Wednesday, 8 February 2017

SHIRK SABSE BADA JULM HAI.

शिर्क सबसे बड़ा ज़ुल्म है.

IRSHADE BAARI TA'ALA HAI.

وَاِذْ قَالَ لُقْمٰنُ لِابْنِهٖ وَهُوَ يَعِظُهٗ يٰبُنَيَّ لَا تُشْرِكْ بِاللّٰهِ ڼ اِنَّ الشِّرْكَ لَظُلْمٌ عَظِيْمٌ  
Jab lukmaan (Alaihisalam) ne nasihat karte huye apne ladke ko farmaya ke ai mere pyare bachche! ALLAH ke sath sharik na karna' beshak shirk bahut bada julm hai.
QURAN (Surah Lukmaan 31/13)

اَلَّذِيْنَ اٰمَنُوْا وَلَمْ يَلْبِسُوْٓا اِيْمَانَهُمْ بِظُلْمٍ اُولٰۗىِٕكَ لَهُمُ الْاَمْنُ وَهُمْ مُّهْتَدُوْنَ 
Jo log imaan rakhte hai aur apne imaan ko julm (yani shirk) se makhlut (milate) nahi karte' aiso ke liye hi aman hai aur wahi sahi raste par chal rahe hai.
QURAN (Surah An'aam 6/82)

FARMANE NABVI HAI.

Hazrat Abdullah bin masood (Razi Allah Anhu) bayan farmate hai ke jab ye ayaat najil hui to sahaba par bahut gira gujari aur unhone kaha ke ham men se koun hai jis ne imaan lane ke baad julm na kiya ho?
NABI KARIM sallallaahu alaihi wasallam ne farmaya is ayaat se murad wo nahi hai jo tum samajh rahe ho balki yahan julm se murad shirk hai kya tum ne lukmaan (Alaihisalam) ki baat nahi suni jo unhone apne bachche se kahi thi ke shirk sab se bada julm hai.

HADEES (Sahi'h Bukhari : 32-336)

इरशादे बारी त'आला है.
जब लुक़मान (अलैहिसलाम) ने नसीहत करते हुए अपने लड़के को फरमाया के ऐ मेरे प्यारे बच्चे! अल्लाह के साथ शरीक ना करना' बेशक शिर्क बहुत बड़ा ज़ुल्म है.
क़ुरान (सुराह लुक़मान 31/13)

जो लोग ईमान रखते है और अपने ईमान को ज़ुल्म (यानी शिर्क) से मखलूत (मिलते) नही करते' ऐसो के लिए ही अमन है और वही सही रास्ते पर चल रहे है.
क़ुरान (सुराह अन'आम 6/82)

फरमाने नब्वी है.
हज़रत अब्दुल्लाह बिन मसूद (रज़ीअल्लाहूअन्हु) बयान फरमाते है के जब ये आयात () नाजिल हुई तो सहाबा पर बहुत गिरा गुज़री और उन्होने कहा के हम में से कौन है जिस ने ईमान लाने के बाद ज़ुल्म ना किया हो?
नबी करीम (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने फरमाया इस आयात से मुराद वो नही है जो तुम समझ रहे हो बल्कि यहाँ ज़ुल्म से मुराद शिर्क है क्या तुम ने लुक़मान (अलैहिसलाम) की बात नही सुनी जो उन्होने अपने बच्चे से कही थी के शिर्क सब से बड़ा ज़ुल्म है.

हदीस (सही'ह बुखारी : 32-336)

ALLAH HAME HAQ BAAT SAMJHNE KI AUR SAHI AMAL KARNE KI TOFFIK ATA FARMAYE. {AAMIN}

No comments:

Post a Comment

For any query call+919303085901