो आलम उनका मामला क्या जो लोग नमाज़ ही नही पढ़ते.



अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता करे अमीन

Aaj Muslman Azan Dene Se katrate Hai Jabki Azan Dene Ki Badi Fazilat Hai.

HADEES E RASOOL SALLALLAHU ALAYHI WASALLAM NE IRSHAD FARMAYA

Hazrat Abu Sayed Khudari Razi. Se Riwayat Hai

Allah Ke Rasool SAW. Ne Irshad Farmaya
Muajjin ki awaz ko jinnat, insan aur jo jo chije sunti hai wo roze kayamat uske liye gawahi degi.
Hadees (Sahih Bukhari : 609)


Allah Ke Rasool SAW. Ne Irshad Farmaya
Muajjin ke liye sawab hai us shakhs ke sawab ke barabar jisne uski awaz sunkar namaz padhi.
Hadees (Sunan Nasai : 2/13)

KHULASA KALAM YE HAI KE MUAJJIN KI AWAZ SUNKAR JITNE LOG MASJID ME AKAR NAMAZ PADHEGE, UN SABKO APNI-APNI NAMAZ KA SAWAB PURA SAWAB TO MILEGA HI MAGAR MUAJJIN TAMAM NAMAZIYO KE SAWAB KE BARABAR AUR JYADA SAWAB MILEGA.
KYUNKI USNE UNKO NAMAZ KI TARAF BULAYA THA.


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA KARE AMIN

आज मुसलमान अज़ान देने से कतराते है जबकि अज़ान देने की बड़ी फ़ज़िलत है.

हदीस ए रसूल सललाल्लाहू आलेही वासल्लम ने इरशाद फरमाया

हज़रत अबू साईद खुदरी रज़ी. से रिवायत है

अल्लाह के रसूल सललाल्लाहू आलेही वासल्लम ने इरशाद फरमाया
मुअजजीन की आवाज़ को जिन्नात, इंसान और जो जो चीज़े सुनती है वो रोज़े कयामत उसके लिए गवाही देगी.

हदीस (सहीह बुखारी : 609)

अल्लाह के रसूल सललाल्लाहू आलेही वासल्लम ने इरशाद फरमाया

मुअजजीन के लिए सवाब है उस शख्स के सवाब के बराबर जिसने उसकी आवाज़ सुनकर नमाज़ पढ़ी.

हदीस (सुनन नसाई : 2/13)

खुलासा कलाम ये है के मुअजजीन की आवाज़ सुनकर जीतने लोग मस्जिद मे आकर नमाज़ पढ़ेगे, उन सबको अपनी-अपनी नमाज़ का सवाब पूरा सवाब तो मिलेगा ही मगर मुअजजीन तमाम नमाज़ियो के सवाब के बराबर और ज़्यादा सवाब मिलेगा.
क्यूंकी उसने उनको नमाज़ की तरफ बुलाया था.

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता करे अमीन

क्या आज की औरते साहाबियात से ज़्यादा पाक और शर्म करने वाली है

अल्लाह ने क़ुरान में फरमाया
ए नबी सललाल्लाहू आलेही वासल्लम अपनी बीवियो और अपनी बेटियो से और मुसलमानो की औरतों से कह दो वो अपने ऊपर अपनी चादरे लटका लिया करे.  (यानी परदा,हिज़ाब करे)
क़ुरान (सुरा आहज़ाब 33/59)

इस आयात में अल्लाह ने अपने रसूल से कहा के उनकी बीवी और बेटियों को और साहाबियात को पर्दे का हुक्म दो.

आज मुस्लिम औरतों को कहे के परदा करो तो सुनने को मिलता है की
परदा तो आँखो में शर्म होनी चाहिए, परदा तो दिल का होता है, जिस्म का नही

आज की मुस्लिम औरतों को सोचने की ज़रूरत है (नौज़बिल्लाह) क्या वो साहबियात से ज़्यादा पाक और शर्म करने वाली है ये जहालत है अल्लाह की आयात का इनकार करना है.


अल्लाह ने फरमाया
जिन लोगो ने हमारी आयतों (हिदायत) का इनकार किया वो हमेशा-हमेशा ज़ह्न्नम में रहेगे.
क़ुरान (सुरा आराफ 7/36)

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता करे अमीन

KYA AAJ KI AURATE SAHABIYAT SE JYADA PAK AUR SHARM KARNE WALI HAI

Allah Ne Quran Men Farmaya
A Nabi SAW.' Apni Biwiyo Aur Apni Betiyo Se Aur Muslmano Ki Aurton Se Kah Do Wo Apne Upar Apni Chadare Latka liya Kare.  (Yani Parda,Hizab Kare)
Quran (Sura Ahzab33/59)

IS AYAT MEN ALLAH NE APNE RASOOL SAW. SE KAHA KE UNKI BIWI AUR BETIYON KO AUR SAHABIYAT KO PARDE KA HUQM DO.

AAJ MUSLIM AURTON KO KAHE KE PARDA KARO TO SUNNE KO MILTA HAI KI
PARDA TO ANKHO MEN SHARM HONI CHAHIYE, PARDA TO DIL KA HOTA HAI, JISM KA NAHI

AAJ KI MUSLIM AURTON KO SOCHNE KI JARURAT HAI (NAUZBILLAH) KYA WO SAHABIYAT SE JYADA PAK AUR SHARM KARNE WALI HAI YE JAHALAT HAI ALLAH KI AYAT KA INKAR KARNA HAI.


ALLAH NE FARMAYA
Jin Logo Ne Hamari Ayaton (Hidayat) Ka Inkar Kiya Wo Hamesha-Hamesha Jahnnam Men Rahege.
Quran (Sura Araf 7/36)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA KARE AMIN

HAQ BAAT KA INKAR KARNA YANI TAKBBUR KARNA.

Allah Ne Quran Men Farmaya
Aur jab hamne farishton se kaha ke aadam ko sazda karo
to iblis ke siwa sab ne sazda kiya,
usne inkar kiya aur TAKBBUR kiya aur wo kafiron me se ho gaya.
Quran (Sura Baqra 2/34)

Allah Ke Rasool SAW. Ne hamen TAKBBUR Ki 2 Tafsil Batai
Haq baat ka inkar karna.
Dusre ko khud se kamtar samjhna.

AAB HAM BHI YAHAN GAUR KARE ALLAH AUR USKE RASOOL NE HAMEN 5 WAQT (NAMAZ) SAZDA KARNE KA HUQM DIYA HAM  BHI NAHI MANTE TO HAM BHI HAQ BAAT KA INKAR KARNE WALE HUE YANI TAKBBUR KARNE WALE.
ALLAH NE TO IBLIS KO KAFIR KAHA
HAMEN BHI GAURO FIKR KARNE KI JARURAT HAI.

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE K TOFFIK DE AMIN

Monday, 17 November 2014

NAMAZ KA CHODNA KUFR KI ALAAMAT

Hazrat jabir Razi Allahu Anhu Se Rivayat hai.
NABI KARIM SALLALLAHU ALAYHI WASALLAM ne farmaya.

Imaan aur kufr ke bich fark namaz ka chorh dena hai.
Hadees (Sahih Muslim 82)

Iska matlab ye hai ke islam aur kufr ke bich namaz diwar ki tarah mozood hai

(YANI EK MUSLMAN KA NAMAZ CHORH DENA KUFR TAK PAHUCHANE WALA AMAAL HAI)

Hazrat Abu Darda Razi Allahu Anhu Se Rivayat hai.
NABI KARIM SALLALLAHU ALAYHI WASALLAM ne farmaya.

Jo insaan namaz chorh de to yakinan Allah ka usko mauf karne ka jimma khatam ho gaya.
Hadees (Ibne Maza  4034)

(KHULASA KALAM YE HAI KE AGAR HAM NAMAZ NAHI PADHE TO PHIR KIS BINA PAR ALLAH SE MAUFI KI UMMID RAKHE)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE K TOFFIK DE AMIN......