Thursday, 18 August 2016

QURBANI KA MAKSAD

क़ुर्बानी का मकसद...


Qurbani ka maksad ye nahi hai ke Allah ko Janvar ka khun ya gost pahuchta hai
Allah ko ye chije nahi pahuchti Allah ko inki jarurat bhi nahi hai
kyuki wo dene wala hai lene wala nahi
Allah ne iski wajhat khud apni kitab quran men ki


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI

Hargiz nahi pahuchta Allah ko Tumhare qurbaniyo ka gost aur na hi khun balki
isse tumhare dil ka taqwa (Parhejgari)aur niyat pahuchti hai,
Is tarah Allah ne un janvaro ko tumhara mussakhar kar diya taki tum uske shukr me
hamd bayan karo aur nek logo ko khushkhbari suna do.
Quran (Sura hajj 22/37)

Qurbani Maksad Allah ka qurb (Yani Karibi,Nazdiki) Hasil Karna hai.


क़ुर्बानी का मकसद ये नही है के अल्लाह को जानवर का खून या गोस्त पहुचता है
अल्लाह को ये चीज़े नही पहुचती अल्लाह को इनकी ज़रूरत भी नही है
क्यूकी वो देने वाला है लेने वाला नही
अल्लाह ने इसकी वजाहत खुद अपनी किताब क़ुरान में की


इरशादे बारी त'आला है
हरगिज़ नही पहुचता अल्लाह को तुम्हारे क़ुर्बानियो का गोस्त और ना ही खून बल्कि
इससे तुम्हारे दिल का तक़वा (परहेजगारी)और नीयत पहुचती है,
इस तरह अल्लाह ने उन जनवरो को तुम्हारा मुस्सखर कर दिया ताकि तुम उसके शुक्र मे
हम्द बयान करो और नेक लोगो को खुशख़बरी सुना दो.

क़ुरान (सुरा हज्ज 22/37)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

ASHRA JILHIJJA MEN ROZA (10 DIN ALLAH KI IBADAT)


अशरा जिलहिज़्जा में रोज़ा (10 दिन अल्लाह की इबादत)


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI
Aur log malum ke dino men Allah ki ibadat kare.
Quran (Sura Haj 22/28)

FARMANE NABVI HAI.

Koi din aise nahi hai jin men amal karna Allah ke nazdik in 10 dino se jyada afjal aur mehbob ho,
isliye in men kasrat se jyada se jyada jikr kiya karo

Hadees (Musnad Ahmad 2/75)

Arfa ke din (Yani 9 Jul Hijja) ka ROZA do sal ke gunah mita deta hai, Ek pichle sal ke aur ek aane wale sal ke.

Hadees (Sahih Muslim : 1162)

IN 10 DINO KE ANDAR KASRAT SE ALLAH TA'ALA KA JIKR KARE AUR ARFA KA ROZA RAKHE JO KI DO SAL KE GUNAH KA KFFARA HAI
NABI KARIM SAW. 01 TARIKH SE 9 TARIKH TAK ROZE RAKHA KARTE THE 9 ARFA KA ROZA RAKHNA SABSE AFZAL HAI.


इरशादे बारी त'आला है

और लोग मालूम के दिनो में अल्लाह की इबादत करे.
क़ुरान (सुराह हज 22/28)

फरमाने नब्वी है.
कोई दिन ऐसे नही है जिन में अमल करना अल्लाह के नज़दीक इन 10 दिनो से ज़्यादा अफ़ज़ल और पसन्द हो,
इसलिए इन में कसरत से ज़्यादा से ज़्यादा ज़िक्र किया करो

हदीस (मुसनद अहमद 2/75)

अराफ़ा के दिन (यानी 9 जुल हिज्जा) का रोज़ा दो साल के गुनाह मिटा देता है, एक पिछले साल के और एक आने वाले साल के.
हदीस (सही'ह मुस्लिम : 1162)

इन 10 दीनो के अंदर कसरत से अल्लाह त'आला का ज़िक्र करे और आरफ़ा का रोज़ा रखे जो की दो साल के गुनाह का कफ़्फारा है
नबी करीम सल्ल. 01 तारीख से 9 तारीख तक रोज़ रखा करते थे 9 आरफ़ा का रोज़ा रखना सबसे अफ़ज़ल है.


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

ASHARA JILHIJJA (PAHLE 10 DIN)


अशरा जिलहिज़्जा (पहले 10 दिन)


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI
Aur log malum ke dino men Allah ke naam ka jikr kare
Quran (Sura Haj 22/28)

FARMANE NABVI HAI.

Koi din aise nahi hai jin men amal karna ALLAH ke nazdik in 10 dino se jyada afjal aur mehbob ho,
isliye in men kasrat se jayda se jyada yah jikr kiya karo
(La Ilaha Illallah, Allahu Akbar, Alhamdulillah)

Hadees (Musnad Ahmad 2/75)

Ashra jilhijja (Yani 1 se 10 tak ke din ) Hazrat Umar aur hazrat abu huraira razi. Bazar ki taraf niklte aur takbirat kahte
(La Ilaha Illallah, Allahu Akbar, Alhamdulillah) aur log bhi unke sath takbirat kahte.

Hadees (Sahih Bukhari : 969)

(Ye sunnat aaj takriban mit gai hai, Is sunnat ko jinda karna chahiye)

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI

Aur ginti ke kuch dino men ALLAH ko yad karo.
Quran (Sura Baqra 2/203)

9 Jilhijja ko namaze fazr se lekar 13 jilhijja ki namaze asr tak unchi awaz se takbire kahna chahiye 
(Book : Nilul Avtar 2/521)

Allahu Akbar Allahu Akbar Allahu Akbar Kabira
(Book : Nilul Avtar 2/621)

Allahu akbar allahu akbar la ilaha illallah wallahu akbar allahu akbar wa lillahil hamd
(Book : Nilul Avtar 2/621)

इरशादे बारी त'आला है
और लोग मालूम के दिनो में अल्लाह के नाम का ज़िक्र करे
क़ुरान (सुराह हज 22/28)

फरमाने नब्वी है.
कोई दिन ऐसे नही है जिन में अमल करना अल्लाह के नज़दीक इन 10 दिनो से ज़्यादा अफ़ज़ल और मेहबूब हो,
इसलिए इन में कसरत से ज़्यादा से ज़्यादा यह ज़िक्र किया करो
(ला इलाह इल्ल्लाआह, अल्लाहू अकबर, अल्हाम्दुलिल्लाह)
हदीस (मुसनद अहमद 2/75)

अशरा जिलहिज़्जा (यानी 1 से 10 तक के दिन ) हज़रत उमर और हज़रत अबू हुरैरा रज़ी. बाज़ार की तरफ निकलते और तकबीरात कहते
(ला इलाह इल्ल्लाआह, अल्लाहू अकबर, 
अल्हाम्दुलिल्लाह) और लोग भी उनके साथ तकबीरात कहते.

हदीस (सही'ह बुखारी : 969)

(ये सुन्नत आज तकरीबन मिट गई है, इस सुन्नत को जिंदा करना चाहिए)

इरशादे बारी त'आला है
और गिनती के कुछ दिनो में अल्लाह को याद करो
क़ुरान (सुराह बक़रा 2/203)

9 जिलहिज़्जा को नमाज़े फजर से लेकर 13 जिलहिज़्जा की नमाज़े अस्र तक उँची आवाज़ से तकबीरे कहना चाहिए
(बुक : निलूल अवतार 2/521)

अल्लाहू अकबर अल्लाहू अकबर अल्लाहू अकबर कबीरा
(बुक : निलूल अवतार 2/621)

अल्लाहू अकबर अल्लाहू अकबर ला इलहा इल्लाल्लाह वल्लाहू अकबर अल्लाहू अकबर वा लिल्लहिल हम्द
(बुक : निलूल अवतार 2/621)


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

ALLAH APNI AYAT KHOL-KHOL KAR BAYAN KARTA HAI WO SAMJHE JO AQL RAKHTE HAI.


अल्लाह अपनी आयात खोल-खोल कर बयान करता है वो समझे जो अक़्ल रखते है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI

Beshak ALLAH hi dane aur guthali ko fadane wala hai, wo jinda ko murda se aur murda ko jinda se nikalta hai yah hai ALLAH tum kaha bahkaye jate ho.
wahi hai jo subah karta hai wahi raat ko sukun lata hai usne hi suraj aur chand ko waqt ke hisab ka jariya banaya.
wahi hai jisne sitare banaye taki tum jamin aur pani men tumhe rah dikhaye.
wahi hai jisne tumhe ek jan se paida kiya har ek ke liye jagah hai kam rahneki aur jyada rahne ki.
wahi hai jisne aasman se pani barsaya phir har kism ke ped, podhe aur har chij paida ki, dekho aur gour karo,
wo apni ayaate khol-khol kar bayan karta hai taki wo samjhe jo aql aur ilm rakhte aur imaan late hai.

QURAN (Surah An'nam 6/95-99)

इरशादे बारी त'आला है
बेशक अल्लाह ही दाने और गुठली को फाड़ने वाला है, वो जिंदा को मुर्दा से और मुर्दा को जिंदा से निकलता है यह है अल्लाह तुम कहा बह्काये जाते हो.
वही है जो सुबह करता है वही रात को सुकून लाता है उसने ही सूरज और चाँद को वक़्त के हिसाब का ज़रिया बनाया.
वही है जिसने सितारे बनाए ताकि तुम ज़मीन और पानी में तुम्हे राह दिखाए.
वही है जिसने तुम्हे एक जान से पैदा किया हर एक के लिए जगह है कम रहने की और ज़्यादा रहने की.
वही है जिसने आसमान से पानी बरसाया फिर हर किस्म के पेड़, पोधे और हर चीज़ पैदा की, देखो और गौर करो,
वो अपनी आयाते खोल-खोल कर बयान करता है ताकि वो समझे जो अक़्ल और इल्म रखते और ईमान लाते है.

क़ुरान (सुराह अन'नाम 6/95-99)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

JO NEKI TUM AAGE BHEJOGE ALLAH KE YAHAN PAOGE.


जो नेकी तुम आगे भेजोगे अल्लाह के यहाँ पाओगे.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI

Tum Namaz kayam karo aur zakat do, aur tum apne liye jo bhi neki (Bhalai) aage bhejoge,
ALLAH ke yahan paoge, beshak tum jo amal karte ho ALLAH use khub dekhne wala hai.

QURAN (Surah Baqra 2/110)

Balki jisne apna chehara ALLAH ke liye jhuka diya, is hal men ki wah neki karne wala hai,
to uske liye uska ajr (Sawab) uske rab ke pas hai aur unhe koi khof nahi hoga aur na wah gamgin hoge.

QURAN (Surah Baqra 2/112)

इरशादे बारी त'आला है
तुम नमाज़ कायम करो और ज़कात दो, और तुम अपने लिए जो भी नेकी (भलाई) आगे भेजोगे, अल्लाह के यहाँ पाओगे, बेशक तुम जो अमल करते हो अल्लाह उसे खूब देखने वाला है.
क़ुरान (सुराह बक़रा 2/110)

बल्कि जिसने अपना चेहरा अल्लाह के लिए झुका दिया, इस हाल में की वह नेकी करने वाला है,
तो उसके लिए उसका अज्र (सवाब) उसके रब के पास है और उन्हे कोई खोफ़ नही होगा और ना वह गमगीन होगे.

क़ुरान (सुराह बक़रा 2/112)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

ALLAH KI AAYATO KA ULTA MANA NA NIKALO AUR CHAND KIMAT PAR NA BECH DO.

अल्लाह की आयतो का उल्टा माना ना निकालो  और  चंद कीमत पर ना बेच दो.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI
Aur meri aayato ko Thodi Thodi se kimato par na bech do aur sirf mujh se daro.
Aur haq ko baatil (Jhuth) ke sath khalat malat (Shamil) na karo aur na haq chupao jabki tumhe uska ilm hai. 

QURAN (Surah Baqra 2/41-42)

Beshak jo log hamari aayato ka ulta mana nikalte hai wo hamse chupe huye nahi'
khud hi socho lo jo aag (Jahnnam) men dala jaye wo achcha hai ya wo jo aman wa aaman ke sath kayamat ke din aaye?
tum jo chaho karte chale jao' wo tumhara sab kiya karaya dekh raha hai.

QURAN (Surah Fusilat 41/40)

इरशादे बारी त'आला है
और मेरी आयतो को थोड़ी थोड़ी सी कीमतो पर ना बेच दो और सिर्फ़ मुझ से डरो.
और हक़ को बातिल (झूठ) के साथ खलत मलत (शामिल) ना करो और ना हक़ छुपाओ जबकि तुम्हे उसका इल्म है. 

क़ुरान (सुराह बक़रा 2/41-42)

बेशक जो लोग हमारी आयतो का उल्टा माना निकालते है वो हमसे छुपे हुए नही'
खुद ही सोच लो जो आग (ज़ह्न्नम) में डाला जाए वो अच्छा है या वो जो अमन वा आमान के साथ कयामत के दिन आए?
तुम जो चाहो करते चले जाओ' वो तुम्हारा सब किया कराया देख रहा है.

क़ुरान (सुराह फूसीलत 41/40)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

ALLAH AUR RASOOL PAR JHUTH BANDHE USKA THIKANA AAG HAI.

अल्लाह और रसूल पर झूठ बाँधे उसका ठिकाना आग है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI
So us shakhs se jyada zalim kaun hoga jo ALLAH Ta'ala par jhooth bandhe ya us ki aayato ko jhootha bataye in logo ke nasib ka jo kuch kitab men hai wo in ko milta rahega'
yaha tak ke hamare bheje huye farishte inki rooh lene aa jayege aur inse puchege ki batao ab kaha hai tumhare wo sharik jinko tum ALLAH ke alaawa pukarte (Ibadat karte) the'
wo kahege we sab hamse gum ho gaye aur wo khud gawahi dege ki ham hi haq baat ke inkari the ham hi kafir hai.

QURAN (Surah Aaraf 07/37)

FARMANE NABVI HAI.
Jo Mujh par Jhuth bandhe (yani Jhuthi baat ki nisbat kare) to wo Apna Thikana Jahannam me bana le.
Hadees (Saheeh Bukhari 107)

इरशादे बारी त'आला है
सो उस शख्स से ज़्यादा ज़ालिम कौन होगा जो अल्लाह त'आला पर झूठ बाँधे या उस की आयतो को झूठा बताए इन लोगो के नसीब का जो कुछ किताब में है वो इन को मिलता रहेगा'
यहा तक के हमारे भेजे हुए फरिश्ते इनकी रूह लेने आ जाएगे और इनसे पूछेगे की बताओ अब कहा है तुम्हारे वो शरीक जिनको तुम अल्लाह के अलावा पुकारते (इबादत करते) थे'
वो कहेगे वी सब हमसे गुम हो गये और वो खुद गवाही देगे की हम ही हक़ बात के इनकारी थे हम ही काफ़िर है.

क़ुरान (सुराह आरIफ़ 07/37)

फरमाने नब्वी है.
जो मुझ पर झूठ बाँधे(यानी झूठी बात की निसबत करे) तो वो अपना ठिकाना जहन्नम मे बना ले.
हदीस (सही'ह बुखारी 107)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

ALLAH KI AUR TAMAM LANAT KARNE WALO KI LANAT.

अल्लाह की और तमाम लानत करने वालो की लानत.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI
Jo log hamari utari huye dalilo aur hidayat ko chupate hai bawajud iske ke ham use apne kitab men logo ke liye bayan kar chuke hai'
un logo par ALLAH ki aur tamam lanat karne walo ki lanat hai.

QURAN (Surah Baqra 02/159)

FARMANE NABVI HAI.
Jis se koi aisi baat puchi gai jis ka us ko ilm tha aur us ne use chupaya to kayamat wale din aag ki lagaam us ke munh men di jayegi.
Hadees (Sunan Tirmizi : 651)

इरशादे बारी त'आला है
जो लोग हमारी उतारी हुए दलीलो और हिदायत को छुपाते है बावजूद इसके के हम उसे अपनी किताब में लोगो के लिए बयान कर चुके है'
उन लोगो पर अल्लाह की और तमाम लानत करने वालो की लानत है.

क़ुरान (सुराह बक़रा 02/159)

फरमाने नब्वी है.
जिस से कोई ऐसी बात पूछी गई जिस का उस को इल्म था और उस ने उसे छुपाया तो कयामत वाले दिन आग की लगाम उस के मुँह में दी जाएगी.
हदीस (सुनन तिर्मीज़ी : 651)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

RASOOL SAW. kI IT'AAT HIDAYAT KA SABAB.

रसूल सल्ल. की इत'आत हिदायत का सबब.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI
Agar tum RASOOL SAW. ki it'aat karoge, to hidayat yaab ho jaoge.
QURAN (Surah Noor 24/54)

RASOOL SAW. ki peravi karo, taki tumhe hidayat mil jaye.

QURAN (Surah Noor Aaraf 7/158)

Kya ALLAH ki taraf se aisi sanade RASOOL SAW. ke alaawa kisi aur ke hak me aayi huyi hai
Agar nahi to phir kaise be sanad shakhsiyato ka hukm aur unki peravi karke hidayat aur jannat mil sakti hai.?

इरशादे बारी त'आला है
अगर तुम रसूल सल्ल. की इत'आत करोगे, तो हिदायतयाब हो जाओगे.
क़ुरान (सुराह नूर 24/54)

रसूल सल्ल. की पेरवी करो, ताकि तुम्हे हिदायत मिल जाए.
क़ुरान (सुराह आराफ़ 7/158)

क्या अल्लाह की तरफ से ऐसी सनदे रसूल सल्ल. के अलावा किसी और के हक मे आई हुई है
अगर नही तो फिर कैसे बे सनद शख्सियतो का हुक्म और उनकी पेरवी करके हिदायत और जन्नत मिल सकती है.?


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

DARNA CHAHIYE UN LOGO KO JO HUKME RASOOL KI MUKHALFAT KARTE HAI.


डरना चाहिए उन लोगो को जो हुक्मे रसूल की मुख़ालफ़त करते है


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI
"Sunu jo log hukme RASOOL ki mukhalfat karte hai (Khilaaf chalte hai) unhe darte rahna chahiye ke kahi un par koi jabardast aafat na aa pade ya unhe dardnaak azaab na aa pahuche.
QURAN (Surah Noor 24/63)

Yani NABI KARIM SAW. ke manhaz (Tarike) aur sunnat ko har waqt saamne rakhna,
Isliye ke jo tarika aur amal aap ke mutabik hoge wahi BARGAH E ILAHI men makbool aur dusre sab mardud hoge.


FARMANE NABVI HAI.

Jisne hamare is deen me kuch aisi baat shamil ki (Gair Nabi Ka Tarika) jo usme se nahi hai to wo mardud hai.
(Sahi'h Bukhari : 2697 / Sahi'h Muslim : 1718).

इरशादे बारी त'आला है
"सुनू जो लोग हुक्मे रसूल की मुख़ालफ़त करते है (खिलाफ चलते है) उन्हे डरते रहना चाहिए
के कही उन पर कोई जबरदस्त आफ़त ना आ पड़े या उन्हे दर्दनाक अज़ाब ना आ पहुचे.

क़ुरान (सुराह नूर 24/63)

यानि नबी करीम सल्ल. के मनहज (तरीके) और सुन्नत को हर वक़्त सामने रखना,
इसलिए के जो तरीका और अमल आप के मुताबिक होगे वही बरगाह ए इलाही में मक़बूल है और दूसरे सब मर्दुद होगे.


फरमाने नब्वी है.
जिसने हमारे इस दीन मे कुछ ऐसी बात शामिल की (गैर नबी का तरीका) जो उसमे से नही है तो वो मर्दुद है.
(सही'ह बुखारी : 2697 / सही'ह मुस्लिम : 1718)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

HAM NE SUN LIYA AUR HAM NE IT"AAT KI.

हम ने सुन लिया और हम ने इत'आत की. 


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI
"Jab mominin ko ALLAH aur uske RASOOL SAW. ki taraf bulaya jaye taki ALLAH AUR us ka RASOOL un ke bich faisla kare to un ka jawab sirf iske Alaawa aur kuch nahi hona chahiye ki "HAM NE SUN LIYA AUR HAM NE IT"AAT KI" aise hi log flaah (Kamyaabi) pane wale hai.
QURAN (Surah Noor 24/51)

Kya yah haq ALLAH TA"ALA ki taraf se kisi aur insaan ko diya gaya hai ?
Agar nahi diya gaya to phir kisi bhi shakhs ki pairavi kaise ki  ja sakti hai ?
kisi bhi muslman (ALLAH AUR RASOOL KA FARMABARDAAR) ko ye ikhtiyar nahi ki NABI SAW. ki baat aa jane ke baad kisi aur gair nabi ki baat ko NABI SAW. ke faisle ke upar rakhe ya mane.


इरशादे बारी त'आला है

"जब मोमिनिन को अल्लाह और उसके रसूल सल्ल. की तरफ बुलाया जाए ताकि अल्लाह और उस का रसूल उन के बीच फ़ैसला करे तो उन का जवाब सिर्फ़ इसके अलावा और कुछ नही होना चाहिए की "हम ने सुन लिया और हम ने इत'आत की" ऐसे ही लोग फ़लाह (कामयाबी) पाने वाले है.
क़ुरान (सुराह नूर 24/51)

क्या यह हक़ अल्लाह त"आला की तरफ से किसी और इंसान को दिया गया है ?
अगर नही दिया गया तो फिर किसी भी शख्स की पैरवी कैसे की जा सकती है ?
किसी भी मुस्लमान (अल्लाह और रसूल का फर्माबरदार) को ये इख्तियार नही की नबी सल्ल. की बात आ जाने के बाद किसी और गैर नबी की बात को नबी सल्ल. के फ़ैसले के उपर रखे या माने.


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

HIDAYAT WAZEH HONE KE BAAD USKE KHILAF AMAL KARE.

हिदायत वाजेह होने के बाद उसके खिलाफ अमल करे.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI

Jo shakhs ba wajood raah-e-hidayat ke wazeh ho jane ke baad bhi, RASOOL (SAW.) ke khilaf kaam kare aur tamam momino (Sahaba Razi.) ki raah chodh kar chale ham use udhar hi pher denge jidhar wo khud phir jana chahata hai aur dozakh men daal denge wo pahunchane ki bahut hi buri jagah hai.
QURAN (Surah Nisa : 4/115)

इरशादे बारी त'आला है
जो शख़्स बा वजूद राह-ए-हिदायत के वाज़ेह हो जाने के बाद भी रसूल (सल्ल.) के खिलाफ काम करे और तमाम मोमिनो (सॉहाबा रज़ी.) की राह छोढ़ कर चले हम उसे उधर ही फेर देंगे जिधर वो खुद फीर जाना चाहता है और दोज़ख़् में डाल देंगे वो पहुँचने की बहुत ही बुरी जगह है.
क़ुरान (सुराह निसा : 4/115)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

AKSAR LOG SIRF GUMAAN PAR CHAL RAHE HAI.

अक्सर लोग सिर्फ़ गुमान पर चल रहे है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI

Aap yun kahiye ke kya tumhare shariko men koi aisa hai jo makhalukat ko paida kare phir use dubara jinda kare? kah do ke ALLAH hi paida karta hai phir use dubara lotayega, to tum kahan phire jate ho?
QURAN (Surah Yunus 10/34)

Aur in men se aksar log sirf gumaan par chal rahe han. Yakinan gumaan haq (ki maarfat) men kuch bhi kaam nahi de sakta ye jo kuch kar rahe hai yakinan ALLAH ko sab khabar hai.
QURAN (Surah Yunus 10/36)

इरशादे बारी त'आला है
आप यूँ कहिए के क्या तुम्हारे शरीक़ो में कोई ऐसा है जो मखलुकात को पैदा करे फिर उसे दुबारा जिंदा करे? कह दो के अल्लाह ही पैदा करता है फिर उसे दुबारा लोटायगा, तो तुम कहाँ फिरे जाते हो?
क़ुरान (सुराह यूनुस 10/34)

और इन में से अक्सर लोग सिर्फ़ गुमान पर चल रहे है. यक़ीनन गुमान हक़ (की मार्फत) में कुछ भी काम नही दे सकता ये जो कुछ कर रहे है यक़ीनन अल्लाह को सब खबर है.
क़ुरान (सुराह यूनुस 10/36)


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

YE BHI SHIRK KARTE TO INKE BHI AAMAL BARBAAD HO JATE.

ये भी शिर्क करते तो इनके भी आमाल बर्बाद हो जाते.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI
Aur ye hamari dalil thi wo ham ne ibrahim alaihis salaam ko un ki qoum ke mukable men di thi ham jis ko chahate hain martabon men bada dete hain. Be-shak aap ka rab bada hikmat wala bada ilm wala hai.
Aur ham ne un ko ishak diya aur yaqoob har ek ko ham ne hidayaat ki aur pahle zamane men ham ne nooh ko hidayaat ki aur un ki aulad men se dawood ko aur suleman ko aur ayyub ko aur yusuf ko aur musa ko aur haroon ko aur isi tarah ham nek kaam karne walon ko jaza diya karte hain.
Aur niz zakriya ko aur yahya ko aur isa ko aur ilyaas ko sab nek logo men se the.
Aur niz ismail ko yasaa ko aur yunus ko aur loot ko aur har aik ko tamam jahaan walo par ham ne fazeelat di.
Aur niz in ke kuch baap dado ko aur kuch aulad ko aur kuch bhaiyo ko aur ham ne un ko maqbool banaya aur ham ne un ko raah-e-raast ki hidayaat ki.
ALLAH ki hidayat hi hai jis ke zariye apne bando men se jis ko chahe us ko hidayaat karta hai aur agar farzan ye hazraat bhi shirk karte to jo kuch ye aamal karte the wo sab barbaad ho jate.

QURAN (Surah Annaam 6/83-88)

ALLAH ne 18 Nabiyo ka naam le kar farmaya ke ye bhi shirk karte to inke amaal bhi barbaad ho jate.
Shirk ko ALLAH kabhi maaf nahi karega alawa iske chahe jis gunah ko maaf karde.
QURAN (Surah Nisa 4/48)

इरशादे बारी त'आला है
और ये हमारी दलील थी जो हम ने इब्राहिम अलैहि स्सलाम को उन की क़ौम के मुक़ाबले में दी थी हम जिस को चाहते हैं मर्तबों में बड़ा देते हैं. बे-शक आप का रब बड़ा हिकमत वाला बड़ा इल्म वाला है.
और हम ने उन को इशाक़ दिया और याक़ूब हर एक को हम ने हिदायत की और पहले ज़माने में हम ने नूह को हिदायत की और उन की औलाद में से दाऊद को और सुलेमान को और अय्यूब को और युसुफ को और मूसा को और हारून को और इसी तरह हम नेक काम करने वालों को जज़ा दिया करते हैं.
और (निज़) ज़करिया को और यहया को और ईसा को और इल्यास को सब नेक लोगो में से थे.
और निज़ इस्माईल को यसा को और यूनुस को और लूत को और हर एक को तमाम जहाँ वालो पर हम ने फजिलत दी.
और नीज़ इन के कुछ बाप दादो को और कुछ औलाद को और कुछ भाइयो को और हम ने उन को मक़बूल बनाया और हम ने उन को राह-ए-रास्त की हिदायत की.
अल्लाह की हिदायत ही है जिस के ज़रिए अपने बन्दो में से जिस को चाहे उस को हिदायत करता है और अगर फ़रज़ान ये हज़रात भी शिर्क करते तो जो कुछ ये आमाल करते थे वो सब बर्बाद हो जाते.

क़ुरान (सुराह अन्नाम 6/83-88)

अल्लाह ने 18 नबियो का नाम ले कर फरमाया के ये भी शर्क करते तो इनके आमाल भी बर्बाद हो जाते.

शिर्क को अल्लाह कभी माफ़ नही करेगा अलावा इसके चाहे जिस गुनाह को माफ़ करदे.
क़ुरान (सुराह निसा 4/48)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

AYATUL KURSI KI FAZILAT.


आयातुल कुर्सी की फजीलत.


FARMANE NABVI HAI.
Jo har namaz ke baad ayatul kursi ki tilawat karta hai use jannat men jane se sirf mout ne rok rakha hai.
HADEES (Nasai : 9928)

Sote waqt ayatul kursi ki tilawat karne wale par sari raat ALLAH TA"ALA ki taraf se ek farishta mojud rahta hai aur sari raat shaitan uske karib nahi aa sakta.0
HADEES (Bukhari : 3275)

Ayatul kursi qurane karim ki sabse azim ayaat hai.
HADEES (Muslim : 810)

फरमाने नब्वी है.
जो हर नमाज़ के बाद आयातुल कुर्सी की तिलावत करता है उसे जन्नत में जाने से सिर्फ़ मौत ने रोक रखा है.
हदीस (नसाई : 9928)

सोते वक़्त आयातुल कुर्सी की तिलावत करने वाले पर सारी रात अल्लाह त"आला की तरफ से एक फरिश्ता मोजूद रहता है और सारी रात शैतान उसके करीब नही आ सकता.

हदीस (बुखारी : 3275)

आयातुल कुर्सी क़ुरान करीम की सबसे अज़ीम आयात है.
हदीस (मुस्लिम : 810)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

SAHABA IKRAM SE MUHBBAT WAZIB AUR IMAAN KI ALAAMAT HAI.

मोज़ू : सहाबा इकराम से मुहब्बत वाज़िब और ईमान की अलामत है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

Momin mard aur momin aurate ek dusre ke dost hai' aur yakinan momino men afzal tarin momin sahaba ikram razi. hai.
QURAN (Surah Tauba 9/71)

FARMANE NABVI HAI.

Imaan ki alamat ansar se muhbbat hai aur nifak ki alamat ansar se nafrat hai
HADEES (Sahi'h Bukhari : 17)

Sahaba se muhbbat din' imaan aur husan aur sahaba se nafrat kufr' nifak aur sarkashi hai.

इरशादे बारी त'आला है.
मोमिन मर्द और मोमिन औरते एक दूसरे के दोस्त है' और यक़ीनन मोमिनो में अफ़ज़ल तरीन मोमिन सहाबा इकराम रज़ी. है.
क़ुरान (सुराह तौबा 9/71)

फरमाने नब्वी है.
ईमान की अलामत अंसार से मुहब्बत है और निफाक की अलामत अंसार से नफ़रत है
हदीस (सही'ह बुखारी : 17)

सहाबा से मुहब्बत दिन' ईमान और हुस्न और सहाबा से नफ़रत कुफ्र' निफाक और सरकॅशी है.

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

TAAGUT KE SATH KUFR KA HUKM DIYA GAYA HAI.


तागूत के साथ कुफ्र का हुक्म दिया गया है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
Kya apne  inhe nahi dikhaya jin ka dawa to ye hai ke jo kuch aap par aur jo kuch aap se pahle utara gaya hai us par un  ka imaan hai, lekin wo apne faisle taagut (Yani Gair ALLAH) ki taraf le jana chahate hai, halanki inhe huqm diya gaya hai ke uska inkar kare, shaitan to chahata hai ke inhe behka kar door gumraahi men dal de.
QURAN (Surah Nisha 4/60)

Is ayat se us shakhs ke imaan ka inkar hai jo ALLAH us ke RASOOL SAW. par imaan ka dawa karta hai lekin apne faisle kitab aur sunnat ke khilaf karwana chahata hai.

(Tafseer ibne kaseer 2/346)

Taagut ka mana ye hai ke' Har wo chij jis ki ALLAH ko chodh kar ibaadat ki jaye' aur ita'aat ki jaye wo chahe shaitan ho, but ho, huqmran ho, imaam ho, insaan ho, ya uska apna nafs ho. lekin agar ye log islami talimat ke mutabik huqm de to wo taagut nahi hai jaisa ki ALLAH ne farmaya.
A imaan walo ! ALLAH ki it'aat karo aur RASOOL ki it'aat karo aur aameer-hakim ki.

QURAN (Surah Nisha 4/59)

इरशादे बारी त'आला है.
क्या अपने  इन्हे नही दिखाया जिन का दावा तो ये है के जो कुछ आप पर और जो कुछ आप से पहले उतरा गया है उस पर उन  का ईमान है, लेकिन वो अपने फ़ैसले तागुत (यानी गैर अल्लाह) की तरफ ले जाना चाहते है, हालाँकि इन्हे हुक़म दिया गया है के उसका इन्कार करे, शैतान तो चाहता है के इन्हे बहका कर दूर गुमराही में डाल दे.
क़ुरान (सुराह निशा 4/60)

इस आयात से उस शख्स के ईमान का इन्कार है जो अल्लाह उस के रसूल सल्ल. पर ईमान का दावा करता है लेकिन अपने फ़ैसले किताब और सुन्नत के खिलाफ करवाना चाहता है.
(तफ़सीर इब्ने कसीर 2/346)

तागूत का माना ये है के' हर वो चीज़ जिस की अल्लाह को छोढ़ कर इबादत की जाए' और इत'आत की जाए वो चाहे शैतान हो, बुत हो, हुक्मरान हो, इमाम हो, इंसान हो, या उसका अपना नफ्स हो. लेकिन अगर ये लोग इस्लामी तालिमात के मुताबिक हुक़्म दे तो वो तागुत नही है जैसा की अल्लाह ने फरमाया.


ए ईमान वालो ! अल्लाह की इत'आत करो और रसूल की इत'आत करो और आमीर, हाकीम की.

क़ुरान (सुराह निशा 4/59)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

RAMZAN KE BAAD BHI IBADAAT ?


रमज़ान के बाद भी इबादत ?


Mubarak hai wo log jinhone ramzan ke roze rakhe, kayam (Travih) kiya, kadr ki talash men rato ko jaga.
ALLAH se dua hai Hamari ibadato ko kabool farmaye (Ameen)

Kabuliyat ki dalil ye hai ke ek muslmaan aur jyada neki (Ibadat) ki taraf kadam badhye.
hame janna hai ki Hamari ibadat kabul huye ya nahi to ramzan ke baad apni halat dekhe badlav ayaa ya nahi agar aaya hai to khush khabari hai nahi to na kadri hai.
hamne roze rakhe, kayam kiya, taravih padhi, quran ki tilavat ki lekin maqbool wo hai ibadaat kabool uski hoti hai jo ramzan ke baad bhi ibadaato ko alvida nahi kahta balki use jari aur kaayam rakhta hai.
sabse badtarin wo log hai jo sirf ALLAH ko ramzan men mante hai ALLAH ramzan aur gair ramzan hamesha mabood hai ALLAH ne hame har dam uski ibadaat ke liye paida kiya.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
Aur Mai (ALLAH) Ne  Jinno Aur Insano ko Sirf Isliye Paida Kiya Ke Wo Meri ibaadat (ALLAH) Kare
QURAN (Surah Zaariyaat 51:56)

Gour fikr ki baat hai kahi aisa na ho ki ramzan tha to ALLAH ko mante rahe jante rahe ibadate karte rahe aur phir ?
ALLAH ke rasool SAW. Ramzan ke alawa bhi roze, nafali namaze, sadkat aur quran ki tilawat kiya karte.
badbakht hai wo log jo sirf ramzan hi men ALLAH ko yaad kare hakikat men momin wo hai jo farayiz ke alawa bhi kuch nawafil ibadaat kare.
Ramzan ka matlab hi taqwa (Parhejgari,Dar) tha.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

A Imaan walo ! Tum par roze farz kar diye gaye hai jaisa ki tum se pahle logo par farz kiye gaye, Taki tum parhejgaar (Taqwa wale) ban jao.
QURAN (Surah Baqra 2/183)

मुबारक है वो लोग जिन्होने रमज़ान के रोज़े रखे, कयाम (तारावीह) किया, कद्र की तलाश में रातो को जागा.
अल्लाह से दुआ है हमारी इबादतो को कबूल फरमाये (अमीन)

काबुलियत की दलील ये है के एक मुसलमान और ज़्यादा नेकी (इबादत) की तरफ कदम बढ़ाये.
हमे जानना है की हमारी इबादत काबुल हुए या नही तो रमज़ान के बाद अपनी हालत देखे बदलाव आया या नही अगर आया है तो खुश खबरी है नही तो ना कद्रि है.
हमने रोज़े रखे, कायम किया, तरावीह पढ़ी, क़ुरान की तिलावत की लेकिन मक़बूल वो है इबदात कबूल उसकी होती है जो रमज़ान के बाद भी इबादातो को अलविदा नही कहता बल्कि उसे जारी और कायम रखता है.
सबसे बद्तरिन वो लोग है जो सिर्फ़ अल्लाह को रमज़ान में मानते है अल्लाह रमज़ान और गैर रमज़ान हमेशा माबूद है अल्लाह ने हमे हर दम उसकी इबदात के लिए पैदा किया.

इरशादे बारी त'आला है.

और में (अल्लाह) ने  जींनो और इंसानो को सिर्फ़ इसलिए पैदा किया के वो मेरी (अल्लाह) इबादत  करे
क़ुरान (सुराह ज़ारियात 51:56)

गौर फ़िक्र की बात है कही ऐसा ना हो की रमज़ान था तो अल्लाह को मानते रहे जानते रहे इबादते करते रहे और फिर ?
अल्लाह के रसूल सल्ल. रमज़ान के अलावा भी नफली रोज़े, नफली नमाज़े, नफली ज़कात सद्कात और क़ुरान की तिलावत किया करते.
बदबख्त है वो लोग जो सिर्फ़ रमज़ान ही में अल्लाह को याद करे हक़ीकत में मोमिन वो है जो फाराइज़ के अलावा भी कुछ नवाफिल इबदात करे.
रमज़ान का मतलब ही तक़वा (परहेजगारी,डर) था.


इरशादे बारी त'आला है.

ए ईमान वालो ! तुम पर रोज़ फ़र्ज़ कर दिए गये है जैसा की तुम से पहले लोगो पर फ़र्ज़ किए गये, ताकि तुम परहेजगार (तक़वा वाले) बन जाओ.
क़ुरान (सुराह बक़रा 2/183)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

EID KA SADKA FITAR HAR MUSLMAN PAR HAI.


ईद का सदका फितर हर मुसलमान पर है. 


FARMANE NABVI HAI.

HAZRAT UMAR RAZI. FARMATE HAI. Har Muslman, Gulam, Aazad, Mard, Aurat, Bachche, Budhe Sab par sadaka fitar farz kiya gaya hai ek saa'a (2.5 kg) Anaaj de, hame huqm diya gaya ki fitara eid ki namaz se pahle ada kare.
HADEES (Sahi'h Bukhari : 1503)

Sadaka Fitar men genhu, jou ke alawa Khazur, Paneer, Munnaka Wagerah bhi diya ja sakta hai (Har Muslman ki Taraf Se 2.5 kg).
HADEES (Sahi'h Bukhari : 1506)

Sadaka Fitar Ramzan ke roze ki khatao (Larjish, Galatiyo, Gunaho) ka kaffara bhi hai.
HADEES (Abu Dawud : 1609)

फरमाने नब्वी है.
हज़रत उमर रज़ी. फ़रमाते है. हर मुसलमान, गुलाम, आज़ाद, मर्द, औरत, बच्चे, बूढ़े सब पर सदका फितर फ़र्ज़ किया गया है एक सा'अ (2.5 कि.ग्रा.) अनाज दे, हमे हुक़्म दिया गया की फितरा ईद की नमाज़ से पहले अदा करे.
हदीस (सही'ह बुखारी : 1503)

सदका फितर में गेंहू, जौ के अलावा ख़ज़ूर, पनीर, मुन्नका वगेराह भी दिया जा सकता है (हर मुसलमान की तरफ से 2.5 कि.ग्रा.).
हदीस (सही'ह बुखारी : 1506)

सदका फितर रमज़ान के रोज़ो की ख़ताओ (लरज़िश, ग़लतियो, गुनाहो) का कफ़्फ़रा भी है.
हदीस (अबू दाऊद : 1609)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

RAMZAN KE ROZO KI KAZA DENA JARURI HAI.


रमज़ान के रोज़ो की कज़ा देना ज़रूरी है. 


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI

Tum men jo shakhs bimar ho ya safar par ho to wo aur dino men (Rozo ki) ginti puri karle. 
QURAN (Surah Baqra 2/184)

FARMANE NABVI HAI.
HAZRAT AAYESHA RAZI. FARMATI HAI. Hame (Halate Haiz men, Period Time) Rozo ki  kaza ka huqm diya jata namaz ki kaza ka nahi.(Aurto ko halate haiz ke rozo ki kaza rakhna waazib hai)
HADEES (Sahi'h muslim  : 335)

Jayada Umr wale mard, aurat aur lailaz bimaari ke mariz ko roza chod dene ki rukhsat hai.


Hazrat ibne Abbas Razi. Farmate hai. aise shakhs har din ke badle ek miskin ko khana khila kar kaffara ada kare de aur is par kaza nahi hai.
HADEES (Dar Kutni : 2/205, Haakim : 1/404)

इरशादे बारी त'आला है
तुम में जो शख्स बीमार हो या सफ़र पर हो तो वो और दीनो में (रोज़ो की) गिनती पूरी करले. 
क़ुरान (सुराह बक़रा 2/184)

फरमाने नब्वी है.
हज़रत आएशा रज़ी. फरमाती है. हमे (हालाते हैज़ में, पीरियड टाइम) रोज़ो की  कज़ा का हुक़्म दिया जाता नमाज़ की कज़ा का नही. (औरतो को हालाते हैज़ के रोज़ो की कज़ा रखना वाज़िब है)
हदीस (सही'ह मुस्लिम  : 335)

ज़यादा उम्र वाले मर्द, औरत और लाइलाज़ बीमारी के मरीज़ को रोज़ा छोड़ देने की रुखसत है.

हज़रत इब्ने अब्बास रज़ी. फरमाते है. ऐसे शख्स हर दिन के बदले एक मिसकिन को खाना खिला कर कफ़्फ़रा अदा करे दे और इस पर कज़ा नही है.

हदीस (दार कूतनी : 2/205, हाकीम : 1/404)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

SHABE KADR (YE RAAT KHERO BARKAT WALI HAI)

शबे कद्र (ये रात खेरो बरकत वाली है


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI

Shabe kadr (Ek raat) ki ibaadat 1000 mahino ki ibaadat se behtar hai.
QURAN (Surah Kadr 97/3)

FARMANE NABVI HAI.
Jo Shakhs is raat ki khero barkat se mehrum (Dur) raha wo har tarah ki khero barkat se mehrum raha aur is ki khero barkat se sirf wahi mehrum rahta hai jo (Har kism ke kher se) Mehrum ho.
HADEES (Ibne maza : 1333)

Shabe kadr ramzan ke akhari ashre (10 Din) ki taak raato (21, 23, 25, 27 Aur 29) men talash karo.
HADEES (Sahi'Bukhari : 2017)

इरशादे बारी त'आला है

शबे कद्र (एक रात) की इबादत 1000 महीनो की इबादत से बेहतर है.
क़ुरान (सुराह कद्र 97/3)

फरमाने नब्वी है.
जो शख्स इस रात की खेरो बरकत से महरूम (दूर) रहा वो हर तरह की खेरो बरकत से महरूम रहा और इस की खेरो बरकत से सिर्फ़ वही महरूम रहता है जो (हर किस्म की खेर से) महरूम हो.
हदीस (ईब्ने माज़ा : 1333)

फरमाने नब्वी है.
शबे कद्र रमज़ान के आखरी अशरे (10 दिन) की ताक रातो (21, 23, 25, 27 और 29) में तलाश करो.
हदीस (सही'ह बुखारी : 2017)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......