Thursday, 26 November 2015

ALLAH AUR RASOOL KI BAAT NA MANE UNKE LIYE JAHNNAM KI AAG HAI.

अल्लाह और रसूल की बात ना माने उनके लिए ज़ह्न्नम की आग है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
وَّاَنَّ الْمَسٰجِدَ لِلّٰهِ فَلَا تَدْعُوْا مَعَ اللّٰهِ اَحَدًا   وَّاَنَّهٗ لَمَّا قَامَ عَبْدُ اللّٰهِ يَدْعُوْهُ كَادُوْا يَكُوْنُوْنَ عَلَيْهِ لِبَدًا    قُلْ اِنَّمَآ اَدْعُوْا رَبِّيْ وَلَآ اُشْرِكُ بِهٖٓ اَحَدًا  قُلْ اِنِّىْ لَآ اَمْلِكُ لَكُمْ ضَرًّا وَّلَا رَشَدًا   قُلْ اِنِّىْ لَنْ يُّجِيْرَنِيْ مِنَ اللّٰهِ اَحَدٌ  ڏ وَّلَنْ اَجِدَ مِنْ دُوْنِهٖ مُلْتَحَدًا 
Aur ye ke masjidein sirf ALLAH hi ke liye khas hain ps ALLAH ke sath kisi aur ko na pukaro.
Aap kah dijeye ke main to sirf apne rab hi ko pukarta hun aur is ke sath kisi ko sharik nahi banata.
Kah dijiye ke mujhe tumhare kisi nuksan nafa (Faida) ka ikhtiyar nahi.
Kah dijiye ke mujhe hargiz koi ALLAH se bacha nahi sakta aur main hargiz us ke siwa koi jaye a panah bhi pa nahi sakta.
Albata (mera kaam) ALLAH ki baat aur is ke pegamaat (logo ko) pahuncha dena hai.
Ab jo bhi ALLAH aur us ke Rasool ki na mane ga
us ke liye jahannam ki aag hai jis main aise log hamesha rahenge.

Quran (Surah Jinn 72/18-23)

और ये के मस्जीदे सिर्फ़ अल्लाह ही के लिए खास हैं पस अल्लाह के साथ किसी और को ना पुकारो.
आप कह दीजिए के मैं तो सिर्फ़ अपने रब ही को पुकारता हूँ और इस के साथ किसी को शरीक नही बनता.
कह दीजिए के मुझे तुम्हारे किसी नुकसान ऩफा (फ़ायदा) का इख्तियार नही.
कह दीजिए के मुझे हरगिज़ कोई अल्लाह से बचा नही सकता और मैं हरगिज़ उस के सिवा कोई जाए ए पनाह भी पा नही सकता.
अलबत्ता (मेरा काम) अल्लाह की बात और इस के पेगामात (लोगो को) पहुँचा देना है.
अब जो भी अल्लाह और उस के रसूल की ना मानेगा
उस के लिए जहन्नम की आग है जिस मैं ऐसे लोग हमेशा रहेंगे.

क़ुरान (सुराह जिन्न 72/18-23)


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

ALLAH EK HAI WO SAMAJH LE JO AQL (DIMAAG) RAKHTE HAI.

अल्लाह एक है वो समझ ले जो अक़्ल (दिमाग़) रखते है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

هٰذَا بَلٰغٌ لِّلنَّاسِ وَلِيُنْذَرُوْا بِهٖ وَلِيَعْلَمُوْٓا اَنَّمَا هُوَ اِلٰهٌ وَّاحِدٌ وَّلِيَذَّكَّرَ اُولُوا الْاَلْبَابِ

Ye Quran tamam logo ke liye itla nama (Khabardar karne wala) hai taki iske jariye wo hoshiyar (Khabardar) ho jaye, Aur jaanle ke ALLAH EK hi mabood ibadat ke layak hai wo samajh le sanbhal jaye jo log akl (Dimaag) rakhte hai.
Quran (Surah Ibrahim 14/52)

وَيَوْمَ نَحْشُرُهُمْ جَمِيْعًا ثُمَّ نَقُوْلُ لِلَّذِيْنَ اَشْرَكُوْٓا اَيْنَ شُرَكَاۗؤُكُمُ الَّذِيْنَ كُنْتُمْ تَزْعُمُوْنَ    
Aur woh waqt bhi yaad karne ke kabil hai jis roz (Kayamat) ham un tamam Logo ko jama karenge, phir ham mushrikin se kahenge ke kahan hai tumharay wo sharik (Sajhidar) jin ka tum duniya men dawa kiya karte thay the ?
Quran (Surah Aanam 6/22)

ये क़ुरान तमाम लोगो के लिए इतला नामा (खबरदार करने वाला) है ताकि इसके ज़रिए वो होशियार (खबरदार) हो जाए, और जानले के अल्लाह एक ही माबूद इबादत के लायक है वो समझ ले संभल जाए जो लोग अक्ल (दिमाग़) रखते है ?.
क़ुरान (सुराह इब्राहिम 14/52)

और वो वक़्त भी याद करने के काबिल है जिस रोज़ (कयामत के दिन) हम उन तमाम लोगो को जमा करेंगे,
फिर हम मुश् रीकीन से कहेंगे के कहाँ है तुम्हारे वो शरीक (साझीदार) जिन का तुम दुनिया में दावा किया करते थे ?

क़ुरान (सुराह अनाम 6/22)


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

YAQEENAN ALLAH SHARIK KIYE JANE KO NAHI BAKHSHTA.

यक़ीनन अल्लाह शरीक किए जाने को नही बख्शता.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI. 
اِنَّ اللّٰهَ لَا يَغْفِرُ اَنْ يُّشْرَكَ بِهٖ وَيَغْفِرُ مَا دُوْنَ ذٰلِكَ لِمَنْ يَّشَاۗءُ  ۚوَمَنْ يُّشْرِكْ بِاللّٰهِ فَقَدِ افْتَرٰٓى اِثْمًا عَظِيْمًا 
Yaqeenan ALLAH apne sath sharik (Partner/saajhi) kiye janey ko nahi bakhshta Aur is ke siwa jise chahe bakhsh deta hai aur jo ALLAH ke sath sharik muqarrar kare us ne bahut bada gunah aur bohtan (jhooth) bandha.
Quran (Nisha 4/48)

وَلَقَدْ اُوْحِيَ اِلَيْكَ وَاِلَى الَّذِيْنَ مِنْ قَبْلِكَ ۚ لَىِٕنْ اَشْرَكْتَ لَيَحْبَطَنَّ عَمَلُكَ وَلَتَكُوْنَنَّ مِنَ الْخٰسِرِيْنَ  
Yaqeenan teri taraf bhi aur tujh se pehle (ke tamam nabiyon) ki taraf bhi wahee ki gai hai ke agar tune shirk kiya to bila shuba tera amal (tamaam nekiya, aur parhezgaariya) zaya ho jayega aur bil-yaqeen tu ziyan kaaron mein se ho jayega.
Quran (Zumar 39/65)

यक़ीनन अल्लाह अपने साथ शरीक (पार्ट्नर/साझी) किए जाने को नही बख्शता और इस के सिवा जिससे चाहे बख़्श देता है और जो अल्लाह के साथ शरीक मुक़र्रर करे उस ने बहुत बड़ा गुनाह और बोहतान (झूठ) बाँधा.
क़ुरान (निशा 4/48)

यक़ीनन तेरी तरफ भी और तुझ से पहले (के तमाम नबीयों) की तरफ भी वही की गई है के अगर तूने शिर्क किया तो बिला शुबा तेरा अमल (तमाम नेकिया, और परहेज़गारिया) ज़ाया हो जाएगा और बिल-यक़ीन तू ज़ियाँकारों में से हो जाएगा.
क़ुरान (ज़ूमर 39/65)


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

ISLIYE ALLAH KA SHUKR KARO.

इसलिए अल्लाह का शुक्र करो.


 IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
كَمَآ اَرْسَلْنَا فِيْكُمْ رَسُوْلًا مِّنْكُمْ يَتْلُوْا عَلَيْكُمْ اٰيٰتِنَا وَيُزَكِّيْكُمْ وَيُعَلِّمُكُمُ الْكِتٰبَ وَالْحِكْمَةَ وَيُعَلِّمُكُمْ مَّا لَمْ تَكُوْنُوْا تَعْلَمُوْنَ     
فَاذْكُرُوْنِيْٓ اَذْكُرْكُمْ وَاشْكُرُوْا لِيْ وَلَا تَكْفُرُوْنِ   
Jis tarah ham ney tum mein tumhin mein se rasool bheja jo hamari aayaten tumharay samney tilawat karta hai aur tumhen kitab-o-hikmat aur woh cheezen sikhata hai jin se tum be ilm the.
Isliye tum mera zikr karo mein bhi tumhen yaad karunga meri shukr guzari karo aur na shukri se bacho.

Quran (Surah Baqara 2/151-152)

जिसस तरह हम ने तुम में तुम्हीं में से रसूल भेजा जो हमारी आयतें तुम्हारे सामने तिलावत करता है और तुम्हें किताब-ओ हिकमत और वो चीज़ें सिखाता है जिन से तुम बे इल्म थे.
इसलिए तुम मेरा ज़िक्र करो में भी तुम्हें याद करूँगा मेरी शुक्र गुज़ारी करो और ना शुक्रि से बचो

क़ुरान (सुराह बक़रा 2/151-152)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

ALLAH KO ISLAM KE ALAWA KOI DIN KABUL NAHI.

अल्लाह को इस्लाम के अलावा कोई दिन काबुल नही.


 IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
Aaj mein ney tumharay liye deen ko kaamil(Pura) ker diya aur tum per apna inam bharpoor ker diya, aur tumharay liye islam kay deen honey per raza mand ho gaya.
Quran (Surah Maeeda 5/3)

Jo Islam ke alawa koi aur DEEN talab karega to uski taraf se kuch bhi qabool nahi kiya jayega. Aur aakhirat me wo nuksan uthane walo me se hoga.
Quran (Surah Imran 3/85)

DEEN (Maz’hab) to ALLAH ki nazar me ISLAM hi hai. Jinhein qitaab di gai hai, unhone to isme iske baad ikhtelaaf kiya ki Ilm unke paas aa chuka tha. Aisa unhone aapas me burey rawaiye ki wajah se kiya. Jo ALLAH ki aayato ka inkar karega to ALLAH bhi jald hi hisab lene wala hai.
Quran (Surah Imran 3/19)

आज मेने तुम्हारे लिए दीन को कामिल (पूरा) कर दिया और तुम पर अपना इनाम भरपूर कर दिया, और तुम्हारे लिए इस्लाम के दीन होने पर रज़ा मंद हो गया.
क़ुरान (सुराह माइदा 5/3)

जो इस्लाम के अलावा कोई और दीन तलब करेगा तो उसकी तरफ से कुछ भी क़बूल नही किया जाएगा. और आख़िरत मे वो नुकसान उठाने वालो मे से होगा.
क़ुरान (सुराह इमरान 3/85)

दीन (मॅजहब) तो अल्लाह की नज़र मे इस्लाम ही है. जिन्हें क़िताब दी गई है, उन्होने तो इसमे इसके बाद इख्तेलाफ किया की इल्म उनके पास आ चुका था. ऐसा उन्होने आपस मे बुरे रवैये के वजह से किया. जो अल्लाह की आयतो का इन्कार करेगा तो अल्लाह भी जल्द ही हिसाब लेने वाला है.”
क़ुरान (सुराह इमरान 3/19)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

Monday, 23 November 2015

KARZDAR KO MUHLAT DO.

कर्ज़दार को मुहलत दो.

Jis shakhs ko achcha lagta ho ki ALLAH us ko kayamat ke din sakhtiyo se nijat de to wo karzdar ko muhlat de ya maaf kar de.
Hadees (Sahih Muslim : 4000)

Aur agar koi tangi wala ho to use aasani tak muhlat deni chahiye aur sadka karo to tumhare liye behtar hai agar tum ilm wale ho. 
Quran : (Sura Baqra 2/280)

Jis ne tangdast ko muhlat di ya karz maaf kar diya to ALLAH use apna saya nasib karega.
Hadees (Sahih Muslim : 7512)

जिस शख्स को अच्छा लगता हो की अल्लाह उस को कयामत के दिन सख्तियो से निजात दे तो वो कर्ज़दार को मुहलत दे या माफ़ कर दे.
हदीस (सही मुस्लिम : 4000)

और अगर कोई तंगी वाला हो तो उसे आसानी तक मुहलत देनी चाहिए और सदका करो तो तुम्हारे लिए बेहतर है अगर तुम इल्म वाले हो.
क़ुरान : (सुरा बक़रा 2/280)

जिस ने तन्ग्दस्त को मुहलत दी या क़र्ज़ माफ़ कर दिया तो अल्लाह उसे अपना साया नसीब करेगा.
हदीस (सही मुस्लिम : 7512)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

GUSSA PINE WALO KO ALLAH APNA DOST RAKHTA HAI

गुस्सा पीने वालो को अल्लाह अपना दोस्त रखता है


Muttkin wo hai ! Jo Gussa pine wale aurlogo se dargujar karne wale hai, ALLAH TA'ALA in nekokaro ko dost rakhta hai.
Quran (Sura Ale Imran : 3/134)

Koi ghunt pine ka sawab ALLAH ke pas itna nahi jitna sawab gusse ka ghunt pine men hai jo ki aadmi ALLAH ki rjaa chahte huye piye.
Hadees (Ibne Mazah : 3377)

Jo aadmi gussa roke halanki use apna gussa pura karne ka ikhtiyar bhi ho to kayamat ke din ALLAH us ko sab logo ke samne bulayega aur farmayega jis hur ko tu chahe pasand kar le.
Hadees (Abu Dawud : 3997)


मुत्तक़ीन वो है ! जो गुस्सा पीने वाले और लोगो से दरगुजर करने वाले है, अल्लाह त'आला इन नेकोकारो को दोस्त रखता है.
क़ुरान (सुरा अले इमरान : 3/134)

कोई घूँट पीने का सवाब अल्लाह के पास इतना नही जितना सवाब गुस्से का घूँट पीने में है जो की आदमी अल्लाह की रजा चाहते हुए पिये.
हदीस (इब्न माज़ा : 3377)

जो आदमी गुस्सा रोके हालाँकि उसे अपना गुस्सा पूरा करने का इख्तियार भी हो तो कयामत के दिन अल्लाह उस को सब लोगो के सामने बुलाएगा और फरमाएगा जिस हूर को तू चाहे पसंद कर ले.
हदीस (अबू दाऊद : 3997)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

Friday, 20 November 2015

ALLAH ki nazar mein zaalim Koun Hai ?

अल्लाह की नज़र में ज़ालिम कौन है ?

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

Ay Logo Jo Imaan laye ho ! Mard dusre mardon ka mazaak na udaye, mumkin hai wo unse achche ho, aur na Auratein , aurato ka mazaak udaye mumkin hai wo unse achchi ho,
aur aapas men ek dusre par aib (Iljam, Tana Kasi) na lagao Aur na kisi ko bure lakab (Naam) do, Imaan lane ke baad nafarmaan ka naam jodna bahut hi bura hai. Aur jo shakhs (Tauba na kare) baaz naa aaye, to aise hi log zaalim hai.

Quran (Sura Huzuraat 49/11)

Jo us qanoon (Shariyat) ke mutabik faisla na karey, jisey ALLAH ne (Quran) utara hai to aise hi log Zaalim hain.
Quran (Sura Mayeda : 5/45)

ए लोगो जो ईमान लाए हो ! मर्द दूसरे मर्दों का मज़ाक ना उड़ाए, मुमकिन है वो उनसे अच्छे हो, और ना औरतें औरतो का मज़ाक उड़ाए मुमकिन है वो उनसे अच्छी हो, और आपस में एक दूसरे पर ऐब (इल्ज़ाम, ताना कसी) ना लगाओ और ना किसी को बुरे लकब (नाम) दो, ईमान लाने के बाद नफ़ारमान का नाम जोड़ना बहुत ही बुरा है. और जो शख्स (तौबा ना करे) बाज़ ना आए, तो ऐसे ही लोग ज़ालिम है.क़ुरान (सुरा हुज़ूरात 49/11)

जो उस क़ानून (शरीयत) के मुताबिक फ़ैसला ना करे,
जिसे अल्लाह ने (क़ुरान) उतारा है तो ऐसे ही लोग ज़ालिम हैं.”

क़ुरान (सुरा मायेदा : 5/45)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

Mujhe sabse zyada kis baat se bachna chahiye ? /

मुझे सबसे ज़्यादा किस बात से बचना चाहिए ?

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

Yaad karo jab Luqmaan(Alayhissalam) ne apne bete se, usey naseehat karte hue kahaa- Ay mere bete ! ALLAH k sath shirk na kar. Beshk Shirk bahut badaa zulm hai.
Quran ( Lukman 31/13)

“A Imaan walo ! Bahut bad gumaaniyo se bacho, yakin mano baz bad gumaaniya gunaah hai.
Aur  bhed na tatola karo aur na tum men se koi kisi ki gibat kare- kya tum se koi bhi apne murda bhai ka gost khana pasand karta hai ? tum ko isse ghinn aayegi'
aur ALLAH se darte raho Beshk ALLAH tauba kabul karne wala mehrban hai.

Quran (Sura Huzrat 49/12)

याद करो जब लुक़मान(अलायहिस्सलाम) ने अपने बेटे से, उसे नसीहत करते हुए कहा- ए मेरे बेटे ! अल्लाह के साथ शिर्क ना कर. बेशक शिर्क बहुत बड़ा ज़ुल्म है.”
क़ुरान (सुरा लुक़मान 31/13)

“ए ईमान वालो ! बहुत बद गुमानियो से बचो, यकीन मानो बाज़ बद गुमानिया गुनाह है. और  भेद ना टटोला करो और ना तुम में से कोई किसी की गीबत करे- क्या तुम से कोई भी अपने मुर्दा भाई का गोस्त खाना पसंद करता है ? तुम को इससे घिन्न आएगी' और अल्लाह से डरते रहो बेशक अल्लाह तौबा काबुल करने वाला मेहरबान है.
क़ुरान (सुरा हूज़रात 49/12)


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

Meri zindagi aur maut ka kya maqsad hai ?

मेरी ज़िंदगी और मौत का क्या मक़सद है ?

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

Wo jisne Maut aur Zindagi ko paida kiya ke tumhe ajmaye (Imtihaan/jaanche/exam) ke tum me kaun sabse achche amal karta hai. Wo (ALLAH) hi Izzat wala bakhshish wala hai.”
Quran (Sura Mulk 67/2)

Maine jinnaat aur insaano ko mahaj is liye paida kiya hai ke wo sirf meri ibadat kare.
Quran (Sura Jariyat 51/56)

“वो जिसने मौत और ज़िंदगी को पैदा किया के तुम्हे आज़माए (इम्तिहान/जाँचे/exam) के तुम मे कौन सबसे अच्छे अमल करता है. वो (अल्लाह) ही इज़्ज़त वाला बखशीश वाला है.”
क़ुरान (सुरा मुल्क 67/2)

मैने जिन्नात और इंसानो को महज इस लिए पैदा किया है के वो सिर्फ़ मेरी इबादत करे.
क़ुरान (सुरा ज़ारियात 51/56)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)