Thursday, 26 November 2015

ALLAH KO ISLAM KE ALAWA KOI DIN KABUL NAHI.

अल्लाह को इस्लाम के अलावा कोई दिन काबुल नही.


 IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
Aaj mein ney tumharay liye deen ko kaamil(Pura) ker diya aur tum per apna inam bharpoor ker diya, aur tumharay liye islam kay deen honey per raza mand ho gaya.
Quran (Surah Maeeda 5/3)

Jo Islam ke alawa koi aur DEEN talab karega to uski taraf se kuch bhi qabool nahi kiya jayega. Aur aakhirat me wo nuksan uthane walo me se hoga.
Quran (Surah Imran 3/85)

DEEN (Maz’hab) to ALLAH ki nazar me ISLAM hi hai. Jinhein qitaab di gai hai, unhone to isme iske baad ikhtelaaf kiya ki Ilm unke paas aa chuka tha. Aisa unhone aapas me burey rawaiye ki wajah se kiya. Jo ALLAH ki aayato ka inkar karega to ALLAH bhi jald hi hisab lene wala hai.
Quran (Surah Imran 3/19)

आज मेने तुम्हारे लिए दीन को कामिल (पूरा) कर दिया और तुम पर अपना इनाम भरपूर कर दिया, और तुम्हारे लिए इस्लाम के दीन होने पर रज़ा मंद हो गया.
क़ुरान (सुराह माइदा 5/3)

जो इस्लाम के अलावा कोई और दीन तलब करेगा तो उसकी तरफ से कुछ भी क़बूल नही किया जाएगा. और आख़िरत मे वो नुकसान उठाने वालो मे से होगा.
क़ुरान (सुराह इमरान 3/85)

दीन (मॅजहब) तो अल्लाह की नज़र मे इस्लाम ही है. जिन्हें क़िताब दी गई है, उन्होने तो इसमे इसके बाद इख्तेलाफ किया की इल्म उनके पास आ चुका था. ऐसा उन्होने आपस मे बुरे रवैये के वजह से किया. जो अल्लाह की आयतो का इन्कार करेगा तो अल्लाह भी जल्द ही हिसाब लेने वाला है.”
क़ुरान (सुराह इमरान 3/19)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE (AAMIN)

No comments:

Post a Comment

For any query call+919303085901