Wednesday, 8 February 2017

ATA KARNE AUR ROKNE KA IKHTIYAAR ALLAH HI KO HAI .

अता करने और रोकने का इख्तियार अल्लाह ही को है .


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
مَا يَفْتَحِ اللّٰهُ لِلنَّاسِ مِنْ رَّحْمَةٍ فَلَا مُمْسِكَ لَهَا ۚ وَمَا يُمْسِكْ ۙ فَلَا مُرْسِلَ لَهٗ مِنْۢ بَعْدِهٖ ۭ وَهُوَ الْعَزِيْزُ الْحَكِيْمُ
ALLAH Jo rahmat logo ke liye khol de to use koi rokne wala nahi aur jise ke liye rok le to uske baad use koi bhi ata (Dene) karne wala nahi
aur wahi galib hikmat wala hai.

QURAN (Surah Fatir 35/2)

FARMANE NABVI HAI.
(HAZRAT MUHAMMAD sallallaahu alaihi wasallam) ne irshad farmaya "Nahi hai koi ma'abude barhak magar ALLAH
Wah akela hai us ka koi sharik nahi' uske liye badshahi hai aur usi ke liye sari tarife hai aur wo har chij par kadir hai
Ai ALLAH! Jo tu ata kare use rokne wala koi nahi aur jo rok le use ata karne wala koi nahi aur kisi bhi sahibe hesiyat ko us ki hesiyat tere yahan kuch fayada nahi de sakti.

HADEES (Sahi'h Bukhari : 844)

इरशादे बारी त'आला है.
अल्लाह जो रहमत लोगो के लिए खोल दे तो उसे कोई रोकने वाला नही और जिसे के लिए रोक ले तो उसके बाद उसे कोई भी अता (देने) करने वाला नही
और वही ग़ालिब हिकमत वाला है.

क़ुरान (सुराह फातिर 35/2)

फरमाने नब्वी है.
(हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने इरशाद फरमाया "नही है कोई माबुदे बरहक मगर अल्लाह
वह अकेला है उस का कोई शरीक नही' उसके लिए बादशाही है और उसी के लिए सारी तारीफे है और वो हर चीज़ पर क़ादिर है
ऐ अल्लाह! जो तू अता करे उसे रोकने वाला कोई नही और जो रोक ले उसे अता करने वाला कोई नही और किसी भी साहिबे हेसियत को उस की हेसियत तेरे यहाँ कुछ फ़ायदा नही दे सकती.

हदीस (सही'ह बुखारी : 844)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

No comments:

Post a Comment

For any query call+919303085901