Thursday, 18 August 2016

QURBANI KA MAKSAD

क़ुर्बानी का मकसद...


Qurbani ka maksad ye nahi hai ke Allah ko Janvar ka khun ya gost pahuchta hai
Allah ko ye chije nahi pahuchti Allah ko inki jarurat bhi nahi hai
kyuki wo dene wala hai lene wala nahi
Allah ne iski wajhat khud apni kitab quran men ki


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI

Hargiz nahi pahuchta Allah ko Tumhare qurbaniyo ka gost aur na hi khun balki
isse tumhare dil ka taqwa (Parhejgari)aur niyat pahuchti hai,
Is tarah Allah ne un janvaro ko tumhara mussakhar kar diya taki tum uske shukr me
hamd bayan karo aur nek logo ko khushkhbari suna do.
Quran (Sura hajj 22/37)

Qurbani Maksad Allah ka qurb (Yani Karibi,Nazdiki) Hasil Karna hai.


क़ुर्बानी का मकसद ये नही है के अल्लाह को जानवर का खून या गोस्त पहुचता है
अल्लाह को ये चीज़े नही पहुचती अल्लाह को इनकी ज़रूरत भी नही है
क्यूकी वो देने वाला है लेने वाला नही
अल्लाह ने इसकी वजाहत खुद अपनी किताब क़ुरान में की


इरशादे बारी त'आला है
हरगिज़ नही पहुचता अल्लाह को तुम्हारे क़ुर्बानियो का गोस्त और ना ही खून बल्कि
इससे तुम्हारे दिल का तक़वा (परहेजगारी)और नीयत पहुचती है,
इस तरह अल्लाह ने उन जनवरो को तुम्हारा मुस्सखर कर दिया ताकि तुम उसके शुक्र मे
हम्द बयान करो और नेक लोगो को खुशख़बरी सुना दो.

क़ुरान (सुरा हज्ज 22/37)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE AAMIN......

No comments:

Post a Comment

For any query call+919303085901