Wednesday, 8 February 2017

KABR AUR US KE BAAD KE HALAT PAR IMAAN.


कब्र और उस के बाद के हालात पर ईमान.


Awwal to is baat par imaan hona chahiye ke har insaan ko ALLAH ne kabr di hai chahe kisi ko dafan kiya ho, jala diya ho ya samundra men baha diya ho wagerah-wagerah'
jahan-jahan jiske jarrat mojud hai wo uski kabr hai.

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
ثُمَّ اَمَاتَهٗ فَاَقْبَرَهٗ 
Phir use (Yani Insaan Ko) mara aur use kabr di.
QURAN (Surah 80/21)

Aur imaan ye bhi hai ke kabr men sawal jawab hote hai.

FARMANE NABVI HAI.
2 Farishte (Munkar Aur Nakir) 3 sawal karte hai Tera din kya hai' Tera rab koun hai' aur wo aadami koun hai jo tum men bheja gaya tha ?HADEES (Bukhari : 3452)

Nek aadami ko kabr men ALLAH ki neamate hasil hoti hai yani use jannat ka libas pahana diya jata hai uske liye jannat ka bistar bichha diya jata hai
aur us ke liye jannat ki taraf ek darwaza khol diya jata hai' jabke badkar fazir shakhs ko kabr men azab hota hai use aag ka libas pahanaya jata hai
us ke liye aag ka bistar bichha diya jata hai aur us ke liye jahnnam ki taraf ek darwaza khol diya jata hai uski kabr ko tang kar diya jata hai yahan tak ki ek pasali dusari men ghus jati hai
aur us par ek andha aur behara farishta mukarar kar diya jata hai jiske paas aisa hathouda hota hai ke agar wo pahad par mara jaye to wo bhi reza-reza ho jaye
wo farishta use us ke sath azab deta hai aur ye silsila kayamat tak jari rahata hai.

HADEES (Abu Dawud : 4753)


अव्वल तो इस बात पर ईमान होना चाहिए के हर इंसान को अल्लाह ने कब्र दी है चाहे किसी को दफ़न किया हो, जला दिया हो या समुन्द्र में बहा दिया हो वगेराह-वगेराह'
जहाँ-जहाँ जिसके जर्रात मोजूद है वो उसकी कब्र है.

इरशादे बारी त'आला है.
फिर उसे (यानी इंसान को) मारा और उसे कब्र दी.
क़ुरान (सुराह 80/21)

और ईमान ये भी है के कब्र में सवाल जवाब होते है.

फरमाने नब्वी है.
2 फरिश्ते (मुनकर और नकिर) 3 सवाल करते है तेरा दिन क्या है' तेरा रब कौन है' और वो आदमी कौन है जो तुम में भेजा गया था ?
हदीस (बुखारी : 3452)

नेक आदमी को कब्र में अल्लाह की नेअमते हासिल होती है यानी उसे जन्नत का लिबास पहना दिया जाता है उसके लिए जन्नत का बिस्तर बिच्छा दिया जाता है
और उस के लिए जन्नत की तरफ एक दरवाज़ा खोल दिया जाता है' जबके बदकार फ़ाज़िर शख्स को कब्र में अज़ाब होता है उसे आग का लिबास पहनाया जाता है
उस के लिए आग का बिस्तर बिच्छा दिया जाता है और उस के लिए जह्न्नम की तरफ एक दरवाज़ा खोल दिया जाता है उसकी कब्र को तंग कर दिया जाता है यहाँ तक की एक पसली दूसरी में घुस जाती है
और उस पर एक अँधा और बेहरा फरिश्ता मुकर्र कर दिया जाता है जिसके पास ऐसा हथौड़ा होता है के अगर वो पहाड़ पर मारा जाए तो वो भी रेज़ा-रेज़ा हो जाए
वो फरिश्ता उसे उस के साथ अज़ाब देता है और ये सिलसिला कयामत तक जारी रहता है.
हदीस (अबू दाऊद : 4753)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

No comments:

Post a Comment

For any query call+919303085901