Wednesday, 8 February 2017

HAR CHIJ KE KHAJANE ALLAH HI KE PAAS HAI LIHAZA USI SE MANGO.


हर चीज़ के खजाने अल्लाह ही के पास है लिहाज़ा उसी से माँगो.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
اِنَّمَا تَعْبُدُوْنَ مِنْ دُوْنِ اللّٰهِ اَوْثَانًا وَّتَخْلُقُوْنَ اِفْكًا  ۭ اِنَّ الَّذِيْنَ تَعْبُدُوْنَ مِنْ دُوْنِ اللّٰهِ لَا يَمْلِكُوْنَ لَكُمْ رِزْقًا فَابْتَغُوْا عِنْدَ اللّٰهِ الرِّزْقَ وَاعْبُدُوْهُ وَاشْكُرُوْا لَهٗ  ۭ اِلَيْهِ تُرْجَعُوْنَ
Tum ALLAH ke siwa jinki ibadat kar rahe ho aur jhuti baate dil se ghad lete ho' SUNO! Jin-jin ki tum ALLAH ke siwa ibadat karte ho wo tumhare rizk (Rozi) ke malik nahi hai 
pas tumhe chahiye ke tum ALLAH hi se rizk manga karo aur us ki ibadat karo aur usi ki shukr gujari karo aur us ki taraf tum lotaye jaoge.

QURAN (Surah Ankaboot 29/17)

FARMANE NABVI HAI.
(Hadeese Kudsi hai) ALLAH Farmata hai.
Ai mere bando! Agar tumhara pahla aur aakhari aur tumhare tamam jinn wa ins ek jagah jama ho kar mujhse mange aur men har insaan ko uske mange mutabik ata kar dun to us se bhi mere khajano men kuch kami nahi aati siwa iske ke samandar men sui daal kar nikalne se jitni aati hai.

HADEES (Sahi'h Muslim : 2577)

इरशादे बारी त'आला है.

तुम अल्लाह के सिवा जिनकी इबादत कर रहे हो और झूटी बाते दिल से घड़ लेते हो' सुनो! जिन-जिन की तुम अल्लाह के सिवा इबादत करते हो वो तुम्हारे रिज़्क (रोज़ी) के मलिक नही है पस तुम्हे चाहिए के तुम अल्लाह ही से रिज़्क माँगा करो और उस की इबादत करो और उसी की शुक्र गुज़री करो और उस की तरफ तुम लोटाये जाओगे.
क़ुरान (सुराह अंकबूत 29/17)

फरमाने नब्वी है.
(हदीसे क़ुद्सी है) अल्लाह फरमाता है.
ऐ मेरे बन्दो! अगर तुम्हारा पहला और आखरी और तुम्हारे तमाम जिन्न व इन्स एक जगह जमा हो कर मुझसे माँगे और में हर इंसान को उसके माँगे मुताबिक अता कर दूं तो उस से भी मेरे खजानों में कुछ कमी नही आती सिवा इसके के समन्दर में सुई डाल कर निकालने से जितनी आती है.

हदीस (सही'ह मुस्लिम : 2577)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

No comments:

Post a Comment

For any query call+919303085901