Friday, 20 November 2015

Meri zindagi aur maut ka kya maqsad hai ?

मेरी ज़िंदगी और मौत का क्या मक़सद है ?

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

Wo jisne Maut aur Zindagi ko paida kiya ke tumhe ajmaye (Imtihaan/jaanche/exam) ke tum me kaun sabse achche amal karta hai. Wo (ALLAH) hi Izzat wala bakhshish wala hai.”
Quran (Sura Mulk 67/2)

Maine jinnaat aur insaano ko mahaj is liye paida kiya hai ke wo sirf meri ibadat kare.
Quran (Sura Jariyat 51/56)

“वो जिसने मौत और ज़िंदगी को पैदा किया के तुम्हे आज़माए (इम्तिहान/जाँचे/exam) के तुम मे कौन सबसे अच्छे अमल करता है. वो (अल्लाह) ही इज़्ज़त वाला बखशीश वाला है.”
क़ुरान (सुरा मुल्क 67/2)

मैने जिन्नात और इंसानो को महज इस लिए पैदा किया है के वो सिर्फ़ मेरी इबादत करे.
क़ुरान (सुरा ज़ारियात 51/56)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

No comments:

Post a Comment

For any query call+919303085901