Wednesday, 8 February 2017

ROJE KAYAMAT SHIRK KARNE WALO KO TOUHEED KA IKRAR KOI FAYADA NAHI DEGA.


रोजे कयामत शिर्क करने वालो को तौहीद का इकरार कोई फ़ायदा नही देगा.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

فَلَمَّا رَاَوْا بَاْسَنَا قَالُوْٓا اٰمَنَّا بِاللّٰهِ وَحْدَهٗ وَكَفَرْنَا بِمَا كُنَّا بِهٖ مُشْرِكِيْنَ    فَلَمْ يَكُ يَنْفَعُهُمْ اِيْمَانُهُمْ لَمَّا رَاَوْا بَاْسَـنَا ۭ سُنَّتَ اللّٰهِ الَّتِيْ قَدْ خَلَتْ فِيْ عِبَادِهٖ ۚ وَخَسِرَ هُنَالِكَ الْكٰفِرُوْنَ   
Hamare azab ko dekhte hi kahne lagege ke ALLAH wahid (Ek) par ham imaan laye aur jin-jin ko ham us ka sharik bana rahe the hamne un sab ka inkar kiya.
lekin hamare azab ko dekh lane ke baad un ke imaan ne unhe koi fayada na diya ALLAH ne apna mamul yahi mukarrar kar rakha hai jo us ke bando men barabar chala aa raha hai.
(Yani azab dekhne ke baad to tauba aur imaan kabile kabul nahi aur ab aiso ke liye siwa nuksan aur halakat ke kuch nahi)

QURAN (Surah Gaafir 40/84-85)

FARMANE NABVI HAI.
NABI KARIM (sallallaahu alaihi wasallam) ne farmaya.
Roje kayamat ALLAH us shakhs se puchega jise dozakh ka sabse halka azab diya jayega' Agar tere paas duniya ki doulat mojud ho to apne aap ko azab se bachane ke liye ise bator fidiya (Firoti) de sakta hai?
Wo shakhs kahega ke ji han' us par ALLAH famayega ke jab tu aadam ki pith men tha to mene tujh se isse bhi mamuli chij ka mutalba (maang) kiya tha ke mere sath kisi ko sharik na karna lekin tune meri na farmani aur mere sath shirk kiya.

HADEES (Sahi'h Bukhari : 3334)

इरशादे बारी त'आला है.
हमारे अज़ाब को देखते ही कहने लगेगे के अल्लाह वाहिद (एक) पर हम ईमान लाए और जिन-जिन को हम उस का शरीक बना रहे थे हमने उन सब का इन्कार किया.
लेकिन हमारे अज़ाब को देख लेने के बाद उन के ईमान ने उन्हे कोई फ़ायदा ना दिया अल्लाह ने अपना मामूल यही मुक़र्रर कर रखा है जो उस के बन्दो में बराबर चला आ रहा है.
(यानी अज़ाब देखने के बाद तो तौबा और ईमान कबीले काबुल नही और अब ऐसो के लिए सिवा नुकसान और हलकात के कुछ नही)
क़ुरान (सुराह गाफ़िर 40/84-85)

फरमाने नब्वी है.
नबी करीम (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने फरमाया.
रोजे कयामत अल्लाह उस शख्स से पुछेगा जिसे दोज़ख़् का सबसे हल्का अज़ाब दिया जाएगा' अगर तेरे पास दुनिया की दौलत मोजूद हो तो अपने आप को अज़ाब से बचाने के लिए इसे बतोर फिदिया (फ़िरोती) दे सकता है?
वो शख्स कहेगा के जी हाँ' उस पर अल्लाह फरमाएगा के जब तू आदम की पीठ में था तो मेने तुझ से इससे भी मामूली चीज़ का मुतालबा (माँग) किया था के मेरे साथ किसी को शरीक ना करना लेकिन तूने मेरी नाफ़रमनी और मेरे साथ शिर्क किया.

हदीस (सही'ह बुखारी : 3334)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

No comments:

Post a Comment

For any query call+919303085901