Tuesday, 1 November 2016

BATAO TUMHARE SHARIKO MEN SE KOI BHI AISA HAI.


बताओ तुम्हारे शरीक़ो में से कोई भी ऐसा है


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
اَللّٰهُ الَّذِيْ خَلَقَكُمْ ثُمَّ رَزَقَكُمْ ثُمَّ يُمِيْتُكُمْ ثُمَّ يُحْيِيْكُمْ ۭ هَلْ مِنْ شُرَكَاۗىِٕكُمْ مَّنْ يَّفْعَلُ مِنْ ذٰلِكُمْ مِّنْ شَيْءٍ ۭ سُبْحٰنَهٗ وَتَعٰلٰى عَمَّا يُشْرِكُوْنَ  
ALLAH Wo hai jisne tumhe paida kiya phir rozi di phir mar dalega phir jinda karega' batao tumhare shariko men se koi bhi aisa hai jo un men se kuch bhi kar sakta ho ALLAH ke liye paki aur badai hai har us sharik se jo ye log mukarar karte hai.QURAN (Surah Room 30/40)

FARMANE NABVI HAI.
"ALLAH TA'ALA Farmata hai ke ai mere bando! tum sab bhukhe ho siwa uske jise men khilaoon isliye mujhse khana mango men tumhe khilaoonga' Ai mere bando! tum sab nange ho siwa uske jise men libas pahnaoon lihaza mujh se libas mango men tumhe pahnaoonga."HADEES (Sahi'h Muslim : 2577 )

इरशादे बारी त'आला है.
अल्लाह वो है जिसने तुम्हे पैदा किया फिर रोज़ी दी फिर मार डालेगा फिर जिंदा करेगा' बताओ तुम्हारे शरीक़ो में से कोई भी ऐसा है जो उन में से कुछ भी कर सकता हो अल्लाह के लिए पाकी और बड़ाई है हर उस शरीक से जो ये लोग मुकर्रर करते है.क़ुरान (सुराह रूम 30/40)

फरमाने नब्वी है.
"अल्लाह त'आला फरमाता है के ऐ मेरे बन्दो! तुम सब भूखे हो सिवा उसके जिसे में खिलाऊं इसलिए मुझसे खाना माँगो में तुम्हे खिलाऊँगा' ऐ मेरे बन्दो! तुम सब नंगे हो सिवा उसके जिसे में लिबास पहनाऊँ लिहाज़ा मुझ से लिबास माँगो में तुम्हे पहनाऊंगा."हदीस (सही'ह मुस्लिम : 2577 )

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

ALLAH KE SIWA KOI KHAJOR KI GUTHALI KE CHHILKE KA BHI MALIK NAHI.


अल्लाह के सिवा कोई खजूर की गुठली के छिलके का भी मलिक नही.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
ذٰلِكُمُ اللہُ رَبُّكُمْ لَہُ الْمُلْكُ٠ۭ وَالَّذِيْنَ تَدْعُوْنَ مِنْ دُوْنِہٖ مَا يَمْلِكُوْنَ مِنْ قِطْمِيْرٍ ۝١٣ۭ اِنْ تَدْعُوْہُمْ لَا يَسْمَعُوْا دُعَاۗءَكُمْ٠ۚ وَلَوْ سَمِعُوْا مَا اسْتَجَابُوْا لَكُمْ٠ۭ وَيَوْمَ الْقِيٰمَۃِ يَكْفُرُوْنَ بِشِرْكِكُمْ٠ۭ وَلَا يُنَبِّئُكَ مِثْلُ خَبِيْرٍ ۝١٤ۧ يٰٓاَيُّہَا النَّاسُ اَنْتُمُ الْفُقَرَاۗءُ اِلَى اللہِ٠ۚ وَاللہُ ہُوَالْغَنِيُّ الْحَمِيْدُ ۝١٥ 
Yahi ALLAH tumhara rab hai' usi ki badshahi hai aur uske siwa jin ko tum pukarate ho wo khajur ki guthali ke chhilke ke bhi malik nahi.

Agar tum unko pukaro to wo tumhari pukar ko nahi sun sakege aur agar sun bhi le to wo tumhe jawab nahi denge aur roje kayamat wo tumhare us shirk ka inkar kar denge aur aap ko ALLAH khub khabar rakhne wale ki tarah koi khabar nahi dega.

Ai Logo! Tum sab ALLAH ke mohtaj ho aur ALLAH hi be niyaz, hamd wa sana ke layak hai.
(QURAN (Surah Fatir 35/13-15)


इरशादे बारी त'आला है.
यही अल्लाह तुम्हारा रब है' उसी की बादशाही है और उसके सिवा जिन को तुम पुकारते हो वो खजूर की गुठली के छिल्के के भी मालिक नही.

अगर तुम उनको पुकारो तो वो तुम्हारी पुकार को नही सुन सकेगे और अगर सुन भी ले तो वो तुम्हे जवाब नही देंगे और रोजे कयामत वो तुम्हारे उस शिर्क का इन्कार कर देंगे और आप को अल्लाह खूब खबर रखने वाले की तरह कोई खबर नही देगा.

ऐ लोगो! तुम सब अल्लाह के मोहताज हो और अल्लाह ही बे न्याज, हम्द व सना के लायक है.

(क़ुरान (सुराह फातीर 35/13-15)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

ALLAH TA'ALA KE ALAWA KOI MAKKHI BHI NAHI BANA SAKTA.


अल्लाह त'आला के अलावा कोई मक्खी भी नही बना सकता.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

يٰٓاَيُّهَا النَّاسُ ضُرِبَ مَثَلٌ فَاسْتَمِعُوْا لَهٗ  ۭ اِنَّ الَّذِيْنَ تَدْعُوْنَ مِنْ دُوْنِ اللّٰهِ لَنْ يَّخْلُقُوْا ذُبَابًا وَّلَوِ اجْتَمَعُوْا لَهٗ  ۭ وَاِنْ يَّسْلُبْهُمُ الذُّبَابُ شَيْـــــًٔـا لَّا يَسْتَنْقِذُوْهُ مِنْهُ  ۭ ضَعُفَ الطَّالِبُ وَالْمَطْلُوْبُ 
مَا قَدَرُوا اللّٰهَ حَقَّ قَدْرِهٖ  ۭاِنَّ اللّٰهَ لَقَوِيٌّ عَزِيْزٌ 
Ai Logo! Ek misaal bayan ki ja rahi hai jra kaan lagakar sunlo! ALLAH ke alawa jin-jin ko tum pukarate ho wo ek makkhi bhi to paida nahi kar sakte,
Chahe sare ke sare  hi jama ho jaye' balki agar makkhi unse koi chij le bhage to ye to use bhi us se chhin nahi sakte,
bada hi kamjor hai mangne wala aur bada hi kamjor hai jisse madad mangi ja rahi hai.
Inhone ALLAH ke martabe ke mutabik us ki kadr jani hi nahi ALLAH bada hi jor kuwwat wala aur galib wa jabar dast hai.
(QURAN (Surah Haj 22/73-74)

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
ھٰذَا خَلْقُ اللّٰهِ فَاَرُوْنِيْ مَاذَا خَلَقَ الَّذِيْنَ مِنْ دُوْنِهٖ ۭ بَلِ الظّٰلِمُوْنَ فِيْ ضَلٰلٍ مُّبِيْنٍ  
Ye hai ALLAH ki makhluk ab tum mujhe uske siwa dusare ki koi makhluk to dikhao (Kuch nahi) Balki ye zalim khuli gumrahi men hai.(QURAN (Surah Lukmaan 31/11)


इरशादे बारी त'आला है.
ऐ लोगो! एक मिसाल बयान की जा रही है जरा कान लगाकर सुनलो! अल्लाह के अलावा जिन-जिन को तुम पुकारते हो वो एक मक्खी भी तो पैदा नही कर सकते,
चाहे सारे के सारे  ही जमा हो जाए' बल्कि अगर मक्खी उनसे कोई चीज़ ले भागे तो ये तो उसे भी उस से छिन नही सकते,
बड़ा ही कमजोर है माँगने वाला और बड़ा ही कमजोर है जिससे मदद माँगी जा रही है.
इन्होने अल्लाह के मरतबे के मुताबिक उस की कद्र जानी ही नही अल्लाह बड़ा ही ज़ोर कुव्वत वाला और ग़ालिब व जबर दस्त है.

(क़ुरान (सुराह हज 22/73-74)

इरशादे बारी त'आला है.
ये है अल्लाह की मखलूक अब तुम मुझे उसके सिवा दूसरे की कोई मखलूक तो दिखाओ (कुछ नही) बल्कि ये ज़ालिम खुली गुमराही में है.(क़ुरान (सुराह लुक़मान 31/11)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

JO IS HAAL MEN FOUT HUAA (MARA) JAHNNAM ME JAYEGA.


 जो इस हाल में फौत हुआ (मरा) ज़ह्न्नम मे जाएगा.


FARMANE NABVI HAI.
Jo is haal men fout hua ke wo ALLAH ke sath kisi ko sharik thaharata (Karta) tha wo jahannam men dala jayega.
HADEES (Bukhari : 2753)

FARMANE NABVI HAI.
Ai Kuraish ke logo! (Akida toheed apna kar) apni-apni jano ko moul le lo (Bacha lo'kyunke) men ALLAH ke samne tumhare kuch kaam nahi aaoonga,
Ai Abde munaf ke baito! men ALLAH ke samne tumhare kuch kaam nahi aaoonga,
Ai Abbas abdul mutalib ke baito! men ALLAH ke samne tumhare kuch kaam nahi aaoonga,
Safiya meri fufi! men ALLAH ke samne tumhare kuch kaam nahi aaoonga,
Fatma meri baiti! tu mere maal men jo chahe mang le lekin men ALLAH ke samne tumhare kuch kaam nahi aaoonga.
HADEES (Bukhari : 6673)


फरमाने नब्वी है.
जो इस हाल में फौत हुआ के वो अल्लाह के साथ किसी को शरीक ठहराता (करता) था वो जहन्नम में डाला जाएगा.
हदीस (बुखारी : 2753)

फरमाने नब्वी है.
ऐ कुरैश के लोगो! (अकीदा तोहीद अपना कर) अपनी-अपनी जानो को मौल ले लो (बचा लो' क्यूंके) में अल्लाह के सामने तुम्हारे कुछ काम नही आऊंगा,
ऐ अब्दे मुनाफ़ के बेटो! में अल्लाह के सामने तुम्हारे कुछ काम नही आऊंगा,
ऐ अब्बास अब्दुल मुतालिब के बेटो! में अल्लाह के सामने तुम्हारे कुछ काम नही आऊंगा,
सफिया मेरी फूफी! में अल्लाह के सामने तुम्हारे कुछ काम नही आऊंगा,
फ़ातमा मेरी बैटी! तू मेरे माल में जो चाहे माँग ले लेकिन में अल्लाह के सामने तुम्हारे कुछ काम नही आऊंगा.
हदीस (बुखारी : 6673)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

BESHAK ALLAH HAR CHIJ PAR KUDRAT RAKHTA.


बेशक अल्लाह हर चीज़ पर कूदरत रखता.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
اَللّٰهُ خَالِقُ كُلِّ شَيْءٍ ۡ وَّهُوَ عَلٰي كُلِّ شَيْءٍ وَّكِيْلٌ
Kah dijiye ke sirf ALLAH hi har chij ka khalik (Paida karne wala) hai wo akela hai aur jabardast galib hai.
QURAN (Surah Jumar 39/62)

وَاللّٰهُ خَلَقَ كُلَّ دَاۗبَّةٍ مِّنْ مَّاۗءٍ ۚ فَمِنْهُمْ مَّنْ يَّمْشِيْ عَلٰي بَطْنِهٖ  ۚ وَمِنْهُمْ مَّنْ يَّمْشِيْ عَلٰي رِجْلَيْنِ ۚ وَمِنْهُمْ مَّنْ يَّمْشِيْ عَلٰٓي اَرْبَعٍ  ۭ يَخْلُقُ اللّٰهُ مَا يَشَاۗءُ  ۭ اِنَّ اللّٰهَ عَلٰي كُلِّ شَيْءٍ قَدِيْرٌ
Tamam chalne firane wale jandar ko ALLAH hi ne pani se paida kiya hai un men se kuch to apne pet ke bal chalte hai, kuch do panw par aur kuch char panw par ALLAH jo chahata hai paida karta hai beshak ALLAH har chij par kudrat rakhta hai.QURAN (Surah Noor 24/45)


इरशादे बारी त'आला है.
कह दीजिए के सिर्फ़ अल्लाह ही हर चीज़ का खालिक (पैदा करने वाला) है वो अकेला है और जबरदस्त ग़ालिब है.
क़ुरान (सुराह जुमर 39/62)

तमाम चलने फिरने वाले जानदार को अल्लाह ही ने पानी से पैदा किया है उन में से कुछ तो अपने पेट के बल चलते है, कुछ दो पाँव पर और कुछ चार पाँव पर अल्लाह जो चाहता है पैदा करता है बेशक अल्लाह हर चीज़ पर कूदरत रखता है.क़ुरान (सुराह नूर 24/45)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

AKIDA TOUHEED INSAANI FITRAT MEN SHAMIL HAI.


अकीदा तौहीद इंसानी फ़ितरत में शामिल है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

فَاَقِمْ وَجْهَكَ لِلدِّيْنِ حَنِيْفًا   ۭ فِطْرَتَ اللّٰهِ الَّتِيْ فَطَرَ النَّاسَ عَلَيْهَا   ۭ لَا تَبْدِيْلَ لِخَلْقِ اللّٰهِ ۭ ذٰلِكَ الدِّيْنُ الْـقَيِّمُ  ڎ وَلٰكِنَّ اَكْثَرَ النَّاسِ لَا يَعْلَمُوْنَ

Ai Nabi SAW. aap iksu ho kar apna rukh din ki taraf kar lo (Yani Akida Touheed par majbuti se kayam rahe)
ALLAH TA'ALA ki wo fitrat (Millat e Islam aur touheed) jis par usne logo ko paida kiya hai
ALLAH ki khalk ko badlana nahi (Yani Fitrat ko na badlo) yahi sidha din hai lekin aksar log nahi jante hai
(Isliye wo touheed ko chod kar batil akido aur najaryat ko apnaye baithe hai)

QURAN (Surah Room 30/30)


इरशादे बारी त'आला है.
ऐ नबी सल्ल. आप ईक़्सू हो कर अपना रुख़ दिन की तरफ कर लो (यानी अकीदा तौहीद पर मजबूती से कायम रहे)
अल्लाह त'आला की वो फ़ितरत (मिल्लत ए इस्लाम और तौहीद) जिस पर उसने लोगो को पैदा किया है
अल्लाह की खल्क को बदलना नही (यानी फ़ितरत को ना बदलो) यही सीधा दिन है लेकिन अक्सर लोग नही जानते है
(इसलिए वो तौहीद को छोड़ कर बातिल अकिदो और नज़रयात को अपनाए बैठे है)

क़ुरान (सुराह रूम 30/30)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

ALLAH KE SIWA KISI NE KUCH BANAYA HO TO DIKHAO.


अल्लाह के सिवा किसी ने कुछ बनाया हो तो दिखाओ.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
A Nabi inse kaho, Kabhi tumne dekha hai apne un shariko ko jinhe tum ALLAH ke alaawa pukarte ho?
Mujhe batao unhone zamin ka konsa hissa paida kiya?
Ya aasmano men unki kaya hissedari hai?
(agar ye nahi bata sakte inse pucho)
kya hamne inhe koi kitab di hai jiski dalil (Sanad) par ye kaayam hai
NAHI balki ye jalim ek dusre ko sirf fareb ke jhanse diye ja rahe hai.

QURAN (Surah Fatir 35/40 )

इरशादे बारी त'आला है.
ए नबी इनसे कहो, कभी तुमने देखा है अपने उन शरीक़ो को जिन्हे तुम अल्लाह के अलावा पुकारते हो?
मुझे बताओ उन्होने ज़मीन का कौनसा हिस्सा पैदा किया?
या आसमानो में उनकी क्या हिस्सेदारी है?
(अगर ये नही बता सकते इनसे पूछो)
क्या हमने इन्हे कोई किताब दी है जिसकी दलील (सनद) पर ये कायम है
नही बल्कि ये जालिम एक दूसरे को सिर्फ़ फरेब के झाँसे दिए जा रहे है.

क़ुरान (सुराह फातीर 35/40 )

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

KALAMA TOUHEED KI PAHCHAN KA FAYDA.


कलमा तौहीद की पहचान का फायदा.


FARMANE NABVI HAI.
Jo shakhs is haal men mra ke use kalma la ilaha illallah (Yani akida touheed) ka ilm ho to wo jannat men jayega.
HADEES (Sahi'h Muslim : 26)

Note : Wajeh rahe yaha wo shakhs murad hai jo akida touheed ka ilm hasil karne ke baad us ke takaje bhi pure karta hai.

फरमाने नब्वी है.
जो शख्स इस हाल में मरा के उसे कलमा ला इलाहा इल्लल्लाह (यानी अकीदा तौहीद) का इल्म हो तो वो जन्नत में जाएगा.
हदीस (सही'ह मुस्लिम : 26)

नोट : वाजेह रहे यहा वो शख्स मुराद है जो अकीदा तौहीद का इल्म हासिल करने के बाद उस के तकाज़े भी पूरे करता है.

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

A NABI SAW. UNHE DARDNAK AZAAB KI KHUSH KHABRI SUNA DO.


ए नबी सल्ल. उन्हे दर्दनाक अज़ाब की खुश खबरी सुना दो.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
Jo Aayate ilahi apne samne padhi jati  hui sune phir bhi garur karta hai apni baat par ada rahta hai
jaise usne suna hi nahi to aise logo ko dardnak azaab ki khush khabri suna do.
Wo jab hamari aayato men se kuch jaan leta hai to mazak banata hai aise hi logo ke liye ruswakun azaab hai.
Un ke piche jahnnam hai jo kuch unhone hasil kiya tha kuch kaam na aayega aur na wo jinko ALLAH ke siwa karsaz bana rakha tha un ke liye to bahut bada azaab hai.

QURAN (Surah Jasiya 45/8-10)

इरशादे बारी त'आला है.
जो आयाते इलाही अपने सामने पढ़ी जाती हुई सुने फिर भी गरूर करता है अपनी बात पर अड़ा रहता है
जैसे उसने सुना ही नही तो ऐसे लोगो को दर्दनाक अज़ाब की खुश खबरी सुना दो.
वो जब हमारी आयतो में से कुछ जान लेता है तो मज़ाक बनाता है ऐसे ही लोगो के लिए रुस्वाकुन अज़ाब है.
उन के पीछे जह्न्नम है जो कुछ उन्होने हासिल किया था कुछ काम ना आएगा और ना वो जिनको अल्लाह के सिवा कारसज़ बना रखा था उन के लिए तो बहुत बड़ा अज़ाब है.

क़ुरान (सुराह जासिया 45/8-10)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

ALLAH KE NAZDIK KAMYAB LOG.


अल्लाह के नज़दीक कामयाब लोग.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
A Imaan walo! ruku karo aur sajda karo, aur apne rab ki ibaadat karo, aur bhalai ke kaam karo taki tum Kamyab ho jao.QURAN (Surah Hajj 22/77)

A Imaan walo! ALLAH se daro aur sidhi sachchi baat kaha karo.
wo tumhare amal durust kar dega aur tumhare liye tumhare gunah bakhsh dega aur jo ALLAH aur uske rasool ki it'aat kare, to yakinan usne bahut badi kamyabi hasil karli.
QURAN (Surah Ahzab 33/70-71)

Phir jab namaz puri ho jaye, to tum zamin men fail jao aur ALLAH ka fazl talash karo, aur ALLAH ko kasrat se yaad karo, Shayad tum kamyab ho jao.QURAN (Surah Jumua 62/10)


इरशादे बारी त'आला है.
ए ईमान वालो! रुकु करो और सज्दा करो, और अपने रब की इबादत करो, और भलाई के काम करो ताकि तुम कामयाब हो जाओ.
क़ुरान (सुराह हज्ज 22/77)

ए ईमान वालो! अल्लाह से डरो और सीधी सच्ची बात कहा करो.
वो तुम्हारे अमल दुरुस्त कर देगा और तुम्हारे लिए तुम्हारे गुनाह बख़्श देगा और जो अल्लाह और उसके रसूल की इत'आत करे, तो यक़ीनन उसने बहुत बड़ी कामयाबी हासिल करली.
क़ुरान (सुराह अहजाब 33/70-71)

फिर जब नमाज़ पूरी हो जाए, तो तुम ज़मीन में फैल जाओ और अल्लाह का फ़ज़ल तलाश करो, और अल्लाह को कसरत से याद करो, शायद तुम कामयाब हो जाओ.क़ुरान (सुराह ज़ुमुआ 62/10)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

ALLAH KE QURAN MEN SHAK KARNE WALO KO CHUNAUTI (CHALLENGE).


अल्लाह के क़ुरान में शक करने वालो को चुनौती (चॅलेंज).


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
Kah dijiye agar tamam insaan aur jinn milkar is quran ki jaisi kitab lana chahe to na la sakege chahe ek dusre ke madadgar bhi ban jaye.QURAN (Surah Isra 17-88)

Kya wo kahte hai ki isne ye (QURAN) ghd liya hai? kah dijiye phir tum bhi us jaisi das surat ghd lao aur ALLAH ke siwa apne madadgaro ko bhi bula lo agar tum sachche ho.QURAN (Surah Hud 11/13)

Kya wo kahte hai ki isne ye (QURAN) ghd liya hai? balki wo imaan nahi late. phir unhe chahiye ki is (QURAN) jaisi ek baat le aaye agar wo sachche hai.QURAN (Surah Tur 52/33-34)

Aur Agar tum is (QURAN) ke bare men shak men ho jo hamne apne bande par nazil kiya to tum is jaisi ek surat le aao aur ALLAH ke siwa apne madadgaro ko bhi bula lo agar tum sachche ho.
Pas agar tum ye kaam na kar sako aur tum kar bhi nahi sakoge, to us aag se bacho jiska indhan insaab aur patthar hai aur wo kafiro (Inkariyo) ke liye taiyar ki gai hai.
QURAN (Surah Baqra 2/23-24)


इरशादे बारी त'आला है.
कह दीजिए अगर तमाम इंसान और जिन्न मिलकर इस क़ुरान की जैसी किताब लाना चाहे तो ना ला सकेगे चाहे एक दूसरे के मददगार भी बन जाए.क़ुरान (सुराह इसरा 17-88)

क्या वो कहते है की इसने ये (क़ुरान) घड़ लिया है? कह दीजिए फिर तुम भी उस जैसी दस सूरत घड़ लाओ और अल्लाह के सिवा अपने मददगारो को भी बुला लो अगर तुम सच्चे हो.क़ुरान (सुराह हुद 11/13)

क्या वो कहते है की इसने ये (क़ुरान) घड़ लिया है? बल्कि वो ईमान नही लाते. फिर उन्हे चाहिए की इस (क़ुरान) जैसी एक बात ले आए अगर वो सच्चे है.क़ुरान (सुराह तूर 52/33-34)

और अगर तुम इस (क़ुरान) के बारे में शक में हो जो हमने अपने बंदे पर नाज़िल किया तो तुम इस जैसी एक सूरत ले आओ और अल्लाह के सिवा अपने मददगारो को भी बुला लो अगर तुम सच्चे हो.
पस अगर तुम ये काम ना कर सको और तुम कर भी नही सकोगे, तो उस आग से बचो जिसका ईंधन इंसान और पत्‍थर है और वो काफिरो (इन्कारियो) के लिए तैयार की गई है.
क़ुरान (सुराह बक़रा 2/23-24)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

ALLAH KISE HIDAYAT (SACHCHI RAH) NAHI DETA.


अल्लाह किसे हिदायत (सच्ची राह) नही देता.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
ALLAH un logo ko hidayt nahi deta jo zalim hai.
QURAN (Surah Baqra 2/258)

ALLAH dikhave (Riyakari) ki neki karne walo hidayat nahi deta.
QURAN (Surah Baqra 2/264)

ALLAH Nafarman logo ko hidayat nahi deta.
QURAN (Surah Mayda 5/108)

ALLAH Khayanat karne walo ko hidayat nahi deta.
QURAN (Surah Yusuf 12/52)

ALLAH jhutho aur na shukro ko hidayat nahi deta.
QURAN (Surah Zumar 39/3)

ALLAH Had se aage badne walo ko hidayat nahi deta.
QURAN (Surah Momin 40/28)


इरशादे बारी त'आला है.
अल्लाह उन लोगो को हिदायत नही देता जो ज़ालिम है.
क़ुरान (सुराह बक़रा 2/258)

अल्लाह दिखावे (रियाकारी) की नेकी करने वालो हिदायत नही देता.
क़ुरान (सुराह बक़रा 2/264)

अल्लाह नाफरमान लोगो को हिदायत नही देता.
क़ुरान (सुराह मयदा 5/108)

अल्लाह खयानत करने वालो को हिदायत नही देता.
क़ुरान (सुराह युसुफ 12/52)

अल्लाह झूठो और ना शुक्रो को हिदायत नही देता.
क़ुरान (सुराह ज़ुमार 39/3)

अल्लाह हद से आगे बढ़ने वालो को हिदायत नही देता.
क़ुरान (सुराह मोमिन 40/28)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

ALLAH HI KO SAB SAJDA KARTE HAI.


अल्लाह ही को सब सज्दा करते है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
Yakinan jo tere rab ke nazdik hai wo us ki ibadat se takbbur nahi karte aur uski paki bayan karte hai aur us ko sazda karte hai.QURAN (Surah Aaraf 7/206)

ALLAH hi ke liye zamin aur aasmano ki sab makhluk khushi aur nakhushi se sazda karti hai aur un ke saye (Parchai) bhi subha wa sham.QURAN (Surah Road 13/15)

Yakinan aasman wa zamin ke sare jandar aur tamam farishte ALLAH ke samane sazda karte hai aur jra bhi takbur nahi karte.QURAN (Surah Nahal 16/49)


इरशादे बारी त'आला है.
यक़ीनन जो तेरे रब के नज़दीक है वो उस की इबादत से तकब्बुर नही करते और उसकी पाकी बयान करते है और उस को सज्दा करते है.क़ुरान (सुराह आराफ़ 7/206)

अल्लाह ही के लिए ज़मीन और आसमानो की सब मखलूक खुशी और नाखुशी से सज्दा करती है और उन के साये (परछाई) भी सुबहा व शाम.क़ुरान (सुराह ऱोअद 13/15)

यक़ीनन आसमान व ज़मीन के सारे जानदार और तमाम फरिश्ते अल्लाह के सामने सज्दा करते है और जरा भी तकबबूर् नही करते.
क़ुरान (सुराह नहल 16/49)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

ALLAH KE LIYE HAI TAMAM ACHCHE NAAM.

मोज़ू : अल्लाह के लिए है तमाम अच्छे नाम.



IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

Aur achche-achche naam ALLAH hi ke liye hai so tum usi naamo se ALLAH hi ko pukaro.
QURAN (Surah Aaraf 7/180)

Kahdijiye ke ALLAH ko ALLAH kah kar pukaro ya rahman kah kar jis naam se bhi pukaro tamam achche naam usi ke hai.QURAN (Surah Isra 17/110)

Wahi ALLAH hai jis ke siwa koi ma'abud nahi'Behtrin naam usi ke hai.
QURAN (Surah Ta'ha 20/8)

Wahi ALLAH hai paida karne wala wazud bakhshne wala'surat banane wala'isi ke liye (Nihayat) achche naam hai.QURAN (Surah Hashr 59/24

इरशादे बारी त'आला है.
और अच्छे-अच्छे नाम अल्लाह ही के लिए है सो तुम उसी नामो से अल्लाह ही को पुकारो.
क़ुरान (सुराह आराफ़ 7/180)

कह दिजिये के अल्लाह को अल्लाह कह कर पुकारो या रहमान कह कर जिस नाम से भी पुकारो तमाम अच्छे नाम उसी के है.
क़ुरान (सुराह इसरा 17/110)

वही अल्लाह है जिस के सिवा कोई मा'अबुद नही'बेहतरीन नाम उसी के है.
क़ुरान (सुराह ता'हा 20/8)

वही अल्लाह है पैदा करने वाला वज़ूद बख्शने वाला'सूरत बनाने वाला'इसी के लिए (निहायत) अच्छे नाम है.
क़ुरान (सुराह हश्र 59/24

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

ALLAH KE NEK BANDO (MOMINO) KI SIFAT.


मोज़ू : अल्लाह के नेक बन्दो (मोमिनो) की सिफ़त.

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
Yakinan Imaan walo ne kamyabi hasil karli.
Jo apni namaz men khusho (Dil Lagakar) karte hai.
Jo laguyat (Fizul baat) se munh mod lete hai.
Jo zakaat ada karne wale hai.
jo apni sharmgaah ki hifazat karne wale hai.
Jo siwaye apni biwiyo milkiyat ki lodiyo ke jo malamato men se nahi hai.
Jo is ke siwa kuch aur chahe wahi had se badne wale hai.
Jo apni namazo ki nigahabani karte hai.
yahi waris hai.
Jo (Jannat) Firdos ke waris hoge jaha wo hamesha rahege.
QURAN (Surah Mominon 23/1-11)


इरशादे बारी त'आला है.
यक़ीनन ईमान वालो ने कामयाबी हासिल करली.
जो अपनी नमाज़ में खुशु (दिल लगाकर) करते है.
जो लागुयात (फ़िज़ूल बात) से मुँह मोड़ लेते है.
जो ज़कात अदा करने वाले है.
जो अपनी शर्मगाह की हिफ़ाज़त करने वाले है.
जो सिवाए अपनी बीवियो मिल्कियत की लोड़ियो के जो मालमतो में से नही है.
जो इस के सिवा कुछ और चाहे वही हद से बढने वाले है.
जो अपनी नमाज़ो की निगहबानी करते है.
यही वारिस है.
जो (जन्नत) फिर्दोस के वारिस होगे जहा वो हमेशा रहेगे.

क़ुरान (सुराह मोमीनून 23/1-11)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

ALLAH KE AULIYA PAR KOI KHOUF HOAGA NA GAM.


अल्लाह के औलिया पर कोई ख़ौफ़ होगा ना गम.

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
Jaan Lo ! Beshak Auliya (Dost) ALLAH par koi khouf na hoga aur na wo gamgin honge. ye wo log hai jo imaan laye (Nek amal aur Parhejgari karate rahe, Burai se bachte rahe) aur ALLAH se darte rahe.QURAN (Surah Yunus 10/62-63)

Yani unpar bhi khouf aur gam na hoga jo ALLAH ke nek bando ke raste par chalte rahe nek amal (yani Touwhid, Namaz, Roza, Zakaat aur Haj) par paband rahe aur har burai (Shirk aur Bid'at)) se bachte rahe. unke liye dono jahan men khush khabri hai.

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
Un ke liye duniya ki jindagi men khush khabri hai aur Aakhirat men bhi, ALLAH ki baato men tabdili nahi hoti, yahi bahut badi kamyaabi hai.

इरशादे बारी त'आला है.
जान लो ! बेशक औलिया (दोस्त) अल्लाह पर कोई ख़ौफ़ ना होगा और ना वो गमगीन होंगे. ये वो लोग है जो ईमान लाए (नेक अमल और परहेजगारी करते रहे, बुराई से बचते रहे) और अल्लाह से डरते रहे.
क़ुरान (सुराह यूनुस 10/62-63)

यानी उनपर भी ख़ौफ़ और गम ना होगा जो अल्लाह के नेक बन्दो के रास्ते पर चलते रहे नेक अमल (यानी तौहीद, नमाज़, रोज़ा, ज़कात और हज) पर पाबंद रहे और हर बुराई (शिर्क और बिद'अत) से बचते रहे. उनके लिए दोनो जहाँ में खुश खबरी है.
इरशादे बारी त'आला है.
उन के लिए दुनिया की जिंदगी में खुश खबरी है और आख़िरत में भी, अल्लाह की बातो में तब्दीली नही होती, यही बहुत बड़ी कामयाबी है.
ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

Thursday, 18 August 2016

QURBANI KA MAKSAD

क़ुर्बानी का मकसद...


Qurbani ka maksad ye nahi hai ke Allah ko Janvar ka khun ya gost pahuchta hai
Allah ko ye chije nahi pahuchti Allah ko inki jarurat bhi nahi hai
kyuki wo dene wala hai lene wala nahi
Allah ne iski wajhat khud apni kitab quran men ki


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI

Hargiz nahi pahuchta Allah ko Tumhare qurbaniyo ka gost aur na hi khun balki
isse tumhare dil ka taqwa (Parhejgari)aur niyat pahuchti hai,
Is tarah Allah ne un janvaro ko tumhara mussakhar kar diya taki tum uske shukr me
hamd bayan karo aur nek logo ko khushkhbari suna do.
Quran (Sura hajj 22/37)

Qurbani Maksad Allah ka qurb (Yani Karibi,Nazdiki) Hasil Karna hai.


क़ुर्बानी का मकसद ये नही है के अल्लाह को जानवर का खून या गोस्त पहुचता है
अल्लाह को ये चीज़े नही पहुचती अल्लाह को इनकी ज़रूरत भी नही है
क्यूकी वो देने वाला है लेने वाला नही
अल्लाह ने इसकी वजाहत खुद अपनी किताब क़ुरान में की


इरशादे बारी त'आला है
हरगिज़ नही पहुचता अल्लाह को तुम्हारे क़ुर्बानियो का गोस्त और ना ही खून बल्कि
इससे तुम्हारे दिल का तक़वा (परहेजगारी)और नीयत पहुचती है,
इस तरह अल्लाह ने उन जनवरो को तुम्हारा मुस्सखर कर दिया ताकि तुम उसके शुक्र मे
हम्द बयान करो और नेक लोगो को खुशख़बरी सुना दो.

क़ुरान (सुरा हज्ज 22/37)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

ASHRA JILHIJJA MEN ROZA (10 DIN ALLAH KI IBADAT)


अशरा जिलहिज़्जा में रोज़ा (10 दिन अल्लाह की इबादत)


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI
Aur log malum ke dino men Allah ki ibadat kare.
Quran (Sura Haj 22/28)

FARMANE NABVI HAI.

Koi din aise nahi hai jin men amal karna Allah ke nazdik in 10 dino se jyada afjal aur mehbob ho,
isliye in men kasrat se jyada se jyada jikr kiya karo

Hadees (Musnad Ahmad 2/75)

Arfa ke din (Yani 9 Jul Hijja) ka ROZA do sal ke gunah mita deta hai, Ek pichle sal ke aur ek aane wale sal ke.

Hadees (Sahih Muslim : 1162)

IN 10 DINO KE ANDAR KASRAT SE ALLAH TA'ALA KA JIKR KARE AUR ARFA KA ROZA RAKHE JO KI DO SAL KE GUNAH KA KFFARA HAI
NABI KARIM SAW. 01 TARIKH SE 9 TARIKH TAK ROZE RAKHA KARTE THE 9 ARFA KA ROZA RAKHNA SABSE AFZAL HAI.


इरशादे बारी त'आला है

और लोग मालूम के दिनो में अल्लाह की इबादत करे.
क़ुरान (सुराह हज 22/28)

फरमाने नब्वी है.
कोई दिन ऐसे नही है जिन में अमल करना अल्लाह के नज़दीक इन 10 दिनो से ज़्यादा अफ़ज़ल और पसन्द हो,
इसलिए इन में कसरत से ज़्यादा से ज़्यादा ज़िक्र किया करो

हदीस (मुसनद अहमद 2/75)

अराफ़ा के दिन (यानी 9 जुल हिज्जा) का रोज़ा दो साल के गुनाह मिटा देता है, एक पिछले साल के और एक आने वाले साल के.
हदीस (सही'ह मुस्लिम : 1162)

इन 10 दीनो के अंदर कसरत से अल्लाह त'आला का ज़िक्र करे और आरफ़ा का रोज़ा रखे जो की दो साल के गुनाह का कफ़्फारा है
नबी करीम सल्ल. 01 तारीख से 9 तारीख तक रोज़ रखा करते थे 9 आरफ़ा का रोज़ा रखना सबसे अफ़ज़ल है.


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

ASHARA JILHIJJA (PAHLE 10 DIN)


अशरा जिलहिज़्जा (पहले 10 दिन)


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI
Aur log malum ke dino men Allah ke naam ka jikr kare
Quran (Sura Haj 22/28)

FARMANE NABVI HAI.

Koi din aise nahi hai jin men amal karna ALLAH ke nazdik in 10 dino se jyada afjal aur mehbob ho,
isliye in men kasrat se jayda se jyada yah jikr kiya karo
(La Ilaha Illallah, Allahu Akbar, Alhamdulillah)

Hadees (Musnad Ahmad 2/75)

Ashra jilhijja (Yani 1 se 10 tak ke din ) Hazrat Umar aur hazrat abu huraira razi. Bazar ki taraf niklte aur takbirat kahte
(La Ilaha Illallah, Allahu Akbar, Alhamdulillah) aur log bhi unke sath takbirat kahte.

Hadees (Sahih Bukhari : 969)

(Ye sunnat aaj takriban mit gai hai, Is sunnat ko jinda karna chahiye)

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI

Aur ginti ke kuch dino men ALLAH ko yad karo.
Quran (Sura Baqra 2/203)

9 Jilhijja ko namaze fazr se lekar 13 jilhijja ki namaze asr tak unchi awaz se takbire kahna chahiye 
(Book : Nilul Avtar 2/521)

Allahu Akbar Allahu Akbar Allahu Akbar Kabira
(Book : Nilul Avtar 2/621)

Allahu akbar allahu akbar la ilaha illallah wallahu akbar allahu akbar wa lillahil hamd
(Book : Nilul Avtar 2/621)

इरशादे बारी त'आला है
और लोग मालूम के दिनो में अल्लाह के नाम का ज़िक्र करे
क़ुरान (सुराह हज 22/28)

फरमाने नब्वी है.
कोई दिन ऐसे नही है जिन में अमल करना अल्लाह के नज़दीक इन 10 दिनो से ज़्यादा अफ़ज़ल और मेहबूब हो,
इसलिए इन में कसरत से ज़्यादा से ज़्यादा यह ज़िक्र किया करो
(ला इलाह इल्ल्लाआह, अल्लाहू अकबर, अल्हाम्दुलिल्लाह)
हदीस (मुसनद अहमद 2/75)

अशरा जिलहिज़्जा (यानी 1 से 10 तक के दिन ) हज़रत उमर और हज़रत अबू हुरैरा रज़ी. बाज़ार की तरफ निकलते और तकबीरात कहते
(ला इलाह इल्ल्लाआह, अल्लाहू अकबर, 
अल्हाम्दुलिल्लाह) और लोग भी उनके साथ तकबीरात कहते.

हदीस (सही'ह बुखारी : 969)

(ये सुन्नत आज तकरीबन मिट गई है, इस सुन्नत को जिंदा करना चाहिए)

इरशादे बारी त'आला है
और गिनती के कुछ दिनो में अल्लाह को याद करो
क़ुरान (सुराह बक़रा 2/203)

9 जिलहिज़्जा को नमाज़े फजर से लेकर 13 जिलहिज़्जा की नमाज़े अस्र तक उँची आवाज़ से तकबीरे कहना चाहिए
(बुक : निलूल अवतार 2/521)

अल्लाहू अकबर अल्लाहू अकबर अल्लाहू अकबर कबीरा
(बुक : निलूल अवतार 2/621)

अल्लाहू अकबर अल्लाहू अकबर ला इलहा इल्लाल्लाह वल्लाहू अकबर अल्लाहू अकबर वा लिल्लहिल हम्द
(बुक : निलूल अवतार 2/621)


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......