Friday, 20 November 2015

ALLAH ki nazar mein zaalim Koun Hai ?

अल्लाह की नज़र में ज़ालिम कौन है ?

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

Ay Logo Jo Imaan laye ho ! Mard dusre mardon ka mazaak na udaye, mumkin hai wo unse achche ho, aur na Auratein , aurato ka mazaak udaye mumkin hai wo unse achchi ho,
aur aapas men ek dusre par aib (Iljam, Tana Kasi) na lagao Aur na kisi ko bure lakab (Naam) do, Imaan lane ke baad nafarmaan ka naam jodna bahut hi bura hai. Aur jo shakhs (Tauba na kare) baaz naa aaye, to aise hi log zaalim hai.

Quran (Sura Huzuraat 49/11)

Jo us qanoon (Shariyat) ke mutabik faisla na karey, jisey ALLAH ne (Quran) utara hai to aise hi log Zaalim hain.
Quran (Sura Mayeda : 5/45)

ए लोगो जो ईमान लाए हो ! मर्द दूसरे मर्दों का मज़ाक ना उड़ाए, मुमकिन है वो उनसे अच्छे हो, और ना औरतें औरतो का मज़ाक उड़ाए मुमकिन है वो उनसे अच्छी हो, और आपस में एक दूसरे पर ऐब (इल्ज़ाम, ताना कसी) ना लगाओ और ना किसी को बुरे लकब (नाम) दो, ईमान लाने के बाद नफ़ारमान का नाम जोड़ना बहुत ही बुरा है. और जो शख्स (तौबा ना करे) बाज़ ना आए, तो ऐसे ही लोग ज़ालिम है.क़ुरान (सुरा हुज़ूरात 49/11)

जो उस क़ानून (शरीयत) के मुताबिक फ़ैसला ना करे,
जिसे अल्लाह ने (क़ुरान) उतारा है तो ऐसे ही लोग ज़ालिम हैं.”

क़ुरान (सुरा मायेदा : 5/45)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

No comments:

Post a Comment

For any query call+919303085901