Thursday, 26 November 2015

ALLAH AUR RASOOL KI BAAT NA MANE UNKE LIYE JAHNNAM KI AAG HAI.

अल्लाह और रसूल की बात ना माने उनके लिए ज़ह्न्नम की आग है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
وَّاَنَّ الْمَسٰجِدَ لِلّٰهِ فَلَا تَدْعُوْا مَعَ اللّٰهِ اَحَدًا   وَّاَنَّهٗ لَمَّا قَامَ عَبْدُ اللّٰهِ يَدْعُوْهُ كَادُوْا يَكُوْنُوْنَ عَلَيْهِ لِبَدًا    قُلْ اِنَّمَآ اَدْعُوْا رَبِّيْ وَلَآ اُشْرِكُ بِهٖٓ اَحَدًا  قُلْ اِنِّىْ لَآ اَمْلِكُ لَكُمْ ضَرًّا وَّلَا رَشَدًا   قُلْ اِنِّىْ لَنْ يُّجِيْرَنِيْ مِنَ اللّٰهِ اَحَدٌ  ڏ وَّلَنْ اَجِدَ مِنْ دُوْنِهٖ مُلْتَحَدًا 
Aur ye ke masjidein sirf ALLAH hi ke liye khas hain ps ALLAH ke sath kisi aur ko na pukaro.
Aap kah dijeye ke main to sirf apne rab hi ko pukarta hun aur is ke sath kisi ko sharik nahi banata.
Kah dijiye ke mujhe tumhare kisi nuksan nafa (Faida) ka ikhtiyar nahi.
Kah dijiye ke mujhe hargiz koi ALLAH se bacha nahi sakta aur main hargiz us ke siwa koi jaye a panah bhi pa nahi sakta.
Albata (mera kaam) ALLAH ki baat aur is ke pegamaat (logo ko) pahuncha dena hai.
Ab jo bhi ALLAH aur us ke Rasool ki na mane ga
us ke liye jahannam ki aag hai jis main aise log hamesha rahenge.

Quran (Surah Jinn 72/18-23)

और ये के मस्जीदे सिर्फ़ अल्लाह ही के लिए खास हैं पस अल्लाह के साथ किसी और को ना पुकारो.
आप कह दीजिए के मैं तो सिर्फ़ अपने रब ही को पुकारता हूँ और इस के साथ किसी को शरीक नही बनता.
कह दीजिए के मुझे तुम्हारे किसी नुकसान ऩफा (फ़ायदा) का इख्तियार नही.
कह दीजिए के मुझे हरगिज़ कोई अल्लाह से बचा नही सकता और मैं हरगिज़ उस के सिवा कोई जाए ए पनाह भी पा नही सकता.
अलबत्ता (मेरा काम) अल्लाह की बात और इस के पेगामात (लोगो को) पहुँचा देना है.
अब जो भी अल्लाह और उस के रसूल की ना मानेगा
उस के लिए जहन्नम की आग है जिस मैं ऐसे लोग हमेशा रहेंगे.

क़ुरान (सुराह जिन्न 72/18-23)


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

No comments:

Post a Comment

For any query call+919303085901