Wednesday, 8 February 2017

KAH DIJIYE APNI DALIL LAO AGAR TUM SACHCHE HO.

कह दीजिए अपनी दलील लाओ अगर तुम सच्चे हो.

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
اَمَّنْ خَلَقَ السَّمٰوٰتِ وَالْاَرْضَ وَاَنْزَلَ لَكُمْ مِّنَ السَّمَاۗءِ مَاۗءً  ۚ فَاَنْۢبَتْنَا بِهٖ حَدَاۗىِٕقَ ذَاتَ بَهْجَةٍ  ۚ مَا كَانَ لَكُمْ اَنْ تُنْۢبِتُوْا شَجَـرَهَا  ۭ ءَاِلٰهٌ مَّعَ اللّٰهِ  ۭ بَلْ هُمْ قَوْمٌ يَّعْدِلُوْنَ   60۝ۭ
اَمَّنْ جَعَلَ الْاَرْضَ قَرَارًا وَّجَعَلَ خِلٰلَهَآ اَنْهٰرًا وَّجَعَلَ لَهَا رَوَاسِيَ وَجَعَلَ بَيْنَ الْبَحْرَيْنِ حَاجِزًا  ۭءَ اِلٰهٌ مَّعَ اللّٰهِ  ۭ بَلْ اَكْثَرُهُمْ لَا يَعْلَمُوْنَ    61۝ۭ
اَمَّنْ يُّجِيْبُ الْمُضْطَرَّ اِذَا دَعَاهُ وَيَكْشِفُ السُّوْۗءَ وَيَجْعَلُكُمْ خُلَـفَاۗءَ الْاَرْضِ ۭءَاِلٰهٌ مَّعَ اللّٰهِ ۭ قَلِيْلًا مَّا تَذَكَّرُوْنَ   62۝ۭ
اَمَّنْ يَّهْدِيْكُمْ فِيْ ظُلُمٰتِ الْبَرِّ وَالْبَحْرِ وَمَنْ يُّرْسِلُ الرِّيٰحَ بُشْرًۢا بَيْنَ يَدَيْ رَحْمَتِهٖ  ۭ ءَاِلٰهٌ مَّعَ اللّٰهِ  ۭ تَعٰلَى اللّٰهُ عَمَّا يُشْرِكُوْنَ  ۝ 63.
اَمَّنْ يَّبْدَؤُا الْخَلْقَ ثُمَّ يُعِيْدُهٗ وَمَنْ يَّرْزُقُكُمْ مِّنَ السَّمَاۗءِ وَالْاَرْضِ  ۭ ءَاِلٰهٌ مَّعَ اللّٰهِ  ۭ قُلْ هَاتُوْا بُرْهَانَكُمْ اِنْ كُنْتُمْ صٰدِقِيْنَ   .64؀
قُلْ لَّا يَعْلَمُ مَنْ فِي السَّمٰوٰتِ وَالْاَرْضِ الْغَيْبَ اِلَّا اللّٰهُ  ۭ وَمَا يَشْعُرُوْنَ اَيَّانَ يُبْعَثُوْنَ   65؀
"Bhala batao? Kisne jamin aur aasman banaye aur tumhare liye aasman se pani utara phir  ham ne us se rounak wale baag lagaye tumhara kaam na tha ki un ke ped ugaate kya ALLAH ke sath koi aur bhi mabud hai balki ye log bhatke huye hai.
Bhala jamin ko thahrane ki jagah kis ne banaya aur us men nadiya jari ki aur jamin ke langar (pahaad) banaye aur do dariyao men parda rakha (Yani mitha aur khara pani alag kiya) Kya ALLAH ke sath koi aur bhi mabud hai balki aksar un men samajh nahi rakhte.
Bhala koun hai jo dua karne wale ki dua kabool karta hai aur burai ko door karta hai aur tumhe jamin men nayab banata hai Kya ALLAH ke sath koi aur mabud bhi hai? tum bahut hi kam samajhte ho.
Bhala koun hai jo tumhe jangal aur dariya ke andhero men rasta batata hai aur apni rahmat se pahle koun khush khabri ki hawaye chalata hai, kya ALLAH ke sath aur koi mabud hai? ALLAH Ta'ala un ke shirk karne se bahut buland hai.
Bhala koun hai jo dobara khilkat ko paida karta hai phir use dobara banayega aur koun hai jo tumhe aasmaan aur jamin se rozi deta hai kya ALLAH ke sath koi aur mabud hai? KAH DIJIYE APNI DALIL LAO AGAR TUM SACHCHE HO.
Kah do ALLAH ke siwa aasmano aur jamin men koi bhi gaib ki baat nahi janta aur unhe to us ki bhi khabar nahi ki wo kab uthaye jayege"
QURAN (Surah Namal 27/60-65)

 
इरशादे बारी त'आला है.
"भला बताओ किसने ज़मीन और आसमान बनाए और तुम्हारे लिए आसमान से पानी उतारा फिर  हम ने उस से रौनक वाले बाग लगाए तुम्हारा काम ना था की उन के पेड़ उगाते क्या अल्लाह के साथ कोई और भी माबूद है बल्कि ये लोग भटके हुए है.
भला ज़मीन को ठहरने की जगह किस ने बनाया और उस में नदिया जारी की और ज़मीन के लंगर (पहाड़) बनाए और दो दरियाओ में परदा रखा (यानी मीठा और खारा पानी अलग किया) क्या अल्लाह के साथ कोई और भी माबूद है? बल्कि अक्सर उन में समझ नही रखते.
भला कौन है जो दुआ करने वाले की दुआ कबूल करता है और बुराई को दूर करता है और तुम्हे ज़मीन में नायाब बनाता है क्या अल्लाह के साथ कोई और माबूद भी है? तुम बहुत ही कम समझते हो.
भला कौन है जो तुम्हे जंगल और दरिया के अंधेरो में रास्ता बताता है और अपनी रहमत से पहले कौन खुश खबरी की हवाए चलाता है, क्या अल्लाह के साथ और कोई माबूद है? अल्लाह त'आला उन के शिर्क करने से बहुत बुलंद है.
भला कौन है जो दोबारा खिल्कत को पैदा करता है फिर उसे दोबारा बनाएगा और कौन है जो तुम्हे आसमान और ज़मीन से रोज़ी देता है क्या अल्लाह के साथ कोई और माबूद है? कह दीजिए अपनी दलील लाओ अगर तुम सच्चे हो
कह दो अल्लाह के सिवा आसमानो और ज़मीन में कोई भी गैब की बात नही जानता और उन्हे तो उस की भी खबर नही की वो कब उठाए जाएगे"
क़ुरान (सुराह नमाल 27/60-65)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

KYA TUM SOCHTE NAHI.

क्या तुम सोचते नही.

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
اَفَمَنْ يَّخْلُقُ كَمَنْ لَّا يَخْلُقُ ۭ اَفَلَا تَذَكَّرُوْنَ 
وَاِنْ تَعُدُّوْا نِعْمَةَ اللّٰهِ لَا تُحْصُوْهَا  ۭ اِنَّ اللّٰهَ لَغَفُوْرٌ رَّحِيْمٌ 
وَاللّٰهُ يَعْلَمُ مَا تُسِرُّوْنَ وَمَا تُعْلِنُوْنَ      
وَالَّذِيْنَ يَدْعُوْنَ مِنْ دُوْنِ اللّٰهِ لَا يَخْلُقُوْنَ شَيْـــًٔـا وَّهُمْ يُخْلَقُوْنَ     
0اَمْوَاتٌ غَيْرُ اَحْيَاۗءٍ  ۚ وَمَا يَشْعُرُوْنَ  ۙ اَيَّانَ يُبْعَثُوْنَ     
Phir kya jo paida kare us ke barabar hai jo kuch bhi paida na kare KYA TUM SOCHTE NAHI.
Aur agar tum ALLAH ki neamato ko ginna chaho to gin nahi sakte Beshak ALLAH bakhshane wala mehrban hai.
Aur ALLAH janta hai jo tum chupate ho aur jo tum jahir karte ho.
Aur jinhe ALLAH ke siwa pukarte ho we kuch bhi paida nahi kar sakte aur we khud paida kiye huye hai.
Wo to murde hai jin men jaan nahi hai aur wo to ye bhi nahi jante ki we kab uthaye jayege.

QURAN (Surah Nahal 16/17-21)


इरशादे बारी त'आला है.
फिर क्या जो पैदा करे उस के बराबर है जो कुछ भी पैदा ना करे क्या तुम सोचते नही.
और अगर तुम अल्लाह की नेअमतो को गिनना चाहो तो गिन नही सकते बेशक अल्लाह बख्शने वाला मेहरबान है.
और अल्लाह जनता है जो तुम छुपाते हो और जो तुम जाहिर करते हो.
और जिन्हे अल्लाह के सिवा पुकारते हो वे कुछ भी पैदा नही कर सकते और वे खुद पैदा किए हुए है.
वो तो मुर्दे है जिन में जान नही है और वो तो ये भी नही जानते की वे कब उठाए जाएगे.

क़ुरान (सुराह नहल 16/17-21)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

KYA ALLAH NE KAHA MERE ALAWA AUR MABOOD KARAR DELO .

क्या अल्लाह ने कहा मेरे अलावा और माबूद करार देलो .


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
 وَاِذْ قَالَ اللّٰهُ يٰعِيْسَى ابْنَ مَرْيَمَ ءَاَنْتَ قُلْتَ لِلنَّاسِ اتَّخِذُوْنِيْ وَاُمِّيَ اِلٰــهَيْنِ مِنْ دُوْنِ اللّٰهِ ۭ قَالَ سُبْحٰنَكَ مَا يَكُوْنُ لِيْٓ اَنْ اَقُوْلَ مَا لَيْسَ لِيْ ۤ بِحَقٍّ  ڲ اِنْ كُنْتُ قُلْتُهٗ فَقَدْ عَلِمْتَهٗ  ۭ تَعْلَمُ مَا فِيْ نَفْسِيْ وَلَآ اَعْلَمُ مَا فِيْ نَفْسِكَ ۭاِنَّكَ اَنْتَ عَلَّامُ الْغُيُوْبِ
Aur jab ALLAH kahega ai isa ibne maryam! Kya tune logo se kaha tha ki ALLAH ke siwa mujhe aur meri maa ko mabood bana lo? to we jawab dege ki "SUBHAN ALLAH"! mera yah kaam na tha ki wah baat kahta jis ke kahne ka mujhe hak na tha. agar meine aisi baat kahi hoti to aap ko jarur ilm hota. aap jante hai jo kuch mere dil men hai
مَا قُلْتُ لَهُمْ اِلَّا مَآ اَمَرْتَنِيْ بِهٖٓ اَنِ اعْبُدُوا اللّٰهَ رَبِّيْ وَرَبَّكُمْ ۚ وَكُنْتُ عَلَيْهِمْ شَهِيْدًا مَّا دُمْتُ فِيْهِمْ ۚ فَلَمَّا تَوَفَّيْتَنِيْ كُنْتَ اَنْتَ الرَّقِيْبَ عَلَيْهِمْ  ۭواَنْتَ عَلٰي كُلِّ شَيْءٍ شَهِيْدٌ
aur men nahi janta jo kuch aap ke dil men hai. aap sari chupi hakikato ke janane wale hai. maine un se is ke siwa kuch nahi kaha jis ka aap ne mujhe hukm diya tha, yah ki ALLAH ki ibadat karo jo mera bhi rab hai aur tumhara bhi.QURAN (Surah Maida 5/116-117)



इरशादे बारी त'आला है.
और जब अल्लाह कहेगा ऐ ईसा इब्ने मरयम! क्या तूने लोगो से कहा था की अल्लाह के सिवा मुझे और मेरी माँ को माबूद बना लो? तो वे जवाब देगे की "सूबहान अल्लाह"! मेरा यह काम ना था की वह बात कहता जिस के कहने का मुझे हक ना था. अगर मेने ऐसी बात कही होती तो आप को ज़रूर इल्म होता. आप जानते है जो कुछ मेरे दिल में है
और में नही जनता जो कुछ आप के दिल में है. आप सारी छुपी हक़ीकतो के जानने वाले है. मैने उन से इस के सिवा कुछ नही कहा जिस का आप ने मुझे हुक्म दिया था, यह की अल्लाह की इबादत करो जो मेरा भी रब है और तुम्हारा भी.क़ुरान (सुराह मईदा 5/116-117)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

ALLAH KA AZAB DARNE KI CHIJ HAI.


अल्लाह का अज़ाब डरने की चीज़ है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
اُولٰۗىِٕكَ الَّذِيْنَ يَدْعُوْنَ يَبْتَغُوْنَ اِلٰى رَبِّهِمُ الْوَسِـيْلَةَ اَيُّهُمْ اَقْرَبُ وَيَرْجُوْنَ رَحْمَتَهٗ وَيَخَافُوْنَ عَذَابَهٗ  ۭ اِنَّ عَذَابَ رَبِّكَ كَانَ مَحْذُوْرًا قُلِ ادْعُوا الَّذِيْنَ زَعَمْتُمْ مِّنْ دُوْنِهٖ فَلَا يَمْلِكُوْنَ كَشْفَ الضُّرِّ عَنْكُمْ وَلَا تَحْوِيْلًا 
Kah dijiye ke ALLAH ke siwa jinhe tum mabood samajh rahe ho unhe pukaro lekin na to wo tum se kisi taklif ko door kar sakte hai aur na badal sakte hai.
Jinhe ye log pukarate hai wo khud apne rab ki nazdiki ki koshish men lage rahte hai ke un men se koun jyada nazdik ho jaye wo khud us ki rahmat ki ummid rakhte aue us ke azab se khoufjda rahte hai
(Baat bhi yahi hai) ke tere rab ka azab darne ki chij hai.

QURAN (Surah Isra 17/56-57)


इरशादे बारी त'आला है.
कह दीजिए के अल्लाह के सिवा जिन्हे तुम माबूद समझ रहे हो उन्हे पुकारो लेकिन ना तो वो तुम से किसी तकलीफ़ को दूर कर सकते है और ना बदल सकते है.
जिन्हे ये लोग पुकारते है वो खुद अपने रब की नज़दीकी की कोशिश में लगे रहते है के उन में से कौन ज़्यादा नज़दीक हो जाए वो खुद उस की रहमत की उम्मीद रखते हुए उस के अज़ाब से ख़ौफजदा रहते है
(बात भी यही है) के तेरे रब का अज़ाब डरने की चीज़ है.
क़ुरान (सुराह इसरा 17/56-57)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

DOBARA UTHAYE JANE PAR IMAAN.


दोबारा उठाए जाने पर ईमान.


Yani marne ke baad dobara uthaye ka din wo hoga jis din sur funka jayega aur hisab aur kitab ke liye sari kayanaat ko ek maidan men jama kar liya jayega aur kitab aur sunnat ke bare men imaan aur islam ke bare men pucha jayega.
IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
وَ يَوْمَ يُنْفَخُ فِي الصُّوْرِ فَفَزِعَ مَنْ فِي السَّمٰوٰتِ وَمَنْ فِي الْاَرْضِ اِلَّا مَنْ شَاۗءَ اللّٰهُ  ۭ وَكُلٌّ اَتَوْهُ دٰخِرِيْنَ    
Jis din sur funka jayega sab ke sab aasmano wale aur jamin wale ghabra uthege.
QURAN (Surah Namal 27/87)

وَنُفِخَ فِي الصُّوْرِ فَصَعِقَ مَنْ فِي السَّمٰوٰتِ وَمَنْ فِي الْاَرْضِ اِلَّا مَنْ شَاۗءَ اللّٰهُ ۭ ثُمَّ نُفِخَ فِيْهِ اُخْرٰى فَاِذَا هُمْ قِيَامٌ يَّنْظُرُوْنَ   
Aur sur funk diya jayega pas aasmano aur jamin wale sab behosh ho kar gir padege magar jise ALLAH chahe phir dobara sur funka jayega pas wo ek dam khade ho kar dekhane lag jayege.QURAN (Surah Zumar 39/68)

FARMANE NABVI HAI.
us roj suraj logo ke bahut karib ho jayega aur log apne-apne aamal ke hisab se apne pasine men dub jayege yahan tak ke kuch log gardano tka dube huye honge,HADEES (Sahi'h Targhib wa-al-Tarhib : 3587)


यानि मरने के बाद दोबारा उठाए जाने का दिन वो होगा जिस दिन सुर फूँका जाएगा और हिसाब और किताब के लिए सारी कायनात को एक मैदान में जमा कर लिया जाएगा और किताब और सुन्नत के बारे में ईमान और इस्लाम के बारे में पूछा जाएगा.
इरशादे बारी त'आला है.
जिस दिन सुर फूँका जाएगा सब के सब आसमानो वाले और ज़मीन वाले घबरा उठेगे.
क़ुरान (सुराह नम्ल 27/87)

और सुर फूँक दिया जाएगा पस आसमानो और ज़मीन वाले सब बेहोश हो कर गिर पड़ेंगे मगर जिसे अल्लाह चाहे फिर दोबारा सुर फूँका जाएगा पस वो एक दम खड़े हो कर देखने लग जाएगे.क़ुरान (सुराह जुमर 39/68)

फरमाने नब्वी है.
उस रोज सूरज लोगो के बहुत करीब हो जाएगा और लोग अपने-अपने आमाल के हिसाब से अपने पसीने में डूब जाएगे यहाँ तक के कुछ लोग गर्दनो तक डूबे हुए होंगे,हदीस (सही'ह तार्घिब वा-अल-तरहिब : 3587)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

HOZE KAUSAR PAR IMAAN.


होज़े कौसर पर ईमान.


Hoze kausar wo azeem hoz hai jo maidane mehshar men ALLAH ke RASOOL SAW. ko ata kiya jayega.

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
اِنَّآ اَعْطَيْنٰكَ الْكَوْثَرَ
AI NABI! Yakinan ham ne aap ko hoze kausar ata farmaya hai.
QURAN (Surah Kousar 108/1)

FARMANE NABVI HAI.
Is hoz ka pani dudh se jyada safed, shahad se jyada mitha aur kastur se jyada khushbudar hoga' Ye hoz bahut hi jyada bada hoga' Is ki lambai aur choudai barabar hogi' Us men mojud bartan ki tadad aasman ke taron jitani hogi aur jo bhi is se ek bar pani pi lega wo kabhi pyasa nahi hoga.HADEES (Sahi'h Bukhari : 6579)

Kitne hi khush nasib log hoge jo is hoz ka pani piyege (yahan ye baat yaad rahe ke bid'ati log is hoz ke pani se mahroom rahenge.) ye Kitne bad nasib log hoge.HADEES (Sahi'h Bukhari : 6576)


होज़े कौसर वो अज़ीम होज़ है जो मैदाने महशर में अल्लाह के रसूल सल्ल. को अता किया जाएगा.

इरशादे बारी त'आला है.
ऐ नबी! यक़ीनन हम ने आप को होज़े कौसर अता फरमाया है.
क़ुरान (सुराह कौसर 108/1)

फरमाने नब्वी है.
इस होज़ का पानी दूध से ज़्यादा सफेद, शहद से ज़्यादा मीठा और कस्तूर से ज़्यादा खुश्बुदार होगा' ये होज़ बहुत ही ज़्यादा बड़ा होगा' इस की लंबाई और चौड़ाई बराबर होगी' उस में मोजूद बर्तन की तादाद आसमान के तारों जितनी होगी और जो भी इस से एक बार पानी पी लेगा वो कभी प्यासा नही होगा.हदीस (सही'ह बुखारी : 6579)

कितने खुश नसीब लोग होगे जो इस होज़ का पानी पियेगे (यहाँ ये बात याद रहे के बिद'अती लोग इस होज़ के पानी से महरूम रहेंगे.) ये कितने बाद नसीब लोग होगे.हदीस (सही'ह बुखारी : 6576)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

MIZAN (TARAJU) PAR IMAAN.


मिज़ान (तराजू) पर ईमान.


Mizan (yani Taraju) Jo roje kayamat bando ke aamal tolne ke liye kayam kiya jayega us ke do palde honge jiska niki wala palda bhari hoga usko dayen hath men aamal nama diya jayega aur wo kamyab ho jayega
aur jiska gunah wala palda bhari hoga uske bayen hath men aamal nama diya jayega aur wo tabah wa barbad ho jayega is baat par pukhta imaan ho ki mizan men hamare aamalo ko tola jayega.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
وَنَضَعُ الْمَوَازِيْنَ الْقِسْطَ لِيَوْمِ الْقِيٰمَةِ فَلَا تُظْلَمُ نَفْسٌ شَـيْــــــًٔا  
Kayamat ke din ham thik-thik tolne wali taraju ko bich men la rakhege phir kisi par kuch bhi julm na kiya jayega.
QURAN (Surah Ambiyan 21/47)

FARMANE NABVI HAI.
Do kalme rahman ko mehboob hai jaban par halke magar mizan par bhari hai aur wo ye hai,
سبحان الله و بحمده   سبحان الله العظيم
(Subhaan Allaahi wa bihamdihi Subhan-Allaahil Azhim)
Pak hai ALLAH tamam tarif wala, Pak hai ALLAH badi azmat wala.

HADEES (Bukhari : 7563)


मिज़ान (यानी तराजू) जो रोज कयामत बन्दो के आमाल तोलने के लिए कायम किया जाएगा उस के दो पलड़े होंगे जिसका नेकी वाला पलड़ा भारी होगा उसको दाएँ हाथ में आमाल नामा दिया जाएगा और वो कामयाब हो जाएगा
और जिसका गुनाह वाला पलड़ा भारी होगा उसके बाएँ हाथ में आमाल नामा दिया जाएगा और वो तबाह व बर्बाद हो जाएगा इस बात पर पुख़्ता ईमान हो की मिज़ान में हमारे आमालो को तोला जाएगा.


इरशादे बारी त'आला है.

وَنَضَعُ الْمَوَازِيْنَ الْقِسْطَ لِيَوْمِ الْقِيٰمَةِ فَلَا تُظْلَمُ نَفْسٌ شَـيْــــــًٔا  
कयामत के दिन हम ठीक-ठीक तोलने वाली तराजू को बीच में ला रखेगे फिर किसी पर कुछ भी ज़ुल्म ना किया जाएगा.
क़ुरान (सुराह अंबिया 21/47)

फरमाने नब्वी है.
दो कलमे रहमान को महबूब है ज़बान पर हल्के मगर मिज़ान पर भारी है और वो ये है,

سبحان الله و بحمده   سبحان الله العظيم 

(सुब्ब हान अल्लाही व बिहम्दिहि सुब्ब हान-अल्लाहिल अज़िम)
पाक है अल्लाह तमाम तारीफ वाला, पाक है अल्लाह बड़ी अज्मत वाला.

हदीस (बुखारी : 7563)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

KABR AUR US KE BAAD KE HALAT PAR IMAAN.


कब्र और उस के बाद के हालात पर ईमान.


Awwal to is baat par imaan hona chahiye ke har insaan ko ALLAH ne kabr di hai chahe kisi ko dafan kiya ho, jala diya ho ya samundra men baha diya ho wagerah-wagerah'
jahan-jahan jiske jarrat mojud hai wo uski kabr hai.

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
ثُمَّ اَمَاتَهٗ فَاَقْبَرَهٗ 
Phir use (Yani Insaan Ko) mara aur use kabr di.
QURAN (Surah 80/21)

Aur imaan ye bhi hai ke kabr men sawal jawab hote hai.

FARMANE NABVI HAI.
2 Farishte (Munkar Aur Nakir) 3 sawal karte hai Tera din kya hai' Tera rab koun hai' aur wo aadami koun hai jo tum men bheja gaya tha ?HADEES (Bukhari : 3452)

Nek aadami ko kabr men ALLAH ki neamate hasil hoti hai yani use jannat ka libas pahana diya jata hai uske liye jannat ka bistar bichha diya jata hai
aur us ke liye jannat ki taraf ek darwaza khol diya jata hai' jabke badkar fazir shakhs ko kabr men azab hota hai use aag ka libas pahanaya jata hai
us ke liye aag ka bistar bichha diya jata hai aur us ke liye jahnnam ki taraf ek darwaza khol diya jata hai uski kabr ko tang kar diya jata hai yahan tak ki ek pasali dusari men ghus jati hai
aur us par ek andha aur behara farishta mukarar kar diya jata hai jiske paas aisa hathouda hota hai ke agar wo pahad par mara jaye to wo bhi reza-reza ho jaye
wo farishta use us ke sath azab deta hai aur ye silsila kayamat tak jari rahata hai.

HADEES (Abu Dawud : 4753)


अव्वल तो इस बात पर ईमान होना चाहिए के हर इंसान को अल्लाह ने कब्र दी है चाहे किसी को दफ़न किया हो, जला दिया हो या समुन्द्र में बहा दिया हो वगेराह-वगेराह'
जहाँ-जहाँ जिसके जर्रात मोजूद है वो उसकी कब्र है.

इरशादे बारी त'आला है.
फिर उसे (यानी इंसान को) मारा और उसे कब्र दी.
क़ुरान (सुराह 80/21)

और ईमान ये भी है के कब्र में सवाल जवाब होते है.

फरमाने नब्वी है.
2 फरिश्ते (मुनकर और नकिर) 3 सवाल करते है तेरा दिन क्या है' तेरा रब कौन है' और वो आदमी कौन है जो तुम में भेजा गया था ?
हदीस (बुखारी : 3452)

नेक आदमी को कब्र में अल्लाह की नेअमते हासिल होती है यानी उसे जन्नत का लिबास पहना दिया जाता है उसके लिए जन्नत का बिस्तर बिच्छा दिया जाता है
और उस के लिए जन्नत की तरफ एक दरवाज़ा खोल दिया जाता है' जबके बदकार फ़ाज़िर शख्स को कब्र में अज़ाब होता है उसे आग का लिबास पहनाया जाता है
उस के लिए आग का बिस्तर बिच्छा दिया जाता है और उस के लिए जह्न्नम की तरफ एक दरवाज़ा खोल दिया जाता है उसकी कब्र को तंग कर दिया जाता है यहाँ तक की एक पसली दूसरी में घुस जाती है
और उस पर एक अँधा और बेहरा फरिश्ता मुकर्र कर दिया जाता है जिसके पास ऐसा हथौड़ा होता है के अगर वो पहाड़ पर मारा जाए तो वो भी रेज़ा-रेज़ा हो जाए
वो फरिश्ता उसे उस के साथ अज़ाब देता है और ये सिलसिला कयामत तक जारी रहता है.
हदीस (अबू दाऊद : 4753)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

MOUT AUR US KE BAAD KI HALAT PAR IMAAN.


मौत और उस के बाद की हालात पर ईमान.


Mout aur uske baad ke tamam gaibi halat jin ka jikr kitab aur sunnat men huaa hai un par kamil imaan hona chahiye.
FARMANE NABVI HAI.
Mout ke waqt insan ko intihai sakht halat se gujarna padta hai
HADEES (Bukhari : 6510)

Mout ke waqt farishte hazir ho jate hai momin aadami ki rooh ko lene ke liye roshan chehare wale farishte jannat ki khushboo aur jannat ka libaas le kar aate hai aur kafir (Na Farmaan) ki rooh ko lene ke liye kale chehare wale farishte intihai badbudar taat ka libaas le kar aate hai.
Momin aadami ki rooh ke liye har aasmaan ka darwaza khol diya jata hai aur phir ALLAH ke hukm se har aasmaan ke mozud farishte use zameen men us ki kabr tak chodne aate hai, jabki kafir (Na Farmaan) ki rooh ke liye kisi aasmman ka darwaza nahi khola jata aur use aasmaan se hi zameen ki taraf (kabr men) faink diya jata hai.
HADEES (Targhib wa tarhib : 5221)


मौत और उसके बाद के तमाम गैबी हालात जिन का ज़िक्र किताब और सुन्नत में हुआ है उन पर कामिल ईमान होना चाहिए.

फरमाने नब्वी है.
मौत के वक़्त इंसान को इंतिहाई सख़्त हालात से गुज़रना पड़ता है
हदीस (बुखारी : 6510)

मौत के वक़्त फरिश्ते हाज़िर हो जाते है मोमिन आदमी की रूह को लेने के लिए रोशन चेहरे वाले फरिश्ते जन्नत की खुश्बू और जन्नत का लिबास ले कर आते है और काफ़िर (ना फरमान) की रूह को लेने के लिए काले चेहरे वाले फरिश्ते इंतिहाई बदबूदार टाट का लिबास ले कर आते है.
मोमिन आदमी की रूह के लिए हर आसमान का दरवाज़ा खोल दिया जाता है और फिर अल्लाह के हुक्म से हर आसमान के मोज़ूद फरिश्ते उसे ज़मीन में उस की कब्र तक छोड़ने आते है, जबकि काफ़िर (ना फरमान) की रूह के लिए किसी आसमान का दरवाज़ा नही खोला जाता और उसे आसमान से ही ज़मीन की तरफ (कब्र में) फैंक दिया जाता है.
हदीस (तार्घिब व तरहिब : 5221)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

JO ALLAH KA QURB HASIL KARTA HAI ALLAH USE MEHFUZ RAKHTA HAI.

जो अल्लाह का क़ुर्ब हासिल करता है अल्लाह उसे महफूज़ रखता है.


FARMANE NABVI HAI.
NABI KARIM (sallallaahu alaihi wasallam) ne farmaya.
ALLAH subhanahu farmata hai  Jisne mere kisi wali (Dost) se Dushmani ki usey meri taraf se Elan-e-Jung hai  aur Mera banda jin jin ibadaton se Mera Qurb hasil karta hai  (yani mere kareeb aata hai unmein se) koi ibaadat mujhko us se ziyada  pasand nahi hai jo maine us par farz ki hai ( jaise Namaz Roza , Hajj , Zakat..) Aur mera banda farz Ada karne ke baad Nawafil ibaadat karke mujhse itna ziyada nazdeek ho jata hai ki main us se Muhabbat karne lag jata hu phir jab  main us se Muhabbat karne lag jata hu to Main uska Kaan ban jata hu jis se wo sunta hai,uski Aankh ban jata hu jis se wo dekhta hai , uska haath  ban jatahu jis se wo pakadta hai, uska panw ban jata hu jis se wo chalta hai. Aur agar mujhse maangta hai to main usey deta hu, agar wo kisi Dushman ya shaitan se meri panaah ka talib hota hai to main usko Mehfooz rakhta hun
HADEES (Sahih Bukhari : 6502)


फरमाने नब्वी है.
नबी करीम (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने फरमाया. अल्लाह फरमाता है  जिसने मेरे किसी वाली (दोस्त) से दुश्मनी की उसे मेरी तरफ से एलन-ए-जंग है  और मेरा बंदा जिन जिन इबादतों से मेरा क़ुर्ब हासिल करता है  (यानी मेरे करीब आता है उनमें से) कोई इबादत मुझको उस से ज़्यादा  पसंद नही है जो मैने उस पर फ़र्ज़ की है ( जैसे नमाज़ रोज़ा , हज्ज , ज़कात..) और मेरा बंदा फ़र्ज़ अदा करने के बाद नवाफिल इबादत करके मुझसे इतना ज़ियादा नज़दीक हो जाता है की मैं उस से मुहब्बत करने लग जाता हू फिर जब  मैं उस से मुहब्बत करने लग जाता हू तो मैं उसका कान बन जाता हू जिस से वो सुनता है, उसकी आँख बन जाता हू जिस से वो देखता है , उसका हाथ  बन जाता हूँ जिस से वो पकड़ता है, उसका पांव बन जाता हू जिस से वो चलता है. और अगर मुझसे माँगता है तो मैं उसे देता हू, अगर वो किसी दुश्मन या शैतान से मेरी पनाह का तालिब होता है तो मैं उसको महफूज़ रखता हूँहदीस (सही'ह बुखारी : 6502)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

APAS MEN IKHTILAF NA KARO BARBAD HO JAOGE.


आपस में इख्तिलाफ ना करो बर्बाद हो जाओगे.


FARMANE NABVI HAI.
NABI KARIM (sallallaahu alaihi wasallam) ne farmaya. Apas men (Quran ke bare men) ikhtilaf na kiya karo tumse pahle log isi kism ke jhagdo ki wajah se tabah ho gaye.HADEES (Sahi'h Bukahri : 3476)

Bila shubha tum pahle log ALLAH ki kitab ke bare men (Jo unke paas huaa karti thi) apsi ikhtilaf ki wajah se halak aur barbad ho gayeHADEES (Sahi'h Muslim : 6776)

Jab tum un logo ko dekho jo mutshaabeh aayat (Jinke bare men ALLAH ke siwa koi nahi janta) ka khol nikalate hai (Taki wo unke jariye ahle imaan se jhagda kar sake) to unse bacho ye wahi log hai jinke bare men ALLAH ne quran men batlaya hai.HADEES (Sahi'h Muslim : 6775)


फरमाने नब्वी है.
नबी करीम (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने फरमाया. आपस में (क़ुरान के बारे में) इख्तिलाफ ना किया करो तुमसे पहले लोग इसी किस्म के झगडो की वजह से तबाह हो गये.हदीस (सही'ह बुखारी : 3476)

बिला शूबा तुम पहले लोग अल्लाह की किताब के बारे में (जो उनके पास हुआ करती थी) आपसी इख्तिलाफ की वजह से हलाक और बर्बाद हो गयेहदीस (सही'ह मुस्लिम : 6776)

जब तुम उन लोगो को देखो जो मुतशाबेह आयात (जिनके बारे में अल्लाह के सिवा कोई नही जनता) का खोल निकलते है (ताकि वो उनके ज़रिए अहले ईमान से झगड़ा कर सके) तो उनसे बचो ये वही लोग है जिनके बारे में अल्लाह ने क़ुरान में बतलाया है.हदीस (सही'ह मुस्लिम : 6775)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

AAKHIRAT KE MUKABALE MEN DUNIYA KI HAISIYAT KUCH BHI NAHI.


आख़िरत के मुकाबले में दुनिया की हैसियत कुछ भी नही.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
يٰٓاَيُّھَا الَّذِيْنَ اٰمَنُوْا مَا لَكُمْ اِذَا قِيْلَ لَكُمُ انْفِرُوْا فِيْ سَبِيْلِ اللّٰهِ اثَّاقَلْتُمْ اِلَى الْاَرْضِ  ۭ اَرَضِيْتُمْ بِالْحَيٰوةِ الدُّنْيَا مِنَ الْاٰخِرَةِ   ۚ فَمَا مَتَاعُ الْحَيٰوةِ الدُّنْيَا فِي الْاٰخِرَةِ اِلَّا قَلِيْلٌ 
Ai Imaan walo! tumhe kya ho gaya hai? Jab tumse kaha jata hai ki ALLAH ki raah men nikal khade ho to jameen par dher ho jate ho kya tumhe aakhirat ke badle duniya hi ki jindagi par razi ho? (Agar aisa hai to sakht galti kar rahe ho kyunki) akhirat ke mukable men duniya ki jindagi ka maja (Bilkul) be hakikat hai aur intihai thoda hone ke siwa kuch nahi.QURAN (Surah Touba 09/38)

FARMANE NABVI HAI.
NABI KARIM (sallallaahu alaihi wasallam) ne farmaya. Agar ALLAH rabbul aalmin ke nazdik ye duniya ek machchhar ke par barabar bhi haisiyat rakhti hoti to wo kisi kafir (Nafarmaan) ko pani ka ek ghunt bhi na pilata.HADEES (Sunan Tirmizi : 1889)


इरशादे बारी त'आला है.
ऐ ईमान वालो! तुम्हे क्या हो गया है? जब तुमसे कहा जाता है की अल्लाह की राह में निकल खड़े हो तो ज़मीन पर ढेर हो जाते हो क्या तुम्हे आख़िरत के बदले दुनिया ही की जिंदगी पर राज़ी हो? (अगर ऐसा है तो सख़्त ग़लती कर रहे हो क्यूंकी) आख़िरत के मुक़ाबले में दुनिया की जिंदगी का मज़ा (बिलकुल) बे हक़ीकत है और इंतिहाई थोडा होने के सिवा कुछ नही.
क़ुरान (सुराह तौबा 09/38)

फरमाने नब्वी है.
नबी करीम (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने फरमाया. अगर अल्लाह रब्बुल आलमीन के नज़दीक ये दुनिया एक मच्च्छार के पर बराबर भी हैसियत रखती होती तो वो किसी काफ़िर (नफ़रमान) को पानी का एक घूँट भी ना पिलाता.हदीस (सुनन तिर्मीज़ी : 1889)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

ALLAH NAMAZ KE JARIYE GUNAHO KO MITA DETA HAI.


अल्लाह नमाज़ के ज़रिये गुनाहो को मिटा देता है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
 ۭاِنَّ الصَّلٰوةَ تَنْهٰى عَنِ الْفَحْشَاۗءِ وَالْمُنْكَرِ 
Beshak namaz aadami ko behayai aur bure kamo se rokati hai.
QURAN (Surah Ankabut 29/45)

FARMANE NABVI HAI.
NABI KARIM (sallallaahu alaihi wasallam) ne farmaya.
Ai mere sahaaba! Agar tum men se kisi aadami ke darwaze par nahar bah rahi ho aur wo usme rozana 5 waqt nahaye to tumhara kya khyal hai
ki uske mail-kuchail (Gandagi) men se koi chij baki rah jayegi?
Sahaaba ne kaha nahi! ALLAH KE RASOOL Aap ne farmaya pas yahi misaal 5 namazo ki hai. unke sath ALLAH gunaho ko mita deta hai.

HADEES (Sahi'h Muslim : 1522)


इरशादे बारी त'आला है.
बेशक नमाज़ आदमी को बेहयाई और बुरे कामो से रोकती है.
क़ुरान (सुराह अंकबूत 29/45)

फरमाने नब्वी है.
नबी करीम (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने फरमाया.
ऐ मेरे सहाबा! अगर तुम में से किसी आदमी के दरवाज़े पर नहर बह रही हो और वो उसमे रोज़ाना 5 वक़्त नहाए तो तुम्हारा क्या ख्याल है की उसके मैल-कुचैल (गंदगी) में से कोई चीज़ बाकी रह जाएगी? सहाबा ने कहा नही! अल्लाह के रसूल आप ने फरमाया पस यही मिसाल 5 नमाज़ो की है. उनके साथ अल्लाह गुनाहो को मिटा देता है.
हदीस (सही'ह मुस्लिम : 1522)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

AHLE IMAAN SE ALLAH TA'ALA NE JANNAT KA WADA KAR RAKHA HAI.


 अहले ईमान से अल्लाह त'आला ने जन्नत का वादा कर रखा है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
وَعَدَ اللّٰهُ الْمُؤْمِنِيْنَ وَالْمُؤْمِنٰتِ جَنّٰتٍ تَجْرِيْ مِنْ تَحْتِهَا الْاَنْھٰرُ خٰلِدِيْنَ فِيْهَا وَمَسٰكِنَ طَيِّبَةً فِيْ جَنّٰتِ عَدْنٍ  ۭ وَرِضْوَانٌ مِّنَ اللّٰهِ اَكْبَرُ  ۭ ذٰلِكَ هُوَ الْفَوْزُ الْعَظِيْمُ 
Imaan wale mard aur aurto se ALLAH ne un jannato ka wada farmaya hai jin ke niche nahre bah rahi hai jahan wo hamesha rahne wale hai aur un saf suthare pakiza mahal ka jo un hameshgi wali jannato men hai aur ALLAH ki razamandi sab se badi chij hai yahi jabardast kamyabi hai.
QURAN (Surah Touba 9/72)

FARMANE NABVI HAI.
NABI KARIM (sallallaahu alaihi wasallam) ne farmaya.
Jo ALLAH aur uske rasool par imaan laya, Namaz kayam ki aur ramzan ke roje rakhe' ALLAH par lazim hai ke ise jannat men dakhil kare' chahe usne ALLAH ki rah men jihad kiya ho ya is zamin men baitha raha ho jisme paida huaa.

HADEES (Bukhari : 279)


इरशादे बारी त'आला है.
ईमान वाले मर्द और औरतो से अल्लाह ने उन जन्नतो का वादा फरमाया है जिन के नीचे नहरे बह रही है जहाँ वो हमेशा रहने वाले है और उन साफ सुथरे पाकीज़ा महलो का जो उन हमेशगी वाली जन्नतो में है और अल्लाह की रज़ामंदी सब से बड़ी चीज़ है यही जबरदस्त कामयाबी है.क़ुरान (सुराह तौबा 9/72)

फरमाने नब्वी है.
नबी करीम (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने फरमाया.
जो अल्लाह और उसके रसूल पर ईमान लाया, नमाज़ कायम की और रमज़ान के रोजे रखे' अल्लाह पर लाज़िम है के इसे जन्नत में दाखिल करे' चाहे उसने अल्लाह की राह में जिहाद किया हो या इस ज़मीन में बैठा रहा हो जिसमे पैदा हुआ.

हदीस (सही'ह बुखारी : 279)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

ALLAH TA'ALA AHLE IMAAN KA WALI HAI.


अल्लाह त'आला अहले ईमान का वली है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
اَللّٰهُ وَلِيُّ الَّذِيْنَ اٰمَنُوْا  ۙيُخْرِجُهُمْ مِّنَ الظُّلُمٰتِ اِلَى النُّوْرِ
Imaan walo ka wali ALLAH khud hai wo unhe andhere se nikal kar roshni ki taraf le jata hai.
QURAN (Surah Bakra 2/257)

ۭوَاللّٰهُ وَلِيُّ الْمُؤْمِنِيْنَ  
Aur ALLAH hi ahle imaan ka wali wa sahara hai.
QURAN (Surah Imran 3/68)

(Imaam Tabri r.a.) "ALLAH ahle imaan ka wali hai" ka matlab ye hai ke ALLAH ahle imaan ka madadgar aur sathi (Dost) hai
aur "unhe andhere se nikal kar roshni ki taraf le jata hai" ka matlab ye hai ke unhe kufr ke andhere se nikal kar imaan ki roshni ki taraf le jata hai.
(Tafseer Tabari : 5/424)


इरशादे बारी त'आला है.
ईमान वालो का वली अल्लाह खुद है वो उन्हे अंधेरे से निकाल कर रोशनी की तरफ ले जाता है.
क़ुरान (सुराह बकरा 2/257)

और अल्लाह ही अहले ईमान का वली व सहारा है.
क़ुरान (सुराह इमरान 3/68)

(इमाम तबरी र.अ.) "अल्लाह अहले ईमान का वली है" का मतलब ये है के अल्लाह अहले ईमान का मददगार और साथी (दोस्त) है
और "उन्हे अंधेरे से निकाल कर रोशनी की तरफ ले जाता है" का मतलब ये है के उन्हे कुफ्र के अंधेरे से निकाल कर ईमान की रोशनी की तरफ ले जाता है.

(तफ़सीर तबरी : 5/424)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

IMAAN KE ARKAAN.


ईमान के अरकान। 


Imaan ke 6 Arkaan hai in me se ek arkaan bhi sakit ho jaye to insaan momin nahi rahta chahe wo lakh imaan ki duaye karta rahe jaise ek imaarat apne tamam sutuno (Pillar) par hi kayam rah sakti hai isi tarah imaan bhi apne tamam arkaan ke jariye hi mukmmal ho sakta hai.

1) ALLAH PAR IMAAN.
2) FARISHTON PAR IMAAN.
3) AASMANI KIATABON PAR IMAAN.
4) NABIYON PAR IMAAN.
5) AKHIRAT KE DIN PAR IMAAN.
6) ACHCHI BURI TAKDEER PAR IMAAN.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
لَيْسَ الْبِرَّ اَنْ تُوَلُّوْا وُجُوْھَكُمْ قِـبَلَ الْمَشْرِقِ وَالْمَغْرِبِ وَلٰكِنَّ الْبِرَّ مَنْ اٰمَنَ بِاللّٰهِ وَالْيَوْمِ الْاٰخِرِ وَالْمَلٰۗىِٕكَةِ وَالْكِتٰبِ وَالنَّبِيّٖنَ
Sari achchai mashrik (East) magrib (West) ki taraf munh karne men hi nahi balki hakikat men achcha wo hai jo ALLAH par, Kayamat ke din par, Farishton par, kitab ALLAH par aur Ambiyao par imaan rakhne wala ho.
QURAN (Surah Bakra 2/177)


ईमान के 6 अरकान है इन मे से एक अरकान भी साकित (छूट) हो जाए तो इंसान मोमिन नही रहता चाहे वो लाख ईमान की दुआए करता रहे जैसे एक इमारत अपने तमाम सुतुनो (Pillar) पर ही कायम रह सकती है इसी तरह ईमान भी अपने तमाम अरकान के ज़रिये ही मुकम्मल हो सकता है.
1) अल्लाह पर ईमान.
2) फरिश्तों पर ईमान.
3) आसमानी किताबों पर ईमान.
4) नबीयों पर ईमान.
5) आख़िरत के दिन पर ईमान.
6) अच्छी बुरी तकदीर पर ईमान.


इरशादे बारी त'आला है.
सारी अच्छाई मशरीक (East) मगरिब (West) की तरफ मुँह करने में ही नही बल्कि हक़ीकत में अच्छा वो है जो अल्लाह पर, कयामत के दिन पर, फरिश्तों पर, किताब अल्लाह पर और अंबियाओ पर ईमान रखने वाला हो.क़ुरान (सुराह बकरा 2/177)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

SHIRK KARNE WALO PAR JANNAT HARAM KAR DI GAI HAI.


शिर्क करने वालो पर जन्नत हराम कर दी गई है.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.
ۭاِنَّهٗ مَنْ يُّشْرِكْ بِاللّٰهِ فَقَدْ حَرَّمَ اللّٰهُ عَلَيْهِ الْجَنَّةَ وَمَاْوٰىهُ النَّارُ  
Yakinan jo ALLAH ke sath  shirk karta hai ALLAH ne us par jannat haram kar di hai aur us ka thikana dozakh hai.
QURAN (Surah Maida 5/74)

FARMANE NABVI HAI.
NABI KARIM (sallallaahu alaihi wasallam) ne farmaya.
Jo is haal men fot (mara) huaa ke ALLAH ke sath kuch bhi (Kisi ko bhi) sharik karta tha wo dozakh men jayega.

HADEES (Sahi'h Muslim : 93)

इरशादे बारी त'आला है.
यक़ीनन जो अल्लाह के साथ  शिर्क करता है अल्लाह ने उस पर जन्नत हराम कर दी है और उस का ठिकाना दोज़ख़् है.
क़ुरान (सुराह मायदा 5/74)

फरमाने नब्वी है.
नबी करीम (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने फरमाया.
जो इस हाल में फोत (मरा) हुआ के अल्लाह के साथ कुछ भी (किसी को भी) शरीक करता था वो दोज़ख़् में जाएगा.

हदीस (सही'ह मुस्लिम : 93)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

ROJE KAYAMAT SHIRK KARNE WALO KO TOUHEED KA IKRAR KOI FAYADA NAHI DEGA.


रोजे कयामत शिर्क करने वालो को तौहीद का इकरार कोई फ़ायदा नही देगा.


IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

فَلَمَّا رَاَوْا بَاْسَنَا قَالُوْٓا اٰمَنَّا بِاللّٰهِ وَحْدَهٗ وَكَفَرْنَا بِمَا كُنَّا بِهٖ مُشْرِكِيْنَ    فَلَمْ يَكُ يَنْفَعُهُمْ اِيْمَانُهُمْ لَمَّا رَاَوْا بَاْسَـنَا ۭ سُنَّتَ اللّٰهِ الَّتِيْ قَدْ خَلَتْ فِيْ عِبَادِهٖ ۚ وَخَسِرَ هُنَالِكَ الْكٰفِرُوْنَ   
Hamare azab ko dekhte hi kahne lagege ke ALLAH wahid (Ek) par ham imaan laye aur jin-jin ko ham us ka sharik bana rahe the hamne un sab ka inkar kiya.
lekin hamare azab ko dekh lane ke baad un ke imaan ne unhe koi fayada na diya ALLAH ne apna mamul yahi mukarrar kar rakha hai jo us ke bando men barabar chala aa raha hai.
(Yani azab dekhne ke baad to tauba aur imaan kabile kabul nahi aur ab aiso ke liye siwa nuksan aur halakat ke kuch nahi)

QURAN (Surah Gaafir 40/84-85)

FARMANE NABVI HAI.
NABI KARIM (sallallaahu alaihi wasallam) ne farmaya.
Roje kayamat ALLAH us shakhs se puchega jise dozakh ka sabse halka azab diya jayega' Agar tere paas duniya ki doulat mojud ho to apne aap ko azab se bachane ke liye ise bator fidiya (Firoti) de sakta hai?
Wo shakhs kahega ke ji han' us par ALLAH famayega ke jab tu aadam ki pith men tha to mene tujh se isse bhi mamuli chij ka mutalba (maang) kiya tha ke mere sath kisi ko sharik na karna lekin tune meri na farmani aur mere sath shirk kiya.

HADEES (Sahi'h Bukhari : 3334)

इरशादे बारी त'आला है.
हमारे अज़ाब को देखते ही कहने लगेगे के अल्लाह वाहिद (एक) पर हम ईमान लाए और जिन-जिन को हम उस का शरीक बना रहे थे हमने उन सब का इन्कार किया.
लेकिन हमारे अज़ाब को देख लेने के बाद उन के ईमान ने उन्हे कोई फ़ायदा ना दिया अल्लाह ने अपना मामूल यही मुक़र्रर कर रखा है जो उस के बन्दो में बराबर चला आ रहा है.
(यानी अज़ाब देखने के बाद तो तौबा और ईमान कबीले काबुल नही और अब ऐसो के लिए सिवा नुकसान और हलकात के कुछ नही)
क़ुरान (सुराह गाफ़िर 40/84-85)

फरमाने नब्वी है.
नबी करीम (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने फरमाया.
रोजे कयामत अल्लाह उस शख्स से पुछेगा जिसे दोज़ख़् का सबसे हल्का अज़ाब दिया जाएगा' अगर तेरे पास दुनिया की दौलत मोजूद हो तो अपने आप को अज़ाब से बचाने के लिए इसे बतोर फिदिया (फ़िरोती) दे सकता है?
वो शख्स कहेगा के जी हाँ' उस पर अल्लाह फरमाएगा के जब तू आदम की पीठ में था तो मेने तुझ से इससे भी मामूली चीज़ का मुतालबा (माँग) किया था के मेरे साथ किसी को शरीक ना करना लेकिन तूने मेरी नाफ़रमनी और मेरे साथ शिर्क किया.

हदीस (सही'ह बुखारी : 3334)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}