Thursday, 18 August 2016

ASHRA JILHIJJA MEN ROZA (10 DIN ALLAH KI IBADAT)


अशरा जिलहिज़्जा में रोज़ा (10 दिन अल्लाह की इबादत)


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI
Aur log malum ke dino men Allah ki ibadat kare.
Quran (Sura Haj 22/28)

FARMANE NABVI HAI.

Koi din aise nahi hai jin men amal karna Allah ke nazdik in 10 dino se jyada afjal aur mehbob ho,
isliye in men kasrat se jyada se jyada jikr kiya karo

Hadees (Musnad Ahmad 2/75)

Arfa ke din (Yani 9 Jul Hijja) ka ROZA do sal ke gunah mita deta hai, Ek pichle sal ke aur ek aane wale sal ke.

Hadees (Sahih Muslim : 1162)

IN 10 DINO KE ANDAR KASRAT SE ALLAH TA'ALA KA JIKR KARE AUR ARFA KA ROZA RAKHE JO KI DO SAL KE GUNAH KA KFFARA HAI
NABI KARIM SAW. 01 TARIKH SE 9 TARIKH TAK ROZE RAKHA KARTE THE 9 ARFA KA ROZA RAKHNA SABSE AFZAL HAI.


इरशादे बारी त'आला है

और लोग मालूम के दिनो में अल्लाह की इबादत करे.
क़ुरान (सुराह हज 22/28)

फरमाने नब्वी है.
कोई दिन ऐसे नही है जिन में अमल करना अल्लाह के नज़दीक इन 10 दिनो से ज़्यादा अफ़ज़ल और पसन्द हो,
इसलिए इन में कसरत से ज़्यादा से ज़्यादा ज़िक्र किया करो

हदीस (मुसनद अहमद 2/75)

अराफ़ा के दिन (यानी 9 जुल हिज्जा) का रोज़ा दो साल के गुनाह मिटा देता है, एक पिछले साल के और एक आने वाले साल के.
हदीस (सही'ह मुस्लिम : 1162)

इन 10 दीनो के अंदर कसरत से अल्लाह त'आला का ज़िक्र करे और आरफ़ा का रोज़ा रखे जो की दो साल के गुनाह का कफ़्फारा है
नबी करीम सल्ल. 01 तारीख से 9 तारीख तक रोज़ रखा करते थे 9 आरफ़ा का रोज़ा रखना सबसे अफ़ज़ल है.


ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

No comments:

Post a Comment

For any query call+919303085901