Wednesday, 8 February 2017

ALLAH AUR RASOOL SE MUHBBAT KA TAKAZA KYA HAI ?

अल्लाह और रसूल से मुहब्बत का तक़ाज़ा क्या है ?

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

قُلْ اِنْ كُنْتُمْ تُحِبُّوْنَ اللّٰهَ فَاتَّبِعُوْنِيْ يُحْبِبْكُمُ اللّٰهُ وَيَغْفِرْ لَكُمْ ذُنُوْبَكُمْ ۭوَاللّٰهُ غَفُوْرٌ رَّحِيْمٌ 
Ai Nabi kah dijiye agar tum ALLAH se muhbbat rakhte ho to meri tabedari (Itaat,Farmabardari,Huqm,Sunnat Par Amal) karo,
ALLAH khud tum se muhbbat karega tumhare gunah maaf kar dega wo bada maaf karne wala hai.

Quran (Sura Imran 3/31)

Muhbbat ka takaza to ye hai ke NABI ki sunnato (Tariko) par chala jaye (julus, jhande, gane bajane, shor-sharabe, baind-baaje) ye muhbbat ka takaza nahi,
Aap se Muhbbat ki alaamat ye hai aap ko jin kamo se muhbbat thi un kamo (Yani Touhid, Namaz, Roja, Jakat, Haj) ko kiya jaye tab apka haq ada hoga.


NABI KARIM (sallallaahu alaihi wasallam) KE HAQ
01. Aap par Imaan (Jaisa Haq Hai)lana.
02. Aap ki Itaat (Huqm Manna) Karna.
03. Aap se aur shariyat se muhbbat karna.
04. Aap ke din ki madad karna.
05. Aap ki sunnat aur ijjat ki hifajat karna.
06. Aap par durud salam bhejna.
07. Aap ke dushman se dushmani aur dosto se dosti karna.
08. Aap ko jisse se muhbbat hai usse se muhbbat karna (Sahaaba,Sahabiyaat, Ahle bait).
09. Aap ke sath insaaf karna dhoka na karna.
10. Aap ke huqm se aage na bada jay (Shan men gulu se kaam na lena).


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
يٰٓاَيُّهَا الَّذِيْنَ اٰمَنُوْا لَا تُـقَدِّمُوْا بَيْنَ يَدَيِ اللّٰهِ وَرَسُوْلِهٖ وَاتَّقُوا اللّٰهَ ۭ اِنَّ اللّٰهَ سَمِيْعٌ عَلِيْمٌ
Ai Logo jo imaan laye ho ALLAH aur uske RASOOL se aage na bado aur ALLAH se darte raho Yakinan ALLAH sunne wala janane wala hai.
Quran (Surah Huzurat 49/1)

इरशादे बारी त'आला है.
ऐ नबी कह दीजिए अगर तुम अल्लाह से मुहब्बत रखते हो तो मेरी ताबेदारी (ईत'आत,फरमाबरदारी,हुक़म,सुन्नत पर अमल) करो, अल्लाह खुद तुम से मुहब्बत करेगा तुम्हारे गुनाह माफ़ कर देगा वो बड़ा माफ़ करने वाला है.
क़ुरान (सुरा इमरान 3/31)

मुहब्बत का तक़ाज़ा तो ये है के नबी की सुन्नतो (तरीक़ो) पर चला जाए (जुलूस, झंडे, गाने बजाने, शोर-शराबे, बैंड-बाजे) ये मुहब्बत का तक़ाज़ा नही,
आप से मुहब्बत की अलामत ये है आप को जिन कामो से मुहब्बत थी उन कामो (यानी तौहीद, नमाज़, रोज़ा, ज़कात, हज) को किया जाए तब आपका हक़ अदा होगा.

नबी करीम (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) के हक़
01. आप पर ईमान (जैसा हक़ है) लाना.
02. आप की इत'आत (हुक्म मानना) करना.
03. आप से और शरीयत से मुहब्बत करना.
04. आप के दिन की मदद करना.
05. आप की सुन्नत और इज़्ज़त की हिफ़ाज़त करना.
06. आप पर दुरुद सलाम भेजना.
07. आप के दुश्मन से दुश्मनी और दोस्तो से दोस्ती करना.
08. आप को जिससे से मुहब्बत है उससे से मुहब्बत करना (सहाबा,साहबीयात, अहले बैत).
09. आप के साथ इंसाफ़ करना धोका ना करना.
10. आप के हुक्म से आगे ना बड़ा जाए (शान में गुलु से काम ना लेना).


इरशादे बारी त'आला है.
ऐ लोगो जो ईमान लाए हो अल्लाह और उसके रसूल से आगे ना बडो और अल्लाह से डरते रहो यक़ीनन अल्लाह सुनने वाला जानने वाला है.
क़ुरान (सुराह हुज़ूरत 49/1)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

No comments:

Post a Comment

For any query call+919303085901