Wednesday, 8 February 2017

AAKHIRAT KE MUKABALE MEN DUNIYA KI HAISIYAT KUCH BHI NAHI.


आख़िरत के मुकाबले में दुनिया की हैसियत कुछ भी नही.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
يٰٓاَيُّھَا الَّذِيْنَ اٰمَنُوْا مَا لَكُمْ اِذَا قِيْلَ لَكُمُ انْفِرُوْا فِيْ سَبِيْلِ اللّٰهِ اثَّاقَلْتُمْ اِلَى الْاَرْضِ  ۭ اَرَضِيْتُمْ بِالْحَيٰوةِ الدُّنْيَا مِنَ الْاٰخِرَةِ   ۚ فَمَا مَتَاعُ الْحَيٰوةِ الدُّنْيَا فِي الْاٰخِرَةِ اِلَّا قَلِيْلٌ 
Ai Imaan walo! tumhe kya ho gaya hai? Jab tumse kaha jata hai ki ALLAH ki raah men nikal khade ho to jameen par dher ho jate ho kya tumhe aakhirat ke badle duniya hi ki jindagi par razi ho? (Agar aisa hai to sakht galti kar rahe ho kyunki) akhirat ke mukable men duniya ki jindagi ka maja (Bilkul) be hakikat hai aur intihai thoda hone ke siwa kuch nahi.QURAN (Surah Touba 09/38)

FARMANE NABVI HAI.
NABI KARIM (sallallaahu alaihi wasallam) ne farmaya. Agar ALLAH rabbul aalmin ke nazdik ye duniya ek machchhar ke par barabar bhi haisiyat rakhti hoti to wo kisi kafir (Nafarmaan) ko pani ka ek ghunt bhi na pilata.HADEES (Sunan Tirmizi : 1889)


इरशादे बारी त'आला है.
ऐ ईमान वालो! तुम्हे क्या हो गया है? जब तुमसे कहा जाता है की अल्लाह की राह में निकल खड़े हो तो ज़मीन पर ढेर हो जाते हो क्या तुम्हे आख़िरत के बदले दुनिया ही की जिंदगी पर राज़ी हो? (अगर ऐसा है तो सख़्त ग़लती कर रहे हो क्यूंकी) आख़िरत के मुक़ाबले में दुनिया की जिंदगी का मज़ा (बिलकुल) बे हक़ीकत है और इंतिहाई थोडा होने के सिवा कुछ नही.
क़ुरान (सुराह तौबा 09/38)

फरमाने नब्वी है.
नबी करीम (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने फरमाया. अगर अल्लाह रब्बुल आलमीन के नज़दीक ये दुनिया एक मच्च्छार के पर बराबर भी हैसियत रखती होती तो वो किसी काफ़िर (नफ़रमान) को पानी का एक घूँट भी ना पिलाता.हदीस (सुनन तिर्मीज़ी : 1889)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

No comments:

Post a Comment

For any query call+919303085901