Thursday, 26 November 2015

ALLAH AUR RASOOL KI BAAT NA MANE UNKE LIYE JAHNNAM KI AAG HAI.

अल्लाह और रसूल की बात ना माने उनके लिए ज़ह्न्नम की आग है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
وَّاَنَّ الْمَسٰجِدَ لِلّٰهِ فَلَا تَدْعُوْا مَعَ اللّٰهِ اَحَدًا   وَّاَنَّهٗ لَمَّا قَامَ عَبْدُ اللّٰهِ يَدْعُوْهُ كَادُوْا يَكُوْنُوْنَ عَلَيْهِ لِبَدًا    قُلْ اِنَّمَآ اَدْعُوْا رَبِّيْ وَلَآ اُشْرِكُ بِهٖٓ اَحَدًا  قُلْ اِنِّىْ لَآ اَمْلِكُ لَكُمْ ضَرًّا وَّلَا رَشَدًا   قُلْ اِنِّىْ لَنْ يُّجِيْرَنِيْ مِنَ اللّٰهِ اَحَدٌ  ڏ وَّلَنْ اَجِدَ مِنْ دُوْنِهٖ مُلْتَحَدًا 
Aur ye ke masjidein sirf ALLAH hi ke liye khas hain ps ALLAH ke sath kisi aur ko na pukaro.
Aap kah dijeye ke main to sirf apne rab hi ko pukarta hun aur is ke sath kisi ko sharik nahi banata.
Kah dijiye ke mujhe tumhare kisi nuksan nafa (Faida) ka ikhtiyar nahi.
Kah dijiye ke mujhe hargiz koi ALLAH se bacha nahi sakta aur main hargiz us ke siwa koi jaye a panah bhi pa nahi sakta.
Albata (mera kaam) ALLAH ki baat aur is ke pegamaat (logo ko) pahuncha dena hai.
Ab jo bhi ALLAH aur us ke Rasool ki na mane ga
us ke liye jahannam ki aag hai jis main aise log hamesha rahenge.

Quran (Surah Jinn 72/18-23)

और ये के मस्जीदे सिर्फ़ अल्लाह ही के लिए खास हैं पस अल्लाह के साथ किसी और को ना पुकारो.
आप कह दीजिए के मैं तो सिर्फ़ अपने रब ही को पुकारता हूँ और इस के साथ किसी को शरीक नही बनता.
कह दीजिए के मुझे तुम्हारे किसी नुकसान ऩफा (फ़ायदा) का इख्तियार नही.
कह दीजिए के मुझे हरगिज़ कोई अल्लाह से बचा नही सकता और मैं हरगिज़ उस के सिवा कोई जाए ए पनाह भी पा नही सकता.
अलबत्ता (मेरा काम) अल्लाह की बात और इस के पेगामात (लोगो को) पहुँचा देना है.
अब जो भी अल्लाह और उस के रसूल की ना मानेगा
उस के लिए जहन्नम की आग है जिस मैं ऐसे लोग हमेशा रहेंगे.

क़ुरान (सुराह जिन्न 72/18-23)


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

ALLAH EK HAI WO SAMAJH LE JO AQL (DIMAAG) RAKHTE HAI.

अल्लाह एक है वो समझ ले जो अक़्ल (दिमाग़) रखते है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

هٰذَا بَلٰغٌ لِّلنَّاسِ وَلِيُنْذَرُوْا بِهٖ وَلِيَعْلَمُوْٓا اَنَّمَا هُوَ اِلٰهٌ وَّاحِدٌ وَّلِيَذَّكَّرَ اُولُوا الْاَلْبَابِ

Ye Quran tamam logo ke liye itla nama (Khabardar karne wala) hai taki iske jariye wo hoshiyar (Khabardar) ho jaye, Aur jaanle ke ALLAH EK hi mabood ibadat ke layak hai wo samajh le sanbhal jaye jo log akl (Dimaag) rakhte hai.
Quran (Surah Ibrahim 14/52)

وَيَوْمَ نَحْشُرُهُمْ جَمِيْعًا ثُمَّ نَقُوْلُ لِلَّذِيْنَ اَشْرَكُوْٓا اَيْنَ شُرَكَاۗؤُكُمُ الَّذِيْنَ كُنْتُمْ تَزْعُمُوْنَ    
Aur woh waqt bhi yaad karne ke kabil hai jis roz (Kayamat) ham un tamam Logo ko jama karenge, phir ham mushrikin se kahenge ke kahan hai tumharay wo sharik (Sajhidar) jin ka tum duniya men dawa kiya karte thay the ?
Quran (Surah Aanam 6/22)

ये क़ुरान तमाम लोगो के लिए इतला नामा (खबरदार करने वाला) है ताकि इसके ज़रिए वो होशियार (खबरदार) हो जाए, और जानले के अल्लाह एक ही माबूद इबादत के लायक है वो समझ ले संभल जाए जो लोग अक्ल (दिमाग़) रखते है ?.
क़ुरान (सुराह इब्राहिम 14/52)

और वो वक़्त भी याद करने के काबिल है जिस रोज़ (कयामत के दिन) हम उन तमाम लोगो को जमा करेंगे,
फिर हम मुश् रीकीन से कहेंगे के कहाँ है तुम्हारे वो शरीक (साझीदार) जिन का तुम दुनिया में दावा किया करते थे ?

क़ुरान (सुराह अनाम 6/22)


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

YAQEENAN ALLAH SHARIK KIYE JANE KO NAHI BAKHSHTA.

यक़ीनन अल्लाह शरीक किए जाने को नही बख्शता.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI. 
اِنَّ اللّٰهَ لَا يَغْفِرُ اَنْ يُّشْرَكَ بِهٖ وَيَغْفِرُ مَا دُوْنَ ذٰلِكَ لِمَنْ يَّشَاۗءُ  ۚوَمَنْ يُّشْرِكْ بِاللّٰهِ فَقَدِ افْتَرٰٓى اِثْمًا عَظِيْمًا 
Yaqeenan ALLAH apne sath sharik (Partner/saajhi) kiye janey ko nahi bakhshta Aur is ke siwa jise chahe bakhsh deta hai aur jo ALLAH ke sath sharik muqarrar kare us ne bahut bada gunah aur bohtan (jhooth) bandha.
Quran (Nisha 4/48)

وَلَقَدْ اُوْحِيَ اِلَيْكَ وَاِلَى الَّذِيْنَ مِنْ قَبْلِكَ ۚ لَىِٕنْ اَشْرَكْتَ لَيَحْبَطَنَّ عَمَلُكَ وَلَتَكُوْنَنَّ مِنَ الْخٰسِرِيْنَ  
Yaqeenan teri taraf bhi aur tujh se pehle (ke tamam nabiyon) ki taraf bhi wahee ki gai hai ke agar tune shirk kiya to bila shuba tera amal (tamaam nekiya, aur parhezgaariya) zaya ho jayega aur bil-yaqeen tu ziyan kaaron mein se ho jayega.
Quran (Zumar 39/65)

यक़ीनन अल्लाह अपने साथ शरीक (पार्ट्नर/साझी) किए जाने को नही बख्शता और इस के सिवा जिससे चाहे बख़्श देता है और जो अल्लाह के साथ शरीक मुक़र्रर करे उस ने बहुत बड़ा गुनाह और बोहतान (झूठ) बाँधा.
क़ुरान (निशा 4/48)

यक़ीनन तेरी तरफ भी और तुझ से पहले (के तमाम नबीयों) की तरफ भी वही की गई है के अगर तूने शिर्क किया तो बिला शुबा तेरा अमल (तमाम नेकिया, और परहेज़गारिया) ज़ाया हो जाएगा और बिल-यक़ीन तू ज़ियाँकारों में से हो जाएगा.
क़ुरान (ज़ूमर 39/65)


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

ISLIYE ALLAH KA SHUKR KARO.

इसलिए अल्लाह का शुक्र करो.


 IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
كَمَآ اَرْسَلْنَا فِيْكُمْ رَسُوْلًا مِّنْكُمْ يَتْلُوْا عَلَيْكُمْ اٰيٰتِنَا وَيُزَكِّيْكُمْ وَيُعَلِّمُكُمُ الْكِتٰبَ وَالْحِكْمَةَ وَيُعَلِّمُكُمْ مَّا لَمْ تَكُوْنُوْا تَعْلَمُوْنَ     
فَاذْكُرُوْنِيْٓ اَذْكُرْكُمْ وَاشْكُرُوْا لِيْ وَلَا تَكْفُرُوْنِ   
Jis tarah ham ney tum mein tumhin mein se rasool bheja jo hamari aayaten tumharay samney tilawat karta hai aur tumhen kitab-o-hikmat aur woh cheezen sikhata hai jin se tum be ilm the.
Isliye tum mera zikr karo mein bhi tumhen yaad karunga meri shukr guzari karo aur na shukri se bacho.

Quran (Surah Baqara 2/151-152)

जिसस तरह हम ने तुम में तुम्हीं में से रसूल भेजा जो हमारी आयतें तुम्हारे सामने तिलावत करता है और तुम्हें किताब-ओ हिकमत और वो चीज़ें सिखाता है जिन से तुम बे इल्म थे.
इसलिए तुम मेरा ज़िक्र करो में भी तुम्हें याद करूँगा मेरी शुक्र गुज़ारी करो और ना शुक्रि से बचो

क़ुरान (सुराह बक़रा 2/151-152)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

ALLAH KO ISLAM KE ALAWA KOI DIN KABUL NAHI.

अल्लाह को इस्लाम के अलावा कोई दिन काबुल नही.


 IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
Aaj mein ney tumharay liye deen ko kaamil(Pura) ker diya aur tum per apna inam bharpoor ker diya, aur tumharay liye islam kay deen honey per raza mand ho gaya.
Quran (Surah Maeeda 5/3)

Jo Islam ke alawa koi aur DEEN talab karega to uski taraf se kuch bhi qabool nahi kiya jayega. Aur aakhirat me wo nuksan uthane walo me se hoga.
Quran (Surah Imran 3/85)

DEEN (Maz’hab) to ALLAH ki nazar me ISLAM hi hai. Jinhein qitaab di gai hai, unhone to isme iske baad ikhtelaaf kiya ki Ilm unke paas aa chuka tha. Aisa unhone aapas me burey rawaiye ki wajah se kiya. Jo ALLAH ki aayato ka inkar karega to ALLAH bhi jald hi hisab lene wala hai.
Quran (Surah Imran 3/19)

आज मेने तुम्हारे लिए दीन को कामिल (पूरा) कर दिया और तुम पर अपना इनाम भरपूर कर दिया, और तुम्हारे लिए इस्लाम के दीन होने पर रज़ा मंद हो गया.
क़ुरान (सुराह माइदा 5/3)

जो इस्लाम के अलावा कोई और दीन तलब करेगा तो उसकी तरफ से कुछ भी क़बूल नही किया जाएगा. और आख़िरत मे वो नुकसान उठाने वालो मे से होगा.
क़ुरान (सुराह इमरान 3/85)

दीन (मॅजहब) तो अल्लाह की नज़र मे इस्लाम ही है. जिन्हें क़िताब दी गई है, उन्होने तो इसमे इसके बाद इख्तेलाफ किया की इल्म उनके पास आ चुका था. ऐसा उन्होने आपस मे बुरे रवैये के वजह से किया. जो अल्लाह की आयतो का इन्कार करेगा तो अल्लाह भी जल्द ही हिसाब लेने वाला है.”
क़ुरान (सुराह इमरान 3/19)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

Monday, 23 November 2015

KARZDAR KO MUHLAT DO.

कर्ज़दार को मुहलत दो.

Jis shakhs ko achcha lagta ho ki ALLAH us ko kayamat ke din sakhtiyo se nijat de to wo karzdar ko muhlat de ya maaf kar de.
Hadees (Sahih Muslim : 4000)

Aur agar koi tangi wala ho to use aasani tak muhlat deni chahiye aur sadka karo to tumhare liye behtar hai agar tum ilm wale ho. 
Quran : (Sura Baqra 2/280)

Jis ne tangdast ko muhlat di ya karz maaf kar diya to ALLAH use apna saya nasib karega.
Hadees (Sahih Muslim : 7512)

जिस शख्स को अच्छा लगता हो की अल्लाह उस को कयामत के दिन सख्तियो से निजात दे तो वो कर्ज़दार को मुहलत दे या माफ़ कर दे.
हदीस (सही मुस्लिम : 4000)

और अगर कोई तंगी वाला हो तो उसे आसानी तक मुहलत देनी चाहिए और सदका करो तो तुम्हारे लिए बेहतर है अगर तुम इल्म वाले हो.
क़ुरान : (सुरा बक़रा 2/280)

जिस ने तन्ग्दस्त को मुहलत दी या क़र्ज़ माफ़ कर दिया तो अल्लाह उसे अपना साया नसीब करेगा.
हदीस (सही मुस्लिम : 7512)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

GUSSA PINE WALO KO ALLAH APNA DOST RAKHTA HAI

गुस्सा पीने वालो को अल्लाह अपना दोस्त रखता है


Muttkin wo hai ! Jo Gussa pine wale aurlogo se dargujar karne wale hai, ALLAH TA'ALA in nekokaro ko dost rakhta hai.
Quran (Sura Ale Imran : 3/134)

Koi ghunt pine ka sawab ALLAH ke pas itna nahi jitna sawab gusse ka ghunt pine men hai jo ki aadmi ALLAH ki rjaa chahte huye piye.
Hadees (Ibne Mazah : 3377)

Jo aadmi gussa roke halanki use apna gussa pura karne ka ikhtiyar bhi ho to kayamat ke din ALLAH us ko sab logo ke samne bulayega aur farmayega jis hur ko tu chahe pasand kar le.
Hadees (Abu Dawud : 3997)


मुत्तक़ीन वो है ! जो गुस्सा पीने वाले और लोगो से दरगुजर करने वाले है, अल्लाह त'आला इन नेकोकारो को दोस्त रखता है.
क़ुरान (सुरा अले इमरान : 3/134)

कोई घूँट पीने का सवाब अल्लाह के पास इतना नही जितना सवाब गुस्से का घूँट पीने में है जो की आदमी अल्लाह की रजा चाहते हुए पिये.
हदीस (इब्न माज़ा : 3377)

जो आदमी गुस्सा रोके हालाँकि उसे अपना गुस्सा पूरा करने का इख्तियार भी हो तो कयामत के दिन अल्लाह उस को सब लोगो के सामने बुलाएगा और फरमाएगा जिस हूर को तू चाहे पसंद कर ले.
हदीस (अबू दाऊद : 3997)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

Friday, 20 November 2015

ALLAH ki nazar mein zaalim Koun Hai ?

अल्लाह की नज़र में ज़ालिम कौन है ?

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

Ay Logo Jo Imaan laye ho ! Mard dusre mardon ka mazaak na udaye, mumkin hai wo unse achche ho, aur na Auratein , aurato ka mazaak udaye mumkin hai wo unse achchi ho,
aur aapas men ek dusre par aib (Iljam, Tana Kasi) na lagao Aur na kisi ko bure lakab (Naam) do, Imaan lane ke baad nafarmaan ka naam jodna bahut hi bura hai. Aur jo shakhs (Tauba na kare) baaz naa aaye, to aise hi log zaalim hai.

Quran (Sura Huzuraat 49/11)

Jo us qanoon (Shariyat) ke mutabik faisla na karey, jisey ALLAH ne (Quran) utara hai to aise hi log Zaalim hain.
Quran (Sura Mayeda : 5/45)

ए लोगो जो ईमान लाए हो ! मर्द दूसरे मर्दों का मज़ाक ना उड़ाए, मुमकिन है वो उनसे अच्छे हो, और ना औरतें औरतो का मज़ाक उड़ाए मुमकिन है वो उनसे अच्छी हो, और आपस में एक दूसरे पर ऐब (इल्ज़ाम, ताना कसी) ना लगाओ और ना किसी को बुरे लकब (नाम) दो, ईमान लाने के बाद नफ़ारमान का नाम जोड़ना बहुत ही बुरा है. और जो शख्स (तौबा ना करे) बाज़ ना आए, तो ऐसे ही लोग ज़ालिम है.क़ुरान (सुरा हुज़ूरात 49/11)

जो उस क़ानून (शरीयत) के मुताबिक फ़ैसला ना करे,
जिसे अल्लाह ने (क़ुरान) उतारा है तो ऐसे ही लोग ज़ालिम हैं.”

क़ुरान (सुरा मायेदा : 5/45)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

Mujhe sabse zyada kis baat se bachna chahiye ? /

मुझे सबसे ज़्यादा किस बात से बचना चाहिए ?

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

Yaad karo jab Luqmaan(Alayhissalam) ne apne bete se, usey naseehat karte hue kahaa- Ay mere bete ! ALLAH k sath shirk na kar. Beshk Shirk bahut badaa zulm hai.
Quran ( Lukman 31/13)

“A Imaan walo ! Bahut bad gumaaniyo se bacho, yakin mano baz bad gumaaniya gunaah hai.
Aur  bhed na tatola karo aur na tum men se koi kisi ki gibat kare- kya tum se koi bhi apne murda bhai ka gost khana pasand karta hai ? tum ko isse ghinn aayegi'
aur ALLAH se darte raho Beshk ALLAH tauba kabul karne wala mehrban hai.

Quran (Sura Huzrat 49/12)

याद करो जब लुक़मान(अलायहिस्सलाम) ने अपने बेटे से, उसे नसीहत करते हुए कहा- ए मेरे बेटे ! अल्लाह के साथ शिर्क ना कर. बेशक शिर्क बहुत बड़ा ज़ुल्म है.”
क़ुरान (सुरा लुक़मान 31/13)

“ए ईमान वालो ! बहुत बद गुमानियो से बचो, यकीन मानो बाज़ बद गुमानिया गुनाह है. और  भेद ना टटोला करो और ना तुम में से कोई किसी की गीबत करे- क्या तुम से कोई भी अपने मुर्दा भाई का गोस्त खाना पसंद करता है ? तुम को इससे घिन्न आएगी' और अल्लाह से डरते रहो बेशक अल्लाह तौबा काबुल करने वाला मेहरबान है.
क़ुरान (सुरा हूज़रात 49/12)


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

Meri zindagi aur maut ka kya maqsad hai ?

मेरी ज़िंदगी और मौत का क्या मक़सद है ?

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

Wo jisne Maut aur Zindagi ko paida kiya ke tumhe ajmaye (Imtihaan/jaanche/exam) ke tum me kaun sabse achche amal karta hai. Wo (ALLAH) hi Izzat wala bakhshish wala hai.”
Quran (Sura Mulk 67/2)

Maine jinnaat aur insaano ko mahaj is liye paida kiya hai ke wo sirf meri ibadat kare.
Quran (Sura Jariyat 51/56)

“वो जिसने मौत और ज़िंदगी को पैदा किया के तुम्हे आज़माए (इम्तिहान/जाँचे/exam) के तुम मे कौन सबसे अच्छे अमल करता है. वो (अल्लाह) ही इज़्ज़त वाला बखशीश वाला है.”
क़ुरान (सुरा मुल्क 67/2)

मैने जिन्नात और इंसानो को महज इस लिए पैदा किया है के वो सिर्फ़ मेरी इबादत करे.
क़ुरान (सुरा ज़ारियात 51/56)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

Sunday, 3 May 2015

मुझे अपने बुज़ुर्गो (पूर्वज/फोरफादर्स) की इत’आत (पैरवी/अनुसरण/followship) कब नही करना चाहिए ?

मुझे अपने बुज़ुर्गो (पूर्वज/फोरफादर्स) की इत’आत (पैरवी/अनुसरण/followship) कब नही करना चाहिए ?

“और जब उनसे कहा जाता है की, अल्लाह ने जो कुछ उतारा है उसकी इत’आत करो, तो कहते हैं
नही, बल्कि हम तो उसकी इत’आत करेंगे जिस पर हमने अपने बाप-दादा को पाया. क्या उस हाल मे भी जबकि उनके बाप-दादा कुछ अक्ल/दिमाग़ से काम ना लेते रहे हो और ना सीधे राह पर रहे हो ?”

क़ुरान( सुरा बक़रा 2/170)

“और जब उनसे कहा जाता है की उस चीज़ की और आओ जो अल्लाह ने नाज़ील की है, और रसूल की और, तो वो कहते हैं
हमारे लिए तो वो ही काफ़ी है जिस पर हमने अपने बाप-दादा को पाया है. क्या अगर उनके बाप-दादा कुछ भी ना जानते हो और ना सीधे राह पर हो ?”

क़ुरान (सुरा मुहम्मद 47/21)

अल्लाह हमें हक़ बात समझने की और सही अमल करने की तोफीक अता फरमाये आमीन......

Mujhe apne buzurgo (Purvaj/forefathers) ki ita’at (Pairvi/Anusaran/followship) kab nahi karna chahiye ?

Mujhe apne buzurgo (Purvaj/forefathers) ki ita’at (Pairvi/Anusaran/followship) kab nahi karna chahiye ?
 

 “Aur jab unse kaha jata hai ki, ALLAH ne jo kuch utara hai uski ita’at karo, to kehte hain
Nahi, balki ham to uski ita’at karenge jis par hamne apne baap-dada ko paya. Kya us haal me bhi jabki unke baap-dada kuch akl/dimag se kaam na lete rahe ho aur na seedhey raah par rahe ho ?”

Quran(Sura Baqra 2/170)

“aur jab unse kaha jata hai ki us cheez ki aur aao jo ALLAH ne naazil ki hai, aur Rasool ki aur, to wo kehte hain
Hamare liye to wo hi kaafi hai jis par hamne apne baap-dada ko paya hai. Kya agar unke baap-dada kuch bhi na jaante ho aur na seedhey raah par ho ?”

Quran (Sura Muhmmad 47/21)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

मुझे दुनिया और आख़िरत मे अच्छी ज़िंदगी कैसे मिल सकती है ?

मुझे दुनिया और आख़िरत मे अच्छी ज़िंदगी कैसे मिल सकती है ?

“जो नेक अमल (अच्छा काम) करे मर्द हो या औरत लेकिन बाईमान (मुसलमान) हो तो ज़रूर हम उसे अच्छी ज़िंदगी अता फरमाएगे.
और उनके नेक अमाल (अच्छे कामो) बदला (अज्र/जज़ा/सवाब) ज़रूर-ज़रूर देंगे.
(जो उनके सब से बेहतर काम क लायक हो)”

क़ुरान ( सुरा नहल 16/97)

अल्लाह हमें हक़ बात समझने की और सही अमल करने की तोफीक अता फरमाये आमीन......

Mujhe duniya aur aakhirat me achchi zindagi kaise mil sakti hai ?

Mujhe duniya aur aakhirat me achchi zindagi kaise mil sakti hai ?

“Jo Nek Amal (Achcha Kaam) kare mard ho ya aurat Lakin baimaan (Musalaman) ho to zaroor ham usey achchi zindagi ataa farmayege.
Aur unke nek amaal (Achche kamo) Badlaa (Ajar/Jazaa/Sawab) jarur-jarur denge.
(jo unke sab se behtar kaam k laayak ho)”

Quran ( Nahal 16/97)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

अल्लाह मुझसे कैसा सलूक चाहता है. ?

अल्लाह मुझसे कैसा सलूक चाहता है. ?

“और याद करो जब बनी इसराइल से हमने वादा लिया –
अल्लाह के अलावा किसी की बंदगी (इबादत, दुआ,) ना करोगे.
और मा-बाप के साथ और रिश्तेदारो के साथ और यतीमो और मुहताज़ो के साथ अच्छा सलूक करोगे और ये की लोगो से अच्छी बात कहो और नमाज़ क़ायम करो और ज़कात (अल्लाह की राह में खर्च करो) दो.”

क़ुरान ( बक़रा 2/83)

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये आमीन

ALLAH mujhse kaisa salook chahta hai. ?

ALLAH mujhse kaisa salook chahta hai. ?

“Aur yaad karo jab bani Israil se humne wada liya –
ALLAH ke alawa kisi ki bandagi (Ibadat, Dua,) na karoge.
Aur maa-baap ke sath aur rishtedaro ke sath aur yateemo aur muhtaajo ke sath achcha salook karoge aur ye ki logo se achchi baat kaho aur namaaz qaayam karo aur zakaat (ALLAH ki rah men khrch karo) do.”

Quran ( Baqra 2/83)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

वो कौन से काम हैं जिनको करने से मुझे जन्नत मिल सकती है ?

वो कौन से काम हैं जिनको करने से मुझे जन्नत मिल सकती है ?

“और अपने रब की तौबा और उस जन्नत की और बढ़ो. जिसका फैलाव आसमानो और ज़मीनो जैसा है.
वो उन लोगो क लिए तैयार है जो डर रखते हैं. वो लोग जो खुशहाली और तंगी के हर हाल मे खर्च करते हैं और गुस्से को रोकते हैं और लोगो को माफ़ करते हैं.,
और अल्लाह को ऐसे लोग अज़ीज़ हैं. जो अच्छे से अच्छा काम करते हैं.
और जिनका हाल ये है की जब वो कोई खुला गुनाह कर बैठते हैं या अपने आप पर ज़ुल्म करते हैं तो फ़ौरन अल्लाह उन्हें याद आ जाता है और वो अपने गुनाहो की माफी चाहने लगते हैं
और अल्लाह के अलावा कौन है, जो गुनाहो को बख़्श दे ?
और जानते बुझते वो अपने किए पर अड़े नही रहते. उनका बदला उनके रब की और से बख़्शिस है और ऐसे बाग़ (Garden) हैं जिनके नीचे नहरे (Canals) बहती होंगी.
उनमे वो हमेशा रहेंगे. और क्या ही अच्छा बदला है अच्छे आमाल करने वालो का.”

क़ुरान ( इमरान 3/133-136)

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये आमीन

Wo kaun se kaam hain jinko karne se mujhe Jannat mil sakti hai ?


Wo kaun se kaam hain jinko karne se mujhe Jannat mil sakti hai ?


“Aur apne Rab ki tauba aur us jannat ki aur badho. Jiska failav aasmaano aur zameeno jaisa hai.
wo un logo k liye taiyaar hai jo darr rakhte hain. Wo log jo khushhali aur tangi ke har haal me kharch karte hain aur gusse ko rokte hain aur logo ko maaf karte hain.,
aur ALLAH ko aise log azeez hain. Jo achche se achha kaam karte hain.
Aur jinka haal ye hai ki jab wo koi khula gunah kar baithte hain ya apne aap par zulm karte hain to fauran ALLAH unhein yaad aa jata hai aur wo apne gunaho ki maafi chahne lagte hain
aur ALLAH ke alawa kaun hai, jo Gunaho ko bakhsh de ?
Aur jaante bujhte wo apne kiye par adey nahi rehte. Unka badla unke Rabb ki aur se bakhshis hai aur aise baag (Garden) hain jinke neeche nehre (Canals) behti hongi.
Unme wo hamesha rahenge. Aur kya hi achcha badla hai achche aamal karne walo ka.”

Quran ( Imran 3/133-136)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

क्या अल्लाह के क़ुरान को समझना हमारे लिए मुश्किल है.

क्या अल्लाह के क़ुरान को समझना हमारे लिए मुश्किल है.

और बेशक हमने क़ुरान को समझने के लिए आसान कर दिया,
तो क्या कोई नसीहत हासिल करने वाला है.

क़ुरान (सुरा क़मर 54/17-22-32-40)

अल्लाह त'आला अपनी आयतों को खोल-खोल कर बयान करता है ताकि तुम हिदायत पा सको.
क़ुरान (सुरा अन'नाम 6/55) और (इमरान 3/103)

क्या तुम क़ुरान को नही समझते तुम्हारे दिलों पर ताले लग गये है.
क़ुरान (मुहम्मद 47/24)

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये आमीन

KYA ALLAH KE QURAN KO SAMJHNA HAMARE LIYE MUSHKIL HAI.

KYA ALLAH KE QURAN KO SAMJHNA HAMARE LIYE MUSHKIL HAI.

Aur Beshk hamne quran ko samjhne ke liye aasan kar diya,
To kya koi nasihat hasil karne wala hai.

Quran (Sura Qamar 54/17-22-32-40)

Allah Ta'ala apni aayato ko khol-khol kar bayaan karta hai taki tum hidayat pa sako.
Quran (Sura An'nam 6/55) Aur (Imran 3/103)


Kya tum quran ko nahi samjhte tumhare dilo par taale lag gaye hai.
Quran (Muhmmad 47/24)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

अल्लाह और रसूल से मुहब्बत का तक़ाज़ा क्या है ?

अल्लाह और रसूल से मुहब्बत का तक़ाज़ा क्या है ?

ए नबी कह दीजिए अगर तुम अल्लाह से मुहब्बत रखते हो तो मेरी ताबेदारी (ईतात,फरमाबारदारी,हूक्म,सुन्नत पर अमल) करो,
अल्लाह खुद तुम से मुहब्बत करेगा तुम्हारे गुनाह माफ़ कर देगा वो बड़ा माफ़ करने वाला है.

क़ुरान (सुरा इमरान 3/31)

मुहब्बत का तक़ाज़ा तो ये है के नबी की सुन्नतो (तरीक़ो) पर चला जाए (जुलूस, झंडे, गाने बजाने, शोर-शराबे, बैंड-बाजे) ये मुहब्बत का तक़ाज़ा नही,
आप से मुहब्बत की अलामत ये है आप को जिन कामो से मुहब्बत थी उन कामो (यानी तौहीद, नमाज़, रोज़ा, ज़कात, हज) को किया जाए तब आपका हक़ अदा होगा.

नबी करीम सल्ल. के हक़.
01. आप पर ईमान (जैसा हक़ है) लाना.
02. आप की ईतात (हुक़म मानना) करना.
03. आप से और शरीयत से मुहब्बत करना.
04. आप के दिन की मदद करना.
05. आप की दिन और इज़्ज़त की हिफ़ाज़त करना.
06. आप पर दुरुद भेजना.
07. आप के दुश्मन से दुश्मनी और दोस्तो से दोस्ती करना.
08. आप को जिससे से मुहब्बत है उससे से मुहब्बत करना.
09. आप के साथ इंसाफ़ करना धोका ना करना.
10. आप के हुक़्म से आगे ना बड़ा जाए.


अल्लाह ने फरमाया.
ए लोगो जो ईमान लाए हो अल्लाह और उसके रसूल से आगे ना बडो और अल्लाह से डरते रहो यक़ीनन अल्लाह सुनने वाला जानने वाला है.
क़ुरान (सुरा हुज़ूरत 49/1)

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये आमीन...

ALLAH AUR RASOOL SE MUHBBAT KA TAKAZA KYA HAI ?

ALLAH AUR RASOOL SE MUHBBAT KA TAKAZA KYA HAI ?

A Nabi kah dijiye agar tum ALLAH se muhbbat rakhte ho to meri tabedari (Itaat,Farmabardari,Huqm,Sunnat Par Amal) karo,
ALLAH khud tum se muhbbat karega tumhare gunah maaf kar dega wo bada maaf karne wala hai.

Quran (Sura Imran 3/31)

Muhbbat ka takaza to ye hai ke NABI ki sunnato (Tariko) par chala jaye (julus, jhande, gane bajane, shor-sharabe, baind-baaje) ye muhbbat ka takaza nahi,
Aap se Muhbbat ki alamat ye hai app ko jin kamo se muhbbat thi un kamo (Yani Tauhhed, Namaz, Roja, Jakat, Haj) ko kiya jaye tab apka haq ada hoga.

NABI KARIM SAW. KE HAQ
01. Aap par Imaan (Jaisa Haq Hai)lana.
02. Aap ki Itaat (Huqm Manna) Karna.
03. Aap se aur shariyat se muhbbat karna.
04. Aap ke din ki madad karna.
05. Aap ki din aur ijjat ki hifajat karna.
06. Aap par durud bhejna.
07. Aap ke dushman se dushmani aur dosto se dosti karna.
08. Aap ko jisse se muhbbat hai usse se muhbbat karna.
09. Aap ke sath insaaf karna dhoka na karna.
10. Aap ke huqm se aage na bada jay.


ALLAh ne farmaya.
A Logo jo imaan laye ho ALLAH aur uske RASOOL se aage na bado aur ALLAH se darte raho Yakinan ALLAH sunne wala janane wala hai.
Quran (Sura Huzurat 49/1)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

मुझे किसका हुक्म मान’ना चाहिए ?

मुझे किसका हुक्म मान’ना चाहिए ?

“अल्लाह का डर रखो और आपस मे सुलह और सफाई रखो,
और अल्लाह और उसके रसूल (अलेहिसलाम) का हुक्म को मानो अगर तुम ईमान वाले हो.!”

(क़ुरान : सुरा अनफाल 8/1)

“ए ईमान वालो ! हुक्म मानो अल्लाह का और हुक्म मानो रसूल का और उनका जो  तुम मे हुकूमत वाले हैं फिर अगर तुम मे किसी बात पर झगड़ा (इकतिलाफ) उठे तो उसे तुम अल्लाह और रसूल की और लौटाओ,
अगर तुम अल्लाह और क़यामत पर ईमान रखते हो.
ये बेहतर है और उसका अंजाम सबसे अच्छा है.”

(क़ुरान : सुरा निसा 4/59)
अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये आमीन...

Mujhe kiska Hukm man’na chahiye ?

Mujhe kiska Hukm man’na chahiye ?

“Allah ka dar rakho aur aapas me Sulah aur safaai rakho,
Aur Allah aur Uske Rasool (Alayhissalam) ka hukm ko maano agar tum Imaan wale ho.!”

(Quran : Sura Anfal 8/1)

“Ay Imaan walo ! Hukm maano ALLAH ka aur Hukm maano Rasool ka aur unka jo  tum me hukoomat wale hain fir agar tum me kisi baat par jhagda (Ikhtilaf) uthey to usey tum ALLAH aur Rasool ki aur lautaao,
Agar tum Allah aur Qayaamat par imaan rakhte ho.
Ye behtar hai aur uska anjaam sabse achcha hai.”

(Quran : Sura Nisaa 4/59)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

मेरी बातचीत कैसी होनी चाहिए ?

मेरी बातचीत कैसी होनी चाहिए ?

“मेरे बन्दो से कह दो की बात वही कहें जो अच्छी हो.
शैतान तो उनके बीच उकसाकर(फुसलाकर) फ़साद डालता रहता है. बेशक शैतान तो इंसान का खुला दुश्मन है.”
(क़ुरान : सुरा इसरा 17/53)

“तबाही है उसके लिए जो लोगो  के ऐब निकाले और पीठ पीछे बुराई करे.”
(क़ुरान : सुरा हुमज 104/1)

और अपनी आवाज़ कुछ पस्त/धीमी कर, बेशक सब आवाज़ो मे बुरी आवाज़ गधे की है.”
(क़ुरान : सुरा लुक़मान 31/19)

“ए ईमान लाने वालो ! अल्लाह का डर रखो और सीधी बात कहो, अल्लाह तुम्हारे आमाल तुम्हारे लिए संवार देगा और तुम्हारे गुनाह बख़्श देगा.”
(क़ुरान : सुरा आहज़ब 33/70-71)

“रहमान के वो बंदे जो ज़मीन पर आहिस्ता चलते हैं और जब जाहिल उनसे बात करते हैं तो कहते हैं बस सलाम!”
(क़ुरान सुरा फुरकान 25/63)
अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये आमीन...

Meri baatchit kaisi honi chahiye ?

Meri baatchit kaisi honi chahiye ?

“Mere bando se keh do ki baat wahi kahein jo achchi ho. Shaitan to unke beech uksakar (fuslakar) fasaad daalta rehta hai. Beshaq shaitan to insaan ka khula dushman hai.”
(Quran : Sura Isra 17/53)

“Tabahi hai uske liye jo logo  ke aib nikaale aur peeth peeche burai karey.”
(Quran : Sura Humaz 104/1)

Aur apni aawaz kuch past/dheemi kar, beshaq sab aawazo me buri aawaz gadhe ki hai.”
(Quran : Sura Lukman 31/19)

“A Imaan lane walo ! Allah ka dar rakho aur seedhi baat kaho, Allah tumhare aamal tumhare liye sanwaar dega (Decorate) aur tumhare gunah bakhsh dega.”
(Quran : Sura Ahzab 33/70-71)

“Rehman ke wo bandey jo zameen par aahista chaltey hain aur jab jaahil unse baat karte hain to kehte hain bas salaam!”
(Quran : Sura Furkan 25/63)





ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

Wednesday, 25 March 2015

क्या हमें अपने आपको सिर्फ़ मुसलमान कहना चाहिए.

क्या हमें अपने आपको सिर्फ़ मुसलमान कहना चाहिए.

"ए ईमान वालो अल्लाह से डरो जैसा की उससे डरने का हक़ है, और मरते दम तक मुस्लमान ही रहना."
क़ुरान (सुराह  आले इमरान 3/102)

आज मुसलमान फिरको और जमातों में बट गये और अपनी-अपनी जमातों के नामो से पहचाने जाते है
जबकी हमें अपने आप को (मुस्लमान) कहना चाहिए क़ुरान मे अल्लाह ने कहा अपने आप को (मुस्लमान) कहो
हम आपस के इक्तिलाफ को ख़त्म करे जैसा की अल्लाह ने कहा.


"आओ उस बात की तरफ जो हममें तुममें एक़्सा है, हम अल्लाह के सिवा किसी की इबादत ना करे उसके साथ किसी को शरीक ना करे पस अगर वो मुँह फेर ले तो कह्दो के तुम गवाह रहो हम तो (मुस्लमान) है"
क़ुरान (सुराह  इमरान 3/64)

और अच्छी बात बताने वाला बुरे कामों से रोकने वाला वो कौन है जैसा की अल्लाह ने कहा अपनी किताब मे.

"और उससे ज़्यादा अच्छी बात वाला कौन है जो अल्लाह की तरफ बुलाए और नेक काम करे और कहे के में यक़ीनन (मुस्लमानो) में से हूँ "
क़ुरान (सुराह  फुसिलत 41/33)

इसलिए हमें अपने आपको (मुस्लमान) कहना चाहिए (मुस्लमान) का माना है (फरमाबरदार) किसका अल्लाह और उसके रसूल सल्ल. का
हमें वो बात माननी चाहिए जो अल्लाह ने क़ुरान मे हुक़म दिया और हमारे प्यारे नबी सल्ल. ने हदीस मे इरशाद फरमाया तब ही हम कामयाब (मुस्लमान) बन सकते है.

अल्लाह से हम दुआ करे जैसा की अल्लाह ने हमें सिखाया.

ए अल्लाह मेरे इल्म मैं इज़ाफा अता फरमा. وقُلْ ربِّ زِدْنِي عِلْما
क़ुरान (सुराह  ता.हा.20/114)

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये आमीन...
आगे पहुचाए अपने कानटेक्ट और ग्रुप पर इंशा अल्लाह

KYA HAMEN APNE APKO SIRF MUSLMAN KAHNA CHAHIYE.

KYA HAMEN APNE APKO SIRF MUSLMAN KAHNA CHAHIYE.


"A Iman walo allah se daro jesa ki usse darne ka haq hai, Aur marte dam tak MUSLMAN hi rahna."
Quran (Surah ale imran 3/102)

Aaj muslman firko aur jamaton me bat gaye aur apni-apni jamaton ke naamo se pahchane jate hai, jabki hamen apne aap ko (MUSLMAN) kahna Chahiye Quran me Allaah ne kaha apne aap ko (MUSLMAN) kaho,
Hum apas ke iktilaaf ko khatm kare jaisa ki Allah ne kaha

.
"Aao us bat ki taraf jo hammen tummen eksa hai, ham Allah ke siwa kisi ki Ibadat na kare Uske sath kisi ko sharik na kare pas agar wo munh pher le to kahdo ke tum gawah raho ham to (MUSLMAN) hai"
Quran (Surah Imran 3/64)

Aur Achchi bat batane wala bure kamon se rokane wala wo koun hai jaisa ki Allah ne kaha apni kitab me.

"Aur Usse jyada achchi bat wala koun hai jo Allah ki taraf bulaye aur nek kam kare aur kahe ke men yakinan (MUSLMANO) men se hun"
Quran (Surah Fusilat 41/33)

Isliye hamen apne apko (MUSLMAN) kahna chahiye (MUSLAMN) ka mana he (FARMABARDAR) kiska Allah aur uske RASOOL SAW. ka,
hamen wo baat manni chahiye jo Allah ne quran me Huqm diya aur hamare pyare nabi saw. ne hadees me irshad farmayq tab hi hum kamyab (MUSLMAN) ban sakte hai.

Allah se hum DUA kare jaisa ki ALLAH ne hamen sikhaya.

وقُلْ ربِّ زِدْنِي عِلْماً  A Allah mere ilm men ijafa ata farma

Quran (Surah ta.ha.20/114)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......
Plz 4wrd To All Contacts And Grups. Insha Allah

क्या में वो कह सकता हूँ जो में ना करू ?

क्या में वो कह सकता हूँ जो में ना करू ?

“ए ईमान वालो ! तुम वो बात क्यो कहते हो जो करते नही ?
अल्लाह के यहाँ बहुत ना पसंद बात है की तुम वो बात कहो जो करते नही.”

क़ुरान (सुराह सफ़फ़ : 61/2-3)

“क्या तुम लोगो को तो नेकी और भलाई का पैगाम देते हो और खुद को भूल जाते हो, हालाकी तुम किताब भी पढ़ते हो ? फिर क्या तुम अक्‍ल (दिमाग़/माइंड) से काम नही लेते ?”
(क़ुरान : सुरा बक़रा 2/44)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN.....
आगे पहुचाए अपने कानटेक्ट और ग्रुप पर इंशा अल्लाह

Kya Mein Wo Kah Sakta Hoon Jo Mein Na Karu ?

Kya Mein Wo Kah Sakta Hoon Jo Mein Na Karu ?

“Ay Imaan walo ! tum wo baat kyo kehte ho jo karte nahi ?
Allah ke yaha bahut na pasand baat hai ki tum wo baat kaho jo karte nahi.”

Quran (Surah Saff :  61/2-3)

“Kya tum logo ko to neki aur bhalai ka paigam dete ho aur khud ko bhool jaate ho, halaki tum kitab bhi padhte ho ? Fir kya tum akl(Dimag/mind) se kaam nahi lete ?”
Quran (Surah Baqra : 2/44)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN......
Plz 4wrd To All Contacts And Grups. Insha Allah

Mujhe Logo Se Kaisa Salook Rakhna Chahiye. ?

Mujhe logo se kaisa salook rakhna chahiye. ?

"Aur jo shakhs sabar karle aur maaf ker de yaqeenan yeh badi himmat kay kamon mein say (aik kaam) hai.
Quran  ( Surah Shura : 42/43)

“Aap dar guzar ko ikhtiyar kare nek kaam ki taleem den aur jahilon say aik kinara hojayen.
Quran ( Surah Aaraf : 7/199)

“Neki aur bdi barabar nahi hoti. Buraee say bhalai ko dafa kero phir wohi jiske aur tumharay darmiyan dushmani hai aisa hojayega jaisay dili dost. Aur yeh baat unhin ko naseeb hoti hai jo sabr kare aur ise siwaye bade naseeb walon kay koi nahi paa sakta.
Quran (Surah Fusilat : 41/34-35)

“Hamne to aasamano aur zameeno ko aur jo kuch unke beech hai bamaksad paida kiya hai. Aur wo kiyamat ki ghadi beshk aane wali hai. Isliye tum achche darguzar se kaam lo.”
Quran (Surah Hijr : 15/85)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN......
Plz 4wrd To All Contacts And Grups. Insha Allah

में दीन (इस्लाम) में कैसे कामयाबी हासिल कर सकता हूँ. ?

में दीन (इस्लाम) में कैसे कामयाबी हासिल कर सकता हूँ. ?

“और जो कोई अल्लाह और उसके रसूल का हुक्म को माने और अल्लाह से डरे और उसकी बताई हद (लिमिट्स) का ख्याल रखे, तो ऐसे ही लोग कामयाब हैं.”
क़ुरान ( सुराह नूर  24/52)

“कामयाब हो गया वो जिसने अपने आप को निखार लिया, और अपने रब का नाम लिया और नमाज़ अदा की.”
क़ुरान (सुराह आला 87/14-15)

“कामयाब हो गया वो जिसने उसे (यानी अपनी रूह और शख्सियत को) सावरा (डेवेलप) किया, और नाकाम हुआ वो जिसने उसे बिगाड़ दिया.”
क़ुरान ( सुराह शम्स 91/9-10)

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये अमीन
आगे पहुचाए अपने कानटेक्ट और ग्रुप पर इंशा अल्लाह

Main Din (Islam) Men Kaise Kamyabi Hasil Kar Sakta Hoon. ?

Mein din (Islam) men kaise kamyabi hasil kar sakta hoon. ?

 “Aur jo koi Allah aur uske Rasool k hukm ko mane aur Allah se darey aur uski batai hadd (Limits) ka khayal rakhe, to aise hi log kaamyab hain.”
Quran (Surah Noor 24:52)

“Kamyab ho gaya wo jisne apne aap ko nikhar liya, aur apne Rab ka naam liya aur namaaz Adaa ki.”
Quran ( Surah Aala 87:14-15)
“Kamyab ho gaya wo jisne use (yaani apni rooh aur shakhsiyat ko) sawara (Develop) kiya, aur naakam hua wo jisne usey bigad diya.”
Quran ( Surah Shams 91:9-10)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN......
Plz 4wrd To All Contacts And Grups. Insha Allah

क्या अल्लाह मेरा इम्तिहान लेता है ?

क्या अल्लाह मेरा इम्तिहान लेता है ?
“और हम (अल्लाह) बेशक कुछ डर से, और कुछ  भूख से और कुछ जान-माल से और पैदावार की कमी से,
तुम्हारा इम्तिहान लेंगे. और सब्र से काम लेने वालो को खुशख़बरी सुना दो.”

(क़ुरान : सुरा बक़रा 2/155)

"ज़मीन को हमने खुशनुमा बनाया ताकि अजमाले (इम्तिहान) कौन नेक आमाल करके आता है.
(क़ुरान : सुरा कहफ़ 18/7)

"हर जानदार मौत का मज़ा चखने वाला है हम बटोरे इम्तिहान तुम मे से हर एक को बुराई और बलैई मे डालते है, और तुम सब हमारी ही तरफ लोटने वेल है. (ताकि देखे कों सब्र और शुक्र करने वाला है)
(क़ुरान : सुरा अंबिया 21/35)

“जिसने तय किया मौत और ज़िंदगी को ताकि तुम्हारा इम्तिहान ले के तुम’मे आमाल के नज़र मे कौन सबसे अच्छा है, वो बड़ी हिकमत वाला और बड़ा माफ़ करने वाला है.”
(क़ुरान : सुरा मुल्क 67/2)

अल्लाह हमे हक़ बात समझने की तोफीक अता फरमाये अमीन
आगे पहुचाए अपने कानटेक्ट और ग्रुप पर इंशा अल्लाह

Kya Allah Mera Imtihaan Leta Hai ?

Kya Allah Mera Imtihaan Leta Hai ?

“Aur hum (ALLAH) Beshaq kuch dar se, aur kuch  bhookh se aur kuch jaan-maal se aur paidawar ki kami se, tumhara imtihaan lenge. Aur sabr se kaam lene walo ko khushkhabri suna do.”
(Quran : Sura Baqra 2/155)

"Jamin ko hamne khushnuma banaya taki ajmale (Imtihan) koun nek aamal karke ata hai.
(Quran : Sura Kahaf 18/7)

"Har jandar mout ka maza chakhne wala hai ham batore imtihan tum me se har ek ko burai aur bhlai me dalte hai, aur tum sab hamari hi taraf lotne wale hai. (taki dekhe kon sabr aur shukr karne wala hai)
(Quran : Sura Ambiya 21/35)

“Jisne tay kiya maut aur zindagi ko taaki tumhara imtihaan le k tum’me aamal ke nazar me kaun sabse achcha hai, wo badi hikmat wala aur bada maaf karne wala hai.”
(Quran : Sura Mulk 67/2)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AMIN......
Plz 4wrd To All Contacts And Grups. Insha Allah

Tuesday, 10 March 2015

आसान नमाज़ अरबी हिंदी लिपि (दो रकात नौ मुस्लिम के लिये )

आसान  नमाज़ (दो रकात ) अरबी हिंदी लिपि 

अल्लाहु अकबर ( कहकर  दोनों हाथ बांध ले  )

(ये पढ़े ) सुब्हा न कल्लाहुमा वबिहम्दिका व् तबरकसमुका व् तआला जददूका वला इलाह गैरुका० 
अउजबिल्लाह मिनश शैतान निराजीम० 
बिस्मिल्लाह हिर्रहमान निरराहिंम०

अल्हम्दु लिल्लाहि रब्बिल आलमीन ० 
अर्रहमान निर्रहीम ० 
मलिकी यौमिद्दीन ० 
इय्या क नअ बुदु व् इय्या क नस्तईन ० 
इहदिनससिरातल मुस्तकीम ० 
सिरातल्लजी न अन्अम त अलैहिम ०  
गैरिल मग्जूबि अलैहिम व् लज्जालीन ० (((आमीन )))

 अल्लाहु अकबर (कहकर रूकूअ में यानि झुककर दोनों हाथ घुटनो पर रखे )
(ये पढ़े ) सुब्हा न रब्बियल अज़ीम ० (३ बार )

 रूकूअ से खड़े होने की दुआ (सीधे खड़े हो कर )
(ये पढ़े ) समिअल्लाहु लिमन हमिदह ० 


अल्लाहु अकबर (कहकर सज्दे में यानि हाथ, सिर, नाक जमीन पर टिका दे )
(ये पढ़े ) सुब्हा न रब्बियल अअला ० (३ बार )

अल्लाहु अकबर (कहकर दोनों पैरो पर कुलहो के बल बैठ जाये )
(ये पढ़े ) रब्बिग्फिर्ली, रब्बिग्फिर्ली० 

अल्लाहु अकबर (कहकर सज्दे में यानि हाथ, सिर, नाक जमीन पर टिका दे )
(ये पढ़े ) सुब्हा न रब्बियल अअला ० (३ बार )

दूसरी रकात के लिये
अल्लाहु अकबर (कहकर सीधे खड़े होकर हाथ बांध ले )
(ये पढ़े ) जैसा ऊपर बताया गया (अल्हम्दु) से लेकर (आमीन) तक पढ़े दूसरी रकात पूरी करे

तशहहुद (यानि दोनों पैरो पर कुलहो के बल बैठ कर दोनों हाथ घुठनों के ऊपर रख ले )
 (ये पढ़े ) अत्तहिय्यातु लिल्लाही वस्स ल वातु वत् तय्यबातु अस्सलामु अलै क अय्युहन्नबिय्यु  व रहमतुल्लाहि व ब रकातुहु अस्सलामु अलैना व अला इबादिल्लाहिस सालिहीन
अश्हदु अल्ला इला ह इलल्लाहु व अश्हदु अन्न मुहम्मदन अब्दुहू व् रसूलुहू ० 

(फिर ये दुरुद पढ़े ) अल्लाहुम म सल्लि अला मुहम्मदिवं व् अला आलि मुहम्मदिन 
कमा सल्लै त अला इब्राही म व अला आलि इब्राही म इन्न क हमिदुम मज़ीद ० 
अल्लाहुम म बारिक अला मुहम्मदिवं व अला आलि मुहम्मदिन
कमा बारक त अला इब्राही म व अला आलि इब्राही म इन्न क हमिदुम मज़ीद ० 

(फिर ये दुआ पढ़े ) अल्लाहुम्मा रब्बना अतैना फ़िदुनिया हसनतवं  फिल आख़िरत हसनतवं व किन्न अज़ाबन्नार ०

(फिर सलाम फेर दे यानि सीधे कंधे की तरफ चेहरा करे )
 (ये पढ़े ) अस्सलामु  अलैकुम व रहमतुल्लाह
(फिर उल्टे कंधे की तरफ चेहरा करे)
 (ये पढ़े ) अस्सलामु  अलैकुम व रहमतुल्लाह 

 (ये पढ़े )  अल्लाहु अकबर (१ बार  जोर से कहे )
 (ये पढ़े ) अस्तग्फिरुल्लाह  (३ बार )

आप की  नमाज मुक्कमल हुई (इंशा अल्लाह )
((( जज़ाक अल्लाह )))