Wednesday, 8 February 2017

SHIRK KARNE WALA AASMAN SE GIRNE KI MANIND HAI.


शिर्क करने वाला आसमान से गिरने की मानिंद है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
وَمَنْ يُّشْرِكْ بِاللّٰهِ فَكَاَنَّمَا خَرَّ مِنَ السَّمَاۗءِ فَتَخْطَفُهُ الطَّيْرُ اَوْ تَهْوِيْ بِهِ الرِّيْحُ فِيْ مَكَانٍ سَحِيْقٍ 
Jo ALLAH ke sath  sharik karta hai wo aisa hai jaise aasman se gir pada' ab ya to use parinde uchak le jayege ya hawa kisi dur daraj ki jagah phaik degi
(Yani har surat men uska mukddar tabahi hai jo insaan ek ALLAH ki ibadaat karta hai wo taharate nafs ke aitbaar se pakijagi ki bulandi par kayam hota hai aur juhi shirk karta hai to goya khud ko bulandi se niche aur safai se gandagi aur kichad men phaik deta hai)

QURAN (Surah haj 22/31)

FARMANE NABVI HAI.
NABI KARIM (sallallaahu alaihi wasallam) ne sahaba se farmaya kya men tumhe kabira (bahut bada) gunah men se sabse bade ke bare men khabar na du?
Sahaba ne kaha jarur khabar dijiye aap ne farmaya Wo ye hai ke ALLAH ke sath shirk karna.

HADEES (Sahi'h Bukhari : 5631)

इरशादे बारी त'आला है.
जो अल्लाह के साथ  शरीक करता है वो ऐसा है जैसे आसमान से गिर पड़ा' अब या तो उसे परिंदे उचक ले जाएगे या हवा किसी दूर दराज की जगह फैक देगी (यानी हर सूरत में उसका मुक़द्दर तबाही है जो इंसान एक अल्लाह की इबादात करता है वो तहराते नफ्स के ऐतबार से पाकीज़गी की बुलंदी पर कायम होता है और जूही शिर्क करता है तो गोया खुद को बुलंदी से नीचे और सफाई से गंदगी और कीचड़ में फैक देता है)
क़ुरान (सुराह हज 22/31)

फरमाने नब्वी है.
नबी करीम (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने साहबा से फरमाया क्या में तुम्हे कबीरा (बहुत बड़ा) गुनाह में से सबसे बड़े के बारे में खबर ना दूं? साहबा ने कहा ज़रूर खबर दीजिए आप ने फरमाया वो ये है के अल्लाह के साथ शिर्क करना.हदीस (सही'ह बुखारी : 5631)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

No comments:

Post a Comment

For any query call+919303085901