Tuesday, 10 March 2015

आसान नमाज़ अरबी हिंदी लिपि (दो रकात नौ मुस्लिम के लिये )

आसान  नमाज़ (दो रकात ) अरबी हिंदी लिपि 

अल्लाहु अकबर ( कहकर  दोनों हाथ बांध ले  )

(ये पढ़े ) सुब्हा न कल्लाहुमा वबिहम्दिका व् तबरकसमुका व् तआला जददूका वला इलाह गैरुका० 
अउजबिल्लाह मिनश शैतान निराजीम० 
बिस्मिल्लाह हिर्रहमान निरराहिंम०

अल्हम्दु लिल्लाहि रब्बिल आलमीन ० 
अर्रहमान निर्रहीम ० 
मलिकी यौमिद्दीन ० 
इय्या क नअ बुदु व् इय्या क नस्तईन ० 
इहदिनससिरातल मुस्तकीम ० 
सिरातल्लजी न अन्अम त अलैहिम ०  
गैरिल मग्जूबि अलैहिम व् लज्जालीन ० (((आमीन )))

 अल्लाहु अकबर (कहकर रूकूअ में यानि झुककर दोनों हाथ घुटनो पर रखे )
(ये पढ़े ) सुब्हा न रब्बियल अज़ीम ० (३ बार )

 रूकूअ से खड़े होने की दुआ (सीधे खड़े हो कर )
(ये पढ़े ) समिअल्लाहु लिमन हमिदह ० 


अल्लाहु अकबर (कहकर सज्दे में यानि हाथ, सिर, नाक जमीन पर टिका दे )
(ये पढ़े ) सुब्हा न रब्बियल अअला ० (३ बार )

अल्लाहु अकबर (कहकर दोनों पैरो पर कुलहो के बल बैठ जाये )
(ये पढ़े ) रब्बिग्फिर्ली, रब्बिग्फिर्ली० 

अल्लाहु अकबर (कहकर सज्दे में यानि हाथ, सिर, नाक जमीन पर टिका दे )
(ये पढ़े ) सुब्हा न रब्बियल अअला ० (३ बार )

दूसरी रकात के लिये
अल्लाहु अकबर (कहकर सीधे खड़े होकर हाथ बांध ले )
(ये पढ़े ) जैसा ऊपर बताया गया (अल्हम्दु) से लेकर (आमीन) तक पढ़े दूसरी रकात पूरी करे

तशहहुद (यानि दोनों पैरो पर कुलहो के बल बैठ कर दोनों हाथ घुठनों के ऊपर रख ले )
 (ये पढ़े ) अत्तहिय्यातु लिल्लाही वस्स ल वातु वत् तय्यबातु अस्सलामु अलै क अय्युहन्नबिय्यु  व रहमतुल्लाहि व ब रकातुहु अस्सलामु अलैना व अला इबादिल्लाहिस सालिहीन
अश्हदु अल्ला इला ह इलल्लाहु व अश्हदु अन्न मुहम्मदन अब्दुहू व् रसूलुहू ० 

(फिर ये दुरुद पढ़े ) अल्लाहुम म सल्लि अला मुहम्मदिवं व् अला आलि मुहम्मदिन 
कमा सल्लै त अला इब्राही म व अला आलि इब्राही म इन्न क हमिदुम मज़ीद ० 
अल्लाहुम म बारिक अला मुहम्मदिवं व अला आलि मुहम्मदिन
कमा बारक त अला इब्राही म व अला आलि इब्राही म इन्न क हमिदुम मज़ीद ० 

(फिर ये दुआ पढ़े ) अल्लाहुम्मा रब्बना अतैना फ़िदुनिया हसनतवं  फिल आख़िरत हसनतवं व किन्न अज़ाबन्नार ०

(फिर सलाम फेर दे यानि सीधे कंधे की तरफ चेहरा करे )
 (ये पढ़े ) अस्सलामु  अलैकुम व रहमतुल्लाह
(फिर उल्टे कंधे की तरफ चेहरा करे)
 (ये पढ़े ) अस्सलामु  अलैकुम व रहमतुल्लाह 

 (ये पढ़े )  अल्लाहु अकबर (१ बार  जोर से कहे )
 (ये पढ़े ) अस्तग्फिरुल्लाह  (३ बार )

आप की  नमाज मुक्कमल हुई (इंशा अल्लाह )
((( जज़ाक अल्लाह )))

1 comment:

  1. sura fatiha ke bad ek sura or bhi to padhna h bhai....

    ReplyDelete

For any query call+919303085901