Wednesday, 8 February 2017

SIRF ALLAH TA'ALA HI AULAD DETA HAI.


सिर्फ़ अल्लाह त'आला ही औलाद देता है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
لِلّٰهِ مُلْكُ السَّمٰوٰتِ وَالْاَرْضِ ۭ يَخْلُقُ مَا يَشَاۗءُ ۭ يَهَبُ لِمَنْ يَّشَاۗءُ اِنَاثًا وَّيَهَبُ لِمَنْ يَّشَاۗءُ الذُّكُوْرَ اَوْ يُزَوِّجُهُمْ ذُكْرَانًا وَّاِنَاثًا ۚ وَيَجْعَلُ مَنْ يَّشَاۗءُ عَــقِـيْمًا ۭ اِنَّهٗ عَلِيْمٌ قَدِيْرٌ 
Asmano aur jamin ki badshahi ALLAH hi ke liye hai' Wo jo chahata hai paida karta hai' jise ko chahata hai betiyan deta hai aur jise chahata hai bete deta hai, ya dono milakar deta hai bete bhi aur betiyan bhi aur jise chahe banjh kar deta hai' wo bade ilm wala aur kamal kudrat wala hai.
QURAN (Surah Shura 42/49-50)

Malum huaa ke bete aur betiyan dena ALLAH ke hi ikhtiyar men hai wo jise chahe sirf ladkiya de jaise (HAZRAT LUT Alayhi Salam) jise chahe sirf ladke de jaise (HAZRAT IBRAHIM Alayhi Salam) aur jise chahe sab de jaise (HAZRAT MUHAMMAD sallallahu alaihi wasallam) aur jise chahe be aulad rakhe jaise (HAZRAT YAHYA Alayhi Salam) aur (HAZRAT ISSA Alayhi Salam).

Yahi wajah hai ke ANBIYA Alayhi Salam ne bhi ALLAH se hi aulad talab ki HAZRAT IBRAHIM Alayhi Salam ne dua ki.
رَبِّ هَبْ لِيْ مِنَ الصّٰلِحِيْنَ  
Ai mere rab! mujhe nek aulad ata kar.

QURAN (Surah Saffat 37/100)

Aur HAZRAT JAKRYA Alayhi Salam ne dua farmai.
رَبِّ ھَبْ لِيْ مِنْ لَّدُنْكَ ذُرِّيَّةً طَيِّبَةً  ۚ اِنَّكَ سَمِيْعُ الدُّعَاۗءِ  
Ai mere rab mujhe apne paas se pakiza aulad ata farma' beshak tu dua ka sunne wala hai.

QURAN (Surah Imran 03/38)

इरशादे बारी त'आला है.
आसमानो और ज़मीन की बादशाही अल्लाह ही के लिए है' वो जो चाहता है पैदा करता है' जिसे को चाहता है बेटियाँ देता है और जिसे चाहता है बेटे देता है, या दोनो मिलाकर देता है बेटे भी और बेटियाँ भी और जिसे चाहे बांझ कर देता है' वो बड़े इल्म वाला और कमाल कूदरत वाला है.
क़ुरान (सुराह शूरा 42/49-50)

मालूम हुआ के बेटे और बेटियाँ देना अल्लाह के ही इख्तियार में है वो जिसे चाहे सिर्फ़ लड़कियाँ दे जैसे (हज़रत लुत अलेहिस सलाम) जिसे चाहे सिर्फ़ लड़के दे जैसे (हज़रत इब्राहिम अलेहिस सलाम) और जिसे चाहे सब दे जैसे (हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) और जिसे चाहे बे औलाद रखे जैसे (हज़रत याहया अलेहिस सलाम) और (हज़रत इसा अलएहीस सलाम).

यही वजह है के अंबीयाँ अलएहीस सलाम ने भी अल्लाह से ही औलाद तलब की हज़रत इब्राहिम अलएहीस सलाम ने दुआ की.
ऐ मेरे रब! मुझे नेक औलाद अता कर.

क़ुरान (सुराह सफ्फात 37/100)

और हज़रत ज़करिया अलेहिस सलाम ने दुआ फरमाई.
ऐ मेरे रब मुझे अपने पास से पाकीज़ा औलाद अता फरमा' बेशक तू दुआ का सुनने वाला है.

क़ुरान (सुराह इमरान 03/38)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

No comments:

Post a Comment

For any query call+919303085901